समर्थक

गुरुवार, 15 मार्च 2018

972....ज़िन्दगी एक सफ़र है, कोई होड़ नहीं......

सादर अभिवादन। 
आज विश्व उपभोक्ता दिवस है। 
उपभोक्ता अपने अधिकारों के प्रति सजग हो सके इस हेतु कुछ उपायों पर विचार किया जाता है तथा उपभोक्ता को व्यवसायियों द्वारा ठगे जाने से बचाने के लिए कार्यक्रमों एवं नीतियों की सारगर्भित चर्चा होती है। 
भारत में भी राष्ट्रीय उपभोक्ता दिवस 24 दिसम्बर को मनाया जाता है। 
चलिए अब चलते हैं आज की पसंदीदा रचनाओं की ओर -



post-feature-image

२१ वर्ष की आयु तक हॉकिंग  भी सामान्य मेधावी बालक थे जिसकी आँखों में सैकड़ो सपने थे  एक दिन वो घटना घट गयी जिसने उन्हें एक अलग कैटेगिरी में धकेल दिया ।  जब वो 21 साल के थे तो एक बार छुट्टियाँ  मानाने के मानाने के लिए अपने घर पर आये हुए थे , वो सीढ़ी से उतर रहे थे की तभी उन्हें बेहोशी का एहसास हुआ और वो तुरंत ही नीचे गिर पड़े।उन्हें डॉक्टर के पास ले जायेगा शुरू में तो सब ने उसे मात्र एक कमजोरी के कारण हुई घटना मानी पर बार-बार ऐसा होने पर उन्हें बड़े डोक्टरो के पास ले जाया गया , जहाँ ये पता लगा कि वो एक अनजान और कभी न ठीक होने वाली बीमारी से ग्रस्त है जिसका नाम है न्यूरॉन मोर्टार डीसीस ।इस बीमारी में शारीर के सारे अंग धीरे धीरे काम करना बंद कर देते है।और अंत में श्वास नली भी बंद हो जाने से मरीज घुट घुट के मर जाता है।डॉक्टरों ने कहा हॉकिंग बस 2 साल के मेहमान है। लेकिन हॉकिंग ने अपनी इच्छा शक्ति पर पूरी पकड़ बना ली थी और उन्होंने कहा कि 
मैं 2 नहीं २० नहीं पूरे ५० सालो तक जियूँगा ।




बीच शहर के, वो हृदय जो खोलते हैं,
पागल है वो!,  सब यही बोलते है....

फितरत में, तो बस फरेब ही पलते हैं,
इस शहर में, कम ही लोग बोलते हैं...




ओठों से तब, लगा के अपने,
उसने छेड़ा प्रीत का गीत !
बाँस का टुकड़ा, बना बाँसुरी,
यायावर, प्राणों का मीत !!!!




ज़िन्दगी एक सफ़र है,
कोई होड़ नहीं,
कुछ देर इस मोड़ पर ठहरते है..
पल-दो-पल जीने के लिए । 




लख्ते-ज़िगर 
तुझे  मालूम  नहीं 
मुझे  तेरी  फिकर 






हम-क़दम का दसवें क़दम
का विषय...


आज के लिए बस इतना ही। 
मिलते हैं फिर अगले गुरूवार। 
कल आ रही हैं श्वेता सिन्हा जी अपनी प्रस्तुति के साथ। 

रवीन्द्र सिंह यादव 


11 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    आज का दिन
    व्यापारियों के लिए महत्वपूर्ण है
    आज वे उपभोक्ता दिवस की आड़ में
    नई स्कीम लाकर पुराना माल खपा देते हैं
    आभार
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर प्रस्तुति रवींद्र जी, MEME SERIES को आज के अंक में चर्चा बनाकर जन-जन तक पहुँचाने के लिए आभार, इस चर्चा में सम्मलित सभी रचनाकारों को बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  3. आदरणीय रवींद्र जी
    सुप्रभातम्,
    विश्व उपभोक्ता दिवस पर हम एक जागरूक उपभोक्ता बनने का संकल्प ले सकते हैं।
    सुंदर और सराहनीय रचनाओंं का सराहनीय संयोजन आज के अंक में। सभी रचनाएँ बहुत अच्छी हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी सामयिक हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत खूबसूरत प्रस्तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. विचारणीय विषय उपभोक्ताओं का अधिकार और क्षेत्र को समझ कर सभी उपभोक्ता ज्यादा लाभ उठा सकते हैं
    सार्थक विषय वस्तु के साथ उम्दा प्रस्तुति
    सभा रचनाकारों को बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीय रवींद्रजी, मेरी रचना को साझा करने के लिए और हमेशा की तरह एक उम्दा प्रस्तुति देने के लिए !

    उत्तर देंहटाएं
  8. आदरणीय रविन्द्र जी -- उपभोक्ता दिवस पर महत्वपूर्ण जानकारी के साथ सभी लिंक अपने आप में विशिष्ट और सार्थक हैं सभी रचनाकारों को हार्दिक बधाई | आदरणीय दिवंगत स्टीफन हाकिंग को विनम्र श्रध्दान्जली| उनका सम्पूर्ण जीवन विश्व के लिए कौतुहल और उमकी जीवटता एक प्रेरणा बना रहेगा | आपको थोड़े लेकिन महत्वपूर्ण सफल लिंक संयोजन के लिए हार्दिक बधाई |

    उत्तर देंहटाएं
  9. बेहतरीन प्रस्तुति करण उम्दा लिंक संकलन...

    उत्तर देंहटाएं
  10. रचना को अहमियत देने के लिए आभार :)

    उत्तर देंहटाएं
  11. सार्थक विषय..
    उपभोक्ताओं का अधिकार और क्षेत्र को समझ कर सभी उपभोक्ता ज्यादा लाभ उठा सकते हैं ...
    सभी रचनाएँ विशेष.. चयनित रचनाकारों को बधाई
    धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...