समर्थक

शुक्रवार, 16 मार्च 2018

973.....अजीब सी कशमकश का धुंआ

आधुनिकता वह विचार है 
जो मानव जाति में अज्ञानता और रुढ़िवादिता को 
दूर कर प्रगतिशीलता का
 बल प्रदान करती है।

आधुनिक शब्द का विश्लेषणात्मक विवेचन काफी पेचीदा है। 
हम साधारण तौर पर यह समझ सकते है कि  19 वींं से 20 वीं सदी में पश्चिमी देशों में हुये वैज्ञानिक और औद्योगिक क्रांति की वजह से समाज में हुये मूलभूत बदलाव ने ही आधुनिक युग की परिभाषा गढ़ी है। जिसकी बयार ने हमारे देश को भी प्रभावित किया।
आधुनिकता तर्क आधारित है इसी वजह से विज्ञान और 
टेक्नोलॉजी का युग संभव हो पाया है।
भारतीय समाज आज आधुनिकता के नाम पर 
शाश्वत मूल्य खोते जा रहे हैं जो कि अत्यंत चिंतनीय है। 
सोचिये न आधुनिकता का अर्थ लोग पोशाक,फर्नीचर,अध्यात्म 
रस्मों-रिवाजों से लगाने लगे है। वस्तु या व्यक्ति जो आधुनिकता के खाँचे में फिट नहीं बैठते उसका उपहास करते हैं। 
विचारों से विपन्न होकर दयालुता, पशु-पक्षी से प्रेम, लाचारों के प्रति स्नेह, सांस्कृतिक धरोहरों को सहेजना, जैसे स्वाभाविक 
मानवीय गुणों का मज़ाक बनाकर किस प्रकार की 
आधुनिकता का निर्वहन कर रहे हम पता नहीं।

सादर नमस्कार
अब चलिए आप सभी की रचनात्मकता के सागर में...
📖 📖 📖

आदरणीय विश्वमोहन जी की लेखनी से मुखरित 
My photo
अ परिचित उर्मी सी आ तू ,
जलधि वक्ष पर चढ़ आई.
ह्रदय गर्त में धंस धंसकर
तू धड़कन मेरी पढ़ आयी.
संग प्रीत-रंग, सारंग-तरंग
तू धरा कूल की ओर बही,
◆◆◆★◆◆◆

आदरणीया रश्मि प्रभा जी
हृदयविदारक स्वर में पूछना चाहती हूँ
तथाकथित अपनों से
समाज से
आसपास रोबोट हो गए चेहरों से
कि क्या सच में तुम इतने व्यस्त हो गए हो
◆◆◆◆★◆◆◆◆
आदरणीय सतीश सक्सेना जी की सार्थक संदेश प्रेषित करती रचना
दर्द सारे ही भुलाकर,हिमालय से हृदय में
नियंत्रित तूफ़ान लेकर, धीमे धीमे दौड़िये !जाति,धर्म,प्रदेश,
बंधन पर न गौरव कीजिये
मानवी अभिमान लेकर, धीमे धीमे दौड़िये !
◆◆◆◆★◆◆◆◆

आदरणीय दीपक सैनी जी की रचना
My photo

अपने जीवन के इतने साल
संग मेरे बिताये तुमने हर हाल
समझ सकी न कभी मुझको
आंखों में रखे हमेशा सवाल
अपनी बातें तुम पर थोपूं
ऐसा तो मेरा अंदाज नही
◆◆◆◆★◆◆◆◆

आदरणीया विभा जी की रचना
"तुम्हारी सोच पर अफसोस हुआ... समय बदल रहा है... 
ऐसा ना हो कि स्त्रियाँ शादी से ही इंकार करने लगे।"
"मछली हर धर्म की फंस जाती है आँटी!"
◆◆◆◆★◆◆◆◆
आदरणीया आशा सक्सेना जी की कलम से
आज की दुनिया टिकी है 
प्रगति के सोच पर
नन्हीं  सी  आशा पर
उसके विस्तार पर
रहता है हर मन में
एक छोटा सा बालक
जब भी आगे  चलना सीखता है 
◆◆◆◆★◆◆◆◆
चलते-चलते..मुकेश जी.. आदत से मज़बूर लोगों की
मज़बूरियों पर एक अवलोकन...
गोल गोल घूमते
लगातार छल्लों पर छल्ला
अजीब सी कशमकश का धुंआ
बाहर आकर दूर तक जाता हुआ
जब पहली बार खींचा था अन्दर तक कश
होंठ से लगा था, गोल्ड फ्लेक वाली
फ़िल्टर वाला सिगरेट !! 
◆◆◆◆★◆◆◆◆
हम-क़दम का दसवें क़दम
का विषय...
...........यहाँ देखिए...........


◆◆◆◆★◆◆◆◆
आज के लिए बस इतना ही
आप सभी की प्रतिक्रिया की प्रतीक्षा रहती है।
अपने विचारों से अवश्य अवगत कराये।

-श्वेता सिन्हा



13 टिप्‍पणियां:

  1. वाह..
    बहुत खूब..
    आधुनिकता का आधुनिकीकरण
    अच्छी रचनाएँ
    सादर
    शुभ प्रभात

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह!!श्वेता, उम्दा प्रस्तुति ..सही कहा आपने इस आधुनिकता की अंधी दौड में खोती जा रही है हमारी सभ्यता ,संस्कृति .....। सभी लिंक एक से बढकर एक..।

    उत्तर देंहटाएं
  3. यह रचना पसंद आई इसके लिए आभार श्वेता !
    आपके द्वरा संकलित सभी लिंक प्रभावी हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेहतरीन संकलन
    उम्दा रचनायें,

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह शानदार प्रस्तुति श्वेता अंधी आधुनिकता की दौड़, एक सवाल उर्धमुखी होती भावी पीढ़ी या गर्त मे गिरती?
    सभी रचनाकारों को बधाई, सभी पठनीय विषय सामग्री।
    साधुवाद

    उत्तर देंहटाएं
  6. बेहतरीन संकलन के साथ सुंदर प्रस्तुति...
    सभी चयनित रचनाकारों को बधाई।
    किस प्रकार की
    आधुनिकता का निर्वहन कर रहे हम पता नहीं...विचारणीय सोच

    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  7. आधुनिकीकरण और पश्चिमीकरण में स्पष्ट अंतर है. आधुनिकता का परंपरा या प्राचीनता से कोई विपर्यय नहीं है प्रत्युत तार्किकता, विचारशीलता, चैतन्य, युक्तियुक्तता एवं मानवीय संस्कारों से शोभित अर्वाचीन तत्व का ही नाम है आधुनिकता! इसका सीधा सम्बन्ध सर्वांगींण उन्नयन से है न कि पदार्थवादी प्रगति से!

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर ,सार्थक और सटीक

    उत्तर देंहटाएं
  9. मेरी रचना को सम्मलित करने के लिये आभार

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  11. बेहतरीन प्रस्तुतिकरण उम्दा लिंक संकलन....
    विचारणीय भूमिका....

    उत्तर देंहटाएं
  12. श्वेता जी, सारगर्भित पृष्ठभूमि और सुन्दर प्रस्तुति। इस चर्चा में सम्मलित सभी रचनाकारों को बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  13. निःशब्द हो जाती हूँ जब स्व के भाव चयनित पाती हूँ
    सस्नेहाशीष संग आभार
    उम्दा प्रस्तुतीकरण

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...