निवेदन।


समर्थक

गुरुवार, 29 मार्च 2018

986.....आज जैन धर्म के 24 वें तीर्थकर भगवान महावीर स्वामी की जयंती है

आज जैन धर्म के 24 वें 
तीर्थकर भगवान महावीर स्वामी की जयंती है। 
जैन समुदाय का यह प्रमुख त्योहार है।
शुभकामनाएँ
सत्य,अहिंसा,औचार्य,अपरिग्रह एवं बह्मचर्य इन पाँच व्रतों का पालन जैन धर्म के अनुयायियों का मुख्य सिद्धांत है। जैन धर्म को प्रतिष्ठित करने में , व्यापकता प्रदान करने में और इसके समृद्ध दर्शन का पूरा श्रेय महावीर स्वामी को जाता है।
छोटी-छोटी बात पर तलवारें निकालकर मरने-मारने को उतारु वर्तमान  सामाजिक परिदृश्य में प्रायोजित साम्प्रदायिकता हमारे 
लिए गंभीर चिंतन का विषय है। धर्मनिरपेक्ष भारत आखिर किस
दिशा में अग्रसर है? भविष्य में इससे होने वाले दुष्परिणाम 
की पदचाप काश हम सुन पाते।

आज ही के दिन 29 मार्च 1913 को हिंदी साहित्य के 
महान कवि भवानी प्रसाद मिश्र का जन्म हुआ था।  
गाँधीवादी विचारधारा स्वच्छता, नैतिकता  और पावनता का पालन 
करने वाले दूसरे तार सप्तक के महान कवियों में एक थे।

उनकी एक रचना
उस दिन 
आँखें मिलते ही 
आसमान नीला हो गया था 
और धरती फूलवती 

चार आँखों का वह जादू 
तुम्हें यहाँ से कैसे भेजूं?
आओ तो दिखाऊं 
वह जादू 

जादू जैसे 
जँबूरे के बिना नहीं चलता 
वैसे बिना तुम्हारे 
अकेला मैं 
न आसमान 
नीला कर पाता हूँ 
न धरती फूलवती!

सादर नमस्कार
●●●●●★●●●●●
चलिए आपकी रचनात्मकता की दुनिया में-
●●●●●★●●●●●
आदरणीया राजश्री जी की कलम से
उमंगों का सैलाब है तू
तरंगों का शबाब है तू
हर सवाल का जवाब है तू
किसी तन्हा का ख्वाब है तू

●●●●●★●●●●●
आदरणीया रश्मि जी की कलम से
उँगलियाँ मचलतीं हैं

सुलझे
बाल बिखराने को
शब्दों और आँखों से
अलग बातें न करो

●●●●●★●●●●●
आदरणीय पुरुषोत्तम जी की लेखनी से

ठहर जाओ, न गीत ऐसे गाओ तुम,
रुक भी जाओ, प्रणय पीर ना सुनाओ तुम,
जी न पाऊँगा मैं, कभी इस यातना में....

●●●●●●★●●●●●●
आदरणीया मीना जी की कलम से
जब मैं तुमसे मिलूँगी,
तुमसे कुछ दूर बैठी
टकटकी लगाकर
निहारूँगी तुम्हें.....
पहचानने की कोशिश करूँगी,
महसूस तो हर पल
किया है तुम्हें,
अब जानना चाहूँगी !

●●●●●●★●●●●●●
आदरणीया नुपरम् जी की रचना
तुम एक शायर हो ।
तुम्हें पता है ? 
ना जाने 
कितने लोगों का आसरा 
तुम्हारा पता है ।

●●●●●★●●●●●●
आदरणीया आशा सक्सेना जी की रचना
काली अंधेरी रात में  
डाली अपनी नौका मैंने
इस भवसागर में
पहले वायु  ने बरजा
पर एक न मानी
फिर गति उसकी
बढ़ने लगी मनमानी
जल यात्रा लगी बड़ी सुहानी
नौका ने गति पकड़ी

●●●●●★●●●●●
आदरणीय लोकेश जी की बेहतरीन ग़ज़ल
ख़्वाबों को....
image not displayed
तूफ़ान में कश्ती को उतारा नहीं होता
उल्फ़त का अगर तेरी किनारा नहीं होता

ये सोचता हूँ कैसे गुजरती ये ज़िन्दगी
दर्दों का जो है गर वो सहारा नहीं होता

●●●●●★●●●●●

आज आदरणीय रवींद्र जी की व्यस्तता की वजह से 
प्रस्तुति जल्दबाजी में हम तैयार किये है।
कल की प्रस्तुति रवींद्र जी लेकर आयेगे।
आज की प्रस्तुति पर आप सभी सुधिजनों का 
बहुमूल्य सुझाव अपेक्षित है
●●●●●★●●●●●
और हम-क़दम..
हम-क़दम का बारहवें क़दम
का विषय...
...........यहाँ देखिए...........




20 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    सभी को जय जिनेन्द्र
    बेहतरीन प्रस्तुति
    आभार सखी
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर प्रस्तुतिकरण, सुप्रभात।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर प्रस्तुतिकरण
    उम्दा संकलन
    बेहतरीन रचनायें
    मेरी रचना को स्थान देने के लिए हार्दिक धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह...
    स्वागत है...
    आभार...
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  5. भगवान महावीर और मेरे बहुत - बहुत प्रिय कवि पंडित भवानी प्रसाद मिश्र के दिन पर मुझे भी थोड़ी सी जगह आपने दे दी .....सो आपका बहुत आभार । पंडितजी की रचना से दिन की शुरुआत तन - मन में हमेशा से ऊर्जा भर देती है ।
    सबका दिन अच्छा बीते ।
    सबकी कलम कुछ अच्छा लिखे ।
    बधाई सबको !

    उत्तर देंहटाएं
  6. दमदार हलचल ... निशाँन छोड़ती हुयी ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. उम्दा लिंक्स |मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार सहित धन्यवाद |

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर रचनायें सभी रचनाएँ उत्तम कोटि की पठनीय
    सभी रचनाकारों को बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  9. सुन्दर और और पठनीय रचनाएं। भवानी प्रसाद जी की रचनाएं हम हिंदी भाषी दिलों पर राज करती हैं। उन्हें सादर नमन
    सराहनीय प्रस्तुति
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह!!बहुत सुंंदर प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  13. महावीर स्वामी का संदेश जन-जन तक पहुंचे !

    उत्तर देंहटाएं
  14. वाह!श्वेता जी आदरणीय भवानी प्रसाद जी, की रचना के साथ आज की प्रस्तुति बहुत सुंदर बन पड़ी.. सभी चयनित रचनाकारों को बधाई एवम् शुभकामनाएं
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  15. शानदार प्रस्तुतिकरण उम्दा लिंक संकलन...

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहन श्वेता जल्दबाजी में भी इतनी सुंदर प्रस्तुति तैयार कर देती हैं, बहुत शुक्रिया मेरी रचना को स्थान देने हेतु !!!
    पंडित भवानीप्रसाद मिश्र जी की यह कविता साझा करने के लिए विशेष आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत सुन्दर प्रस्तुतियाँ ।
    मुझे मीनाजी की रचना "जब मैं तुमसे मिलूँगी" बेहद पसंद आया ।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...