समर्थक

शनिवार, 17 मार्च 2018

974... सफर




Related image

सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष
अपने को सही साबित करने के लिए
स्व की बात तो तर्क के कसौटी पर कसा हो
कितने सवालों में उलझाये रहेगा ये


भूल दुनियां की हर ज़िम्मेदारी को ,
बस सच और सपनो का जहाँ जोड़ रहा,
कोई शिकायत नहीं मुझको बहकने से,
मगर स्वप्न सदैव आँखों में ठहरता नहीं,
जाग फिर जीवन की राहों पर जाना है,
संग कोई हो ना हो सफर तो करना है|



Image result for सफर पर कविता




आज तू और ये रेल, मुझपे दोनों ही मेहरबान है..
तुम्हारे दिल पे मेरा जोर, और इंजन के सीटियों का शोर,
है ये रोमांचकारी भोर, जो ले जा रहा सपनों की ओर,
सरपट दौड़ता ट्रेन का चक्का, और साथ तुम्हारा पक्का,


Related image



और मै था अंजान...|
पांव तले कितनी राहें रुख कर गई...
ना पूछा,ना रोका,ना टोका,ना सोचा,
पता नही आखिर जिंदगी को क्या तलाश है...|


✵☽♚ ✧ for more follow on INSTA @love_ushi OR PINTEREST @anamsiddiqui12294 ✧ ╳ ♡Related image




फिर मिलेंगे... जरा विलम्बिये...

आप अपनी रचना शनिवार 17  मार्च 2018  
शाम 5 बजे तक भेज सकते हैं।
चुनी गयी श्रेष्ठ रचनाऐं आगामी सोमवारीय
अंक 19 मार्च 2018  को प्रकाशित की जाएगी । 
इस विषय पर सम्पूर्ण जानकारी हेतु हमारे पिछले गुरुवारीय अंक 
11 जनवरी 2018  का अवलोकन करें






6 टिप्‍पणियां:

  1. आदरणीय दीदी
    होने वाली है
    परीक्षा बच्चों की
    खतम..और
    सफर शुरू
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. हमेशा की तरह अलग ..
    बहुत बढिया
    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. आदरणीय विभा दीदी ---- आखिर आपके संयोजित लिंक का दिन आ ही जाता है जिसका बड़ी उत्सुकता से इन्तजार रहता है | सफर का सफर बड़ा रोचक है | इसे अपनी - अपनी नजर से देखती रचनाकारों की लेखनी सार्थक हुई है | सभी लिंक देख लिए हैं सभी ने बेहतरीन लिखा है | प्रिय राशी जी के ब्लॉग पर लिखना संभव नहीं हो पाया जिसका मुझे खेद रहा | ब्रहमांड में हर शैय गर्दिश में है | क्या सितारे , क्या नदियाँ , क्या पंछी और क्या इंसान हरेक अपने सफर में गुम है | शायरों ने खूब कलम चलायी जिन्दगी के इस सफर पर --किसी ने लिखा --
    सफर वहीं तक है जहाँ तक तुम हो,
    नजर वहीं तक है जहाँ तक तुम हो,
    हजारों फूल देखे हैं इस गुलशन में मगर,
    खुशबू वहीं तक है जहाँ तक तुम हो...

    पर साथ में किसीने जीवन की सच्चाई को बहुत बेहतरीन लिखा -------

    सफ़र में कोई किसी के लिए ठहरता नहीं
    न मुड़ के देखा कभी साहिलों को दरिया ने--

    अपनी कहें तो आभासी जगत से जुड़कर बहुत जीवन का सफर बहुत ही रोचक लग रहा है | सभी रचनाकारों को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं | आपको सुंदर , सार्थक संयोजन लिंकों को खोजने के विशेष आभार | सादर ---

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह !!! बहुत सुंदर .. शानदार

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  6. शुभसंध्या विभा दी:)
    हमेशा की तरह लाज़वाब रचनाओं की संतुलित प्रस्तुति... बहुत ही सराहनीय है रचनाएँ सारी।
    आभार दी
    सादर।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...