समर्थक

शनिवार, 3 मार्च 2018

960... बसियौरा



Image result for 960

960 का जोड़ अंक 6
आप ये न कहना 9

सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष
हुआ जो आके आश्कार होली का
बजा रबाब से मिलकर सितार होली का
सुरुद रक्स हुआ बेशुमार होली का
हंसी खुशी में बढ़ा करोबार होली का
जुबां पे नाम हुआ बारबार होली का।
                                             
।। नजीर अकबरबादी।।
  **  होली मुबारक**
©निवेिदता
आज बसियौरा होली है. बसियौरा माने बासी.
बिहार में लगभग हर बड़े त्यौहार का बसियौरा मनाया जाता है
 या फिर उसको छोटा-बड़ा में बाँट देते हैं. दीवाली में बच्चों का एक दिन से मन नहीं भरता
तो एक दिन पहले छोटी दिवाली कर दिया. बचे पटाखों का स्टॉक ख़त्म करने के लिए
 एक दिन बाद बसियौरा दिवाली भी मना लेते हैं. वैसे ही बसियौरा दसहरा
और बसियौरा होली भी. होली के फंक्शन की तैयारी में इस पर
 कुछ लिख नहीं पाया. दिमाग में आ रहा था कुछ कुछ.
फिर लगा क्यों न एक बसियौरा पोस्ट ही ठेल दी जाये..
तो पहले आपको होली मुबारक
बसियौरा



दोहे रमेश के


सूना-सूना है बडा, .....होली का त्योहार !
ओठों पे मुस्कान ले, आ भी जाओ यार !!

दिखी नहीं त्यौहार में, शक्लें कुछ इस बार !
थी जिनकी मुस्कान ही, पिचकारी की धार !!


होली

उड़त गुलाल लाल भए बादर
आसमान रंगों की झालर
झरे अबीर चले पछवैया
आँगन बोले सोन चिरैया
मन के द्वार, नयन के पनघट
रंग बिखरते मिठबोली के


होली

राम रहीम बने हमजोली
डालें रंग बनाकर टोली
कोई धर्म हो कोई जाति
सभी बने है संगी-साथी
गले लगे सब लगा गुलाल
दिल में ना अब कोई मलाल


होली


"नेताजी की होली"

रंग उड़े चेहरे हैं, कौन रंग डालोगे
मांस रहित हड्डियां हैं, कब तक संभालोगे ।
फिर मिलेंगे....

अरे जरा ठहरें
 क़दम हम
सभी के लिए एक खुला मंच
आपका हम-क़दम आठवें क़दम की ओर
इस सप्ताह का विषय है
:::: उदास ::::
उदाहरणः
जब कभी उकेर लेती हूँ तुम्हें 
अपनी नज़्मों में !

आँसुओं से भीगे 
गीले, अधसूखे शब्दों से!!

सूख जायेंगी गर कभी 

आप अपनी रचना आज शनिवार 03 मार्च 2018  
शाम 5 बजे तक भेज सकते हैं। चुनी गयी श्रेष्ठ रचनाऐं आगामी सोमवारीय अंक 05 मार्च 2018  को प्रकाशित की जाएगी । 
इस विषय पर सम्पूर्ण जानकारी हेतु हमारे पिछले गुरुवारीय अंक 


12 टिप्‍पणियां:

  1. आदरणीय दीदी
    सादर नमन
    मालपुआ तो है न अभी
    बासी में ही आनन्द आता है
    एक यादगार प्रस्तुति
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह्ह...वाह्ह्ह...लाज़वाब बसियौरा है दी:)
    सारी रचनाएँ एक से बढ़कर एक...👌
    आभार आपका दी सुंदर प्रस्तुति और जानदार रचनाओं के लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बढिया बसियौरा..सुंदर संकलन।
    सभी रचनाकारों को बधाई
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी रंगारंग प्रस्तुति
    सभी को होली की हार्दिक शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत अच्छी प्रस्तुति
    सभी को होली की हार्दिक शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  6. आदरणीय दीदी, लाज़वाब प्रस्तुति , बसियौरा हम भी मना रहे हैं,आप के संग।
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  7. आदरणीया ,होली के रंग की तरंग तो सप्ताह भर चलती है ।बासी रोटी और त्योहारी बसियौरा खाने का आनंद ही अलग है । रंगों में सराबोर लाज़वाब प्रस्तुति।शुभकामनाएँ ।
    सादर ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर बसियारा ....रंग बिरंगी पेशकश

    उत्तर देंहटाएं
  9. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  10. आदरनीय विभा दीदी ------ ब्लॉग जगत में आपसी भाई चारे के बहुत सुंदर रंग बिखरे हैं | इन्ही में एक कड़ी जोड़ी है आज की प्रस्तुती ने | '' बसियौरा '' शब्द मेरे लिए नितांत नया - नवेला है | बिहार की भूमि की अपनी सांस्कृतिक पहचान है | ब्लॉग जगत में भी बिहार से साहित्य साधकों ने अपनी प्रतिभा के झंडे बुलंद कर रखे है जिनके लेखों के माध्यम से बिहार के बारे में नित नयी बातें पता चलती रहती है | आज जो पता चला पहले कभी नहीं सुना | आभारी हूँ आपकी ' बसियौरा ' से परिचय कराने के लिए | होली खूब मस्त रही सभी ने होली सृजन में अद्भुत रचनाकर्म कर साहित्य में अतुलनीय योह्दान दिया | आज की सभी रचनाएँ देखी - हमेशा की तरह कोई भी रचना नजरअंदाज करने लायक नहीं | रंग बिरंगी रचनायों ने आज भी होली का एहसास करवाया |



    ओ रे ! रघुवा -गारे फगवा ,

    फागुन जाने वाला है रे !

    भांग, ठंडाई खूब चढ़ाई ;

    बड़े लाला पे मस्ती छाई

    गोरी मुस्काए जिया चुराए -

    चम्पा सी महके हर मन को भाई -

    इन पल में तू जी - जी भरकर

    पी मस्ती का प्याला रे !!



    बंशी की धुन- बैठ बजा रे -

    कच्चे घाट पे नदी किनारे -

    सुन थिरके हर मन मतवाला ;

    ऊँच- नीच ना दिखे कहाँ रे ?

    धो दे आज मैल कलुषित मन की -

    उजला हो हर मन काला रे !!!!!!

    सभी रचनाकार साथियों को होली की शुभकामनाये | आज मैंने भी बसियौरा मनाया आपके साथ | सादर आभार और नमन | होली मुबारक हो |









    उत्तर देंहटाएं
  11. रसमय प्रस्तुति में नये शब्द से परिचय. विविधता से परिपूर्ण सुन्दर प्रस्तुति. सभी चयनित रचनाकारों को बधाई एवं शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...