समर्थक

बुधवार, 14 मार्च 2018

971..जरूरत है उन झरोखों को खोलना..


।प्रात: वंदन।

आज आदमी आदमी न रहा.. 

इस वाक्यों से आप सभी वाकिफ होगें..

सवाल है तो आदमी क्या रहा? 

आदमियत कहाँ गई?

अच्छाइयां और कमियां तो सदा से रही पर  व्यवहार, विवेक, विचारों का संतुलन 

न होना ही आदमियत विनाश का कारण है ।जरूरत है उन झरोखों को खोलना जहाँ से वही पुरानी नमी, संवेदनशील विचारों की

 हवाएँ आती हो..



संतुलन की अपेक्षाओं के साथ अब रूख करें आज की लिंकों पर..✍

🔳





हे बादल!

अब मेरे आँचल में तृणों की लहराई डार नहीं,

न है तुम्हारे स्वागत के लिये
ढेरों मुस्काते रंग
मेरा ज़िस्म
ईंट और पत्थरों के बोझ के तले
दबा है।
उस तमतमाये सूरज से भागकर
जो उबलते इंसान इन छतों के नीचे पका करते हैं
तुम नहीं जानते...
🔳






मच्छर और आदमी का अनुवांशिक संबंध

मच्छरों का मस्तिष्क आदमी से अधिक विकसित है और उसकी बुद्धि भी! आपको विश्वास नहीं होता तो विश्वास कर लीजिए नहीं 

तो एहसास कर लीजिए। जैसे कि

 वैज्ञानिक शोधों से यह पता लग चुका है कि मच्छरों पर एक तरह के जहर का प्रभाव एक बार ही होता है। दूसरी बार वह अपने शरीर में प्रतिरोधक क्षमता बढ़ा कर उस जहर का काट ..

🔳







कल वाले लेमनचूस

थोड़ा पागलपन भेजवादो

और ज़रा से लेमनचूस,

जीवन इतना खट्टा हो गया

दिल के इन गड्ढों से पूछ। 

भोर का सूरज जगा नहीं है 

चंदा निदिया को तरसे,

फूल गंध से बिछड़ गए हैं

🔳




जिस मरने से जग डरे

हम जीवन से प्रेम करते हैं पर मृत्यु से डरते हैं. यह जानते हुए भी कि एक दिन यह देह छूटने वाली है, मृत्यु के बारे में जानना तो दूर सोचना भी नहीं चाहते. सुकरात को जब जहर दिया गया तो उसने अपने साथियों से कहा, मृत्यु कैसे 

🔳



 मयंक शुक्ला जी की रचना..


आज के जीवन पर सबसे बेहतर पंक्तिया " वक़्त का दर्रा दर्रा"  वक़्त का दर्रा दर्रा बिता जा रहा है, यादो के पन्नो को समेटा जा रहा है।  

इस भागदौड़ की जिंदगी में, इस कदर उलझे हुए हैं, ऐसा लग रहा है कि जिंदगी को बस घसीटा जा रहा है।    



🔳    






तो क्या हो गया- 

हाँ मचला था कुछ  पल को  दिल फिर सो  गया
आज उससे फिर मिल भी लिये तो क्या हो गया
मोहब्बत की राहों में  हर किसी को भटकना  है
सामना उनसे अगर हो भी गया तो क्या हो गया
माना  की  ज़ख्म  अभी अभी  तो भरा  था  मेरा

🔳    
हम-क़दम का दसवें क़दम
का विषय...



आज बस यहीं तक कल हाजिर होते हैं एक नई प्रस्तुति के साथ..

।।इति शम।।

धन्यवाद

पम्मी सिंह..✍


13 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    शानदार संयोजन
    आभार
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. सस्नेहाशीष
    सुंदर प्रस्तुतीकरण

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर,अलग अलग विधा और शैली की रचनाओं का संकलन ! बेहतरीन प्रस्तुति आदरणीया पम्मी जी।

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह लाजवाब संयोजन पम्मी जी विविधता समेटे सार्थक रचनाओं का सुंदर गुलदस्ता ।
    बहुत सटीक भुमिका प्रश्न वाचक
    सभी रचनाकारों को हार्दिक बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुप्रभात पम्मी जी,
    सुंदर सराहनीय रचनाओं के संकलन शानदार प्रस्तुति के साथ। विचारणीय भूमिका लिखी है आपने।
    बहुत सुंदर संयोजन।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बेहतरीन प्रस्तुति
    सभी रचनाकारों को हार्दिक बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  7. सही खा है आपने, संवेदनशीलता की कमी ही समाज में बिखराव का कारण है, नीरज के शब्दों में, आदमी को आदमी बनाने के लिए थोड़ा सा हो, आँखों वाला पानी चाहिए..सुंदर सूत्रों से सजी प्रस्तुति !

    उत्तर देंहटाएं
  8. सही पंक्तियाँ हैं...
    "आदमी को आदमी बनाने के लिए जिंदगी में प्यार की कहानी चाहिए और कहने के लिए कहानी प्यार की, स्याही नहीं, आँखों वाला पानी चाहिए"।

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह!सुंंदर भूमिका के साथ ,लाजवाब लिंक संयोजन । सभी रचनाकारों को हार्दिक बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  11. बेहतरीन प्रस्तुतिकरण उम्दा लिंक संकलन...
    आदमी आदमी न रहा...आदमियत कहाँ गयी....
    एकदम सटीक....

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...