निवेदन।


समर्थक

बुधवार, 9 जनवरी 2019

1272..धूप सखी की अँगुली पकड़े..


।।प्रातः अभिनंदन।।
"कुहरे की झीनी चादर में
यौवन रूप छिपाये
चौपालों पर
मुस्कानों की आग उड़ाती जाये
गाजर तोडे
मूली नोचे
पके टमाटर खाये
गोदी में इक भेड़ का बच्चा
आँचल में कुछ सेब
धूप सखी की अँगुली पकड़े
इधर-उधर मँडराये"
~ निदा फाज़ली
सर्दियों का आनंद उठाते हुए,अब नज़र डालें आज की लिंकों पर..✍
♦♦

मनीष प्रताप  सिंह 'मोहन' जी की ग़ज़ल..

मैं भीड़ में भी हूँ, और तन्हाइयाँ भी है ।
आसान नहीं जिंदगी, कठिनाइयाँ भी है ।
यादों की शाम सजाकर , बैठा मैं चाँद पर,
बादल घिरे अतीत के, पुरवाइयाँ भी है ।
♦♦
दुर्भाग्य यह कि ये वो ही अर्चना वर्मा है जिन्हें राजेन्द्र यादव ने छापा और मंच दिया हंस का
60 के बाद अक्ल का कोई भरोसा नही, ..
♦♦
आदरणीय पुरूषोत्तम जी की..उम्र के पड़ावों 
का सुन्दर चित्रण..

उस दरमियाँ, था मैं भी कभी जवाँ,
उत्थान ही, दिखता था हर पल,
मोर सा, आसमान, नाचता था सर पर,
♦♦
आदरणीया अनुराधा चौहान जी की रचना..

रात ने अंगड़ाई ली
बर्फीली हवाओं में
तेरी यादों ने आवाज़ दी
♦♦
आजकल कुछ बोलने की इच्छा नहीं होती शब्द 
जैसे  चूकसे गये हैं. तो आज सिर्फ मौन.....
आदरणीया  मुकुल कुमारी अमलास जी की 
रचना के साथ ..बस..यहीं तक..

भावनाओं को व्यक्त करने में
हो जाते असमर्थ
तब बचता
एक ही सहारा
♦♦
हम-क़दम का नया विषय
यहाँ देखिए
।।इति शम।।
धन्यवाद
पम्मी सिंह'तृप्ति'...✍




17 टिप्‍पणियां:

  1. जब कोई ख़ुद में सिमट आता
    तो उतर आता - मौन
    अपनी पूरी पारदर्शिता
    निश्छलता के साथ
    हृदय घट में निष्कारण
    सारे शब्दों पर पड़ता भारी


    बहुत सुंदर संकलन,सभी को सुबह का प्रणाम।

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभ प्रभात.

    मौन
    कभी-कभी शब्द
    भावनाओं को व्यक्त करने में
    हो जाते असमर्थ
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर भूमिका, उम्दा संकलन।

    उत्तर देंहटाएं
  4. मनमोहक प्रस्तावना के साथ सुन्दर लिंक्स संकलन ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर अंक बेहतरीन रचनाएं सभी रचनाकारों को बहुत बहुत बधाई मेरी रचना को स्थान देने के लिए आपका बहुत बहुत आभार पम्मी जी

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह!!बहुत खूबसूरत संकलन ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. 'पांच लिंकों का आंनद'में मेरी रचना को स्थान देने के लिये पम्मी को बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेहतरीन रचनाये.......... पम्मी जी ,सभी रचनाकारों को बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  9. बेहतरीन हमक़दम का संकलन ,
    बहुत अच्छी रचनाएँ
    सभी रचनाकारों को हार्दिक शुभकामनायें
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह्ह्ह... लाज़वाब... शानदार..भूमिका..एक से बढ़कर एक रचनाएँ पम्मी जी आनंद आ गया...आभार एक बहुत बेहतरीन अंक के लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  11. शानदार प्रस्तुतिकरण उम्दा पठनीय लिंक संकलन...

    उत्तर देंहटाएं
  12. रचनाओं का बहुरंगी संकलन। रचनायें मन को छू जाने वाली है । मेरी रचना को इस मंच पर स्थान देने के लिए पम्मी जी का विशेष आभार।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...