निवेदन।


समर्थक

मंगलवार, 8 जनवरी 2019

1271...बिल्ली कभी नही थी घंटी जरूर थी

सादर अभिवादन...
कुलदीप जी आज नहीं हैं
सो आज हम हैं...

पढ़िए आज हमारी पसंदीदा रचनाएँ...

फगुनाहट ले आना.... शशि पुरवार
जर्जर होती राजनीति की 
कुछ आहट ले आना 
नए साल तुम कलरव वाली 
आहट ले आना

भाग रहे सपनों के पीछे 
बेबस होती रातें 
घर के हर कोने में रखना 
नेह भरी सौगातें

खुशियों का आगाज़ सुनो !!..... मुदिता
सर्द रातों में
कोहरे की चादर से
ढके माहौल को
धुंधलाती आँखों के परे
महसूसते हुए
होती है सरगोशी अक्सर
कानों में
"मेरी आवाज सुनो"!

आशाओं का दामन..... लोकेश नदीश

ये सहज प्रेम से विमुख ह्रदय
क्यों अपनी गरिमा खोते हैं
समझौतों पर आधारित जो
वो रिश्ते भार ही होते हैं

क्षण-भंगुर से इस जीवन सा हम
आओ हर पल को जी लें
जो मिले घृणा से, अमृत त्यागें
और प्रेम का विष पी लें

शराफत की ठण्ड से.... ज्योति खरे

शराफत की ठंड से सिहर गये हैं लोग
दुश्मनी की आंच से बिखर गये हैं लोग--

जिनके चेहरों पर धब्बों की भरमार है
आईना देखते ही निखर गये हैं लोग--

लम्हे इश्क के ...दिगम्बर नासवा
मेरी फ़ोटो
एक दो तीन ... कितनी बार 
फूंक मार कर मुट्ठी से बाल उड़ाने की नाकाम कोशिश
आस पास हँसते मासूम चेहरे
सकपका जाता हूँ
चोरी पकड़ी गयी हो जैसे  
जान गए तुम्हारा नाम सब अनजाने ही

बगल वाली सीट... अंकुर जैन

क्लासरूम में
अर्थशास्त्र की शायद उस
कक्षा के बीच
खाली पड़ी अपनी बैंच के
बगल में
यकायक आ बैठा था कोई
और फिर मुश्किल था
समझना
जीडीपी और मानव विकास सूचकांक
के जोड़-तोड़ या किसी गणित को।


अंधेरे ही फैलाने को यहाँ ...डॉ. जफर

यहाँ हरेक सुहागिन का बदस्तूर हलाला निकलता हैं,
दून से दवरा पहुचते परियोजना का दिवाला निकलता हैं,

कौन सा दामन पाक हैं किन हाथों पे क़लम रखूँ ,
मदो की बंदरबाट में हर चेहरा काला निकलता हैं,

और चलते-चलते यशोदा की पसंद 
उलूक के दरबार से. .डॉ. सुशील जोशी

बिल्ली कभी नही थी 
घंटी जरूर थी 

चूहों के बीच 

किसी एक दो 
चूहों के गले में 

घंटी बधने बधाने की 
नई कहानी बनायें 

बिल्ली 
और घंटी वाली 
पुरानी कहानी में 

संशोधन 
करने के लिये 
संसद में प्रस्ताव 

पास करवायें । 

अब बारी है तिरपनवें अँक की
विषय

सब
उदाहरण
सबको हक है
सबके बारे में
धारणा बनाने का ......
सबको हक है
अपने हिसाब से
चलने का .........
सबकी मंज़िलें
अलग अलग होती हैं
कुछ थोड़ी पास

कुछ बहुत दूर होती हैं .....

..रचनाकार..
आदरणीय यशवन्त माथुर


अंतिम तिथिः 12 जनवरी 2019

प्रकाशन तिथिः 14 जनवरी 2019

इस बेलगाम प्रस्तुति का अंत यहीं पर

-श्वेता सिन्हा



15 टिप्‍पणियां:

  1. ये सहज प्रेम से विमुख ह्रदय
    क्यों अपनी गरिमा खोते हैं
    समझौतों पर आधारित जो
    वो रिश्ते भार ही होते हैं

    एक और सुंदर प्रस्तुति, सुबह का प्रणाम सभी को

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभ प्रभात सखी..
    सहसा आपको देख आश्चर्यचकित हो गए
    हमारी पसंद का आभार
    सादर..

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर प्रस्तुति सभी सामग्री पठनीय सभी रचनाकारों को बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह!!श्वेता , बेहतरीन अंक !!

    उत्तर देंहटाएं
  5. यह बेलगाम प्रस्तुति पूर्णत: चुस्त कसी हुयी ही है ...
    आभार मेरी रचना को जगह देने के लिए ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. शराफत की ठंड से सिहर गये हैं लोग
    दुश्मनी की आंच से बिखर गये हैं लोग--

    जिनके चेहरों पर धब्बों की भरमार है
    आईना देखते ही निखर गये हैं लोग-

    वाह,
    हर बार की तरह बेहतरीन लिंक्स।
    सबकी रचनात्मकता को सलाम।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत बढ़िया ....संकलन स्वेता जी, सादर स्नेह

    उत्तर देंहटाएं
  8. शानदार प्रस्तुतिकरण उम्दा लिंक संकलन..

    उत्तर देंहटाएं
  9. उम्दा लिंक्स का संकलन । बेहतरीन प्रस्तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. आभार 'उलूक' का। बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर लिंक्स हैं , आभार हमें शामिल करने हेतु हृदय से धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  12. छुटपन का गाँव अब जिला कहलाता है
    धुंधलाई यादों से बिसर गये हैं लोग--
    दहशत के माहौल में दरवाजे नहीं खुलते
    अपने ही घरों से किधर गये हैं लोग--!!!!
    बहुत ही उम्दा रचना संकलन प्रिय श्वेता | सभी रचनाएँ पठनीय हैं |
    सभी रचनाकारों को हार्दिक बधाई और शुभकामनायें | तुम्हे भी उम्दा प्रस्तुतिकरण के लिए आभार और प्यार |

    उत्तर देंहटाएं
  13. अत्यंत प्रशंसनीय प्रस्तुतिकरण। सभी रचनाएँ सम्मान की हकदार है। मन प्रसन्न हुआ।
    "शराफत की ठण्ड से....ज्योति खरे" मुझे बहुत पसंद आयी यह रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  14. सुंदर संयोजन
    सभी रचनाकारों को बधाई
    मुझे सम्मलित करने का आभार
    सादर

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...