निवेदन।


समर्थक

शनिवार, 12 जनवरी 2019

1275... नजरिया


सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष

1275 , 1300 से 25 कम या 1200 से 75 ज्यादा...

कोई कहता है कैसी 
अनसुलझी किताब हूँ मैं .....
और ...!
कोई पढ़ लेता हैं यूँ 
जैसे  कोई खुली किताब हूँ मैं ...



आज जिन ढेर सारे रहस्यों से पर्दा उठ चुका है, उन्हें भी निहित स्वार्थों के कारण स्वीकार न करने वाली जड़मति ही अंधविश्वास के मूल में है । गुफाओं और जंगलों से अन्तरिक्ष तक की अपनी यात्रा में मनुष्य ने प्रकृति के रहस्यों को समझा, उसके नियमों और कार्य–कारण सम्बन्धों का पता लगाया और उनकी मदद से प्रकृति को काफी हद तक अपने वश में कर लिया।



 - ”हे वीर हृदय! भारत मां की युवा संतानों! तुम यह विश्वास रखो कि अनेक महान कार्य करने के लिए ही तुम लोगों का जन्म हुआ है। किसी के भी धमकाने से न डरो, यहां तक कि आकाश से प्रबल वज्रपात हो तो भी न डरो।” 



नजरिया पर कविता के लिए इमेज परिणाम

फिर मिलेंगे...
अब बारी है तिरपनवें अँक की
विषय

सब
उदाहरण
सबको हक है
सबके बारे में
धारणा बनाने का ......
सबको हक है
अपने हिसाब से
चलने का .........
सबकी मंज़िलें
अलग अलग होती हैं
कुछ थोड़ी पास

कुछ बहुत दूर होती हैं .....

..रचनाकार..
आदरणीय यशवन्त माथुर


अंतिम तिथिः 12 जनवरी 2019

यानी आज शाम तकप्रकाशन तिथिः 14 जनवरी 2019

10 टिप्‍पणियां:

  1. आदरणीय दीदी...
    सादर नमन..
    सदा की तरह एक
    अलग नजरिए से..
    पढ़वाया..रचनाओं को
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर अंक
    सभी को प्रणाम।
    सचमुच एक सार्थक जीवन के लिये नजरिया से महत्वपूर्ण ओर शायद ही कुछ हो।

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रणाम दी,
    हमेशा की तरह सबसे अलग जानदार संकलन है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह बहुत सुन्दर!! नजरिया बस अपना अपना कुछ अलग अलग।
    सुंदर संकलन।
    सभी रचनाकारों को बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  5. एक उत्तम संकँन के लिए शुभकामनाएँ एवं भविष्य में ऐसे ही और अंकों के लिए ईश-वंदन आदरणीया

    उत्तर देंहटाएं
  6. कोई कहता है कैसी
    अनसुलझी किताब हूँ मैं .....
    और ...!
    कोई पढ़ लेता हैं यूँ
    जैसे कोई खुली किताब हूँ मैं ...बहुत खूब ...
    सुंदर अंक
    बेहतरीन रचनाएं

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...