निवेदन।


समर्थक

गुरुवार, 3 जनवरी 2019

1266....दर्द का एहसास है, फिर भी तराने गा रहा हूँ...

सादर अभिवादन। 

हैं 
ख़ुश 
क़दम 
रखकर 
नये साल में 
तीसरा दिन है 
ख़ुशी हर हाल में।  



मेरी फ़ोटो

इक नयी उम्मीद का, सपना संजोए आ रहा हूँ,
दर्द का एहसास है, फिर भी तराने गा रहा हूँ.

 ज़िन्दगी में खो दिया जो, क्यूँ करूं उसका हिसाब,
आज अपने हाथ से, तकदीर लिखने जा रहा हूँ.

मैं कब कहता हूँ.......बशीर बद्र


 

मैं हर लम्हे मे सदियाँ देखता हूँ
तुम्हारे साथ एक लम्हा बहुत है

मेरा दिल बारिशों मे फूल जैसा
ये बच्चा रात मे रोता बहुत है

जीवन अनसुलझी पहेली….कुसुम कोठारी 


                           

जर्द पत्तों का शाख से बिछड़ना
तिनके के नशेमनो  का उजडना।

ख्वाहिशों का रोज सजना बिखरना
सदियों से चला रहा ये सितम।





तलबपरस्त दुनिया में मक्कारी है, गद्दारी है 
रिश्तों में कुछ भी ऐसा नहीं, जिसे वफ़ा कहें। 

ज़मीं पर हो गई है, ख़ुदाओं की भरमार 
ख़ुदा ! बता तो सही, अब तुझे क्या कहें। 

                          
बच्चे 
नंगे ही 
भले-चंगे लगते है 
गरीब के 


हम-क़दम का नया विषय
........


आज बस यहीं तक। 
फिर मिलेंगे अगले गुरुवार। 
शुक्रवारीय प्रस्तुति - आदरणीया श्वेता सिन्हा जी

रवीन्द्र सिंह यादव 

10 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ
    प्रभात
    भाई रवीन्द्र जी...
    अच्छी वर्ड पिरामिड
    से शुरुआत..कभी उल्टा
    पिरामिड भी देखना चाहते हैं
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुप्रभात
    सुंदर अंक
    बेहतरीन रचनाएँ
    मेरी रचना को सम्मिलित करने के लिए आभार...सादर

    उत्तर देंहटाएं
  3. शुभ प्रभात आदरणीय
    बेहतरीन हमक़दम का संकलन 👌

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खूबसूरत लिंक्स का संयोजन ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. शानदार प्रस्तुतिकरण उम्दा पठनीय लिंक संकलन...

    उत्तर देंहटाएं
  6. बेहतरीन रचनाएँ खूबसूरत वर्ण पिरामिड के साथ।
    धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सामायिक वर्ण पिरामिड के साथ मोहक प्रस्तुति, सभी सामग्री पठनीय सभी रचनाकारों को बधाई। मेरी रचना को शामिल करने का तहे दिल से शुक्रिया।
    सभी को नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुंदर संदेश देती भूमिका के साथ बहुत ही उम्दा रचनाओं का संकलन रवींद्र जी...बढ़िया संकलन।

    उत्तर देंहटाएं
  9. सच्च मे सारी रचनाएँ बिल्कुल भिन्न एवं सराहनीय योग्य है। आपका मेहनत सार्थक है। ऐसी रचनाएँ हम तक पहुचाने के लिए सहृदय आभार आपका।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...