निवेदन।


समर्थक

शुक्रवार, 4 जनवरी 2019

1267....जीवन का अनमोल अवार्ड

नववर्ष की मेरी पहली प्रस्तुति पर
आप सभी सुधिजनों का
सादर अभिनन्दन

नवतिथि का स्वागत सहर्ष
नव आस ले आया है वर्ष
सबक लेकर विगत से फिर
पग की हर बाधा से लड़कर 
जीवन में सुख संचार कर लो
हर क्षण से खुलकर प्यार कर लो
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
चलिए आज की रचनाएँ पढ़ते हैं
आदरणीय प्रकाश जी की लेखनी से

बाबुजी के डाँट में,
घर छोड़े के ख्याल में,
सोचला के बाद
घर जाए में
बड़ा निक लागेला।

माई के दुलार में,
नोक-झोंक कईला से,
रूठला के बाद
'आँचल के छाँव' जाए में
बड़ा निक लागेला हो
बड़ा निक लागेला हो
बड़ा निक लागेला...
★★★★★
आदरणीय रवींद्र जी

वक़्त के गुलदान में 
अंकुरित हुआ है 
नन्हा-सा नया साल 
आशाओं के साथ 
नये ख़्वाबों का 
पल्लवन होने दो।  
आदरणीया दीपा जी
इसमें छुपा
रहस्य अपार है
ना होगी गर वेदना
ना होगा
सुख-दुख का 
आभास।
विरह-मिलन 
हैं जैसे दिन-रात।
★★★★★★
आदरणीय पुरुषोत्तम जी

उम्र की प्रवाह में, सूनी सी राह में,

ढ़लती सी हर सांझ में, ढूंढ लेना मुझे

एकाकीपन के, विपिन प्रांतर में,

अकेली राह में, संग चलता मिलूंगा,

फूल हूँ, रंग सा, खिलता मिलूंगा!
★★★★★
आदरणीय संजय जी

बेटी ने बहू बनकर
बी.ए वाली बात दोहरायी
सुनकर उसकी बातें उसकी सास गुर्राई 
अगर आगे ही पढना था
तो पढ़ती 'अपने घर '
बहू है हमारी अब सेवा कर ,
★★★★★
आदरणीया पम्मी जी

सफ़्हो में ही कहीं न कहीं सिमटे रहेंगे
सफर के बाद भी यही कही बिखरे रहेंगे

सिफ़त ज़ीस्त का  हो समझना

हमारी लफ़्ज़ों की हरारत इनमें  ही निखरे रहेंगे
★★★★★★
और चलते-चलते पढ़िए
आदरणीया कामिनी जी की रचना
जीवन अनमोल"अवार्ड"


मुझे ऐसा लगा जैसे इस जीवन का सबसे बड़ा अवॉर्ड दे दिया हो मेरी बेटी ने मुझे। ईश्वर ने मुझे जो ये मनुज तन दिया है उससे मैंने कुछ तो ऐसा काम किया जो मेरी बेटी ने मुझे इतना बड़ा सम्मान दिया। सार्थक हो गया मेरा जीवन। मुझे वो सारी परेशानियां ,सारी कठिनाइयाँ ,लोगो की गालियाँ सब याद आने लगी लेकिन वे मुझे तकलीफ नहीं दे रही थी बल्कि एक सुखद एहसास करा रही थी। मैं ईश्वर को धन्यवाद देने लगी -हे प्रभु अगर आप ने मुझे उस वक़्त वो शक्ति ना दी होती तो शायद मैं उस वक़्त एक दृढ निश्चय के साथ एक कठोर फैसला नहीं ले पाई  होती और आज मेरी शालू उस उपहार से वंचित रह जाती जो उसके जीवन की  सबसे बड़ी ख़ुशी है। 



★★★★★
आज की प्रस्तुति कैसी लगी?
आप सबों की बहुमूल्य प्रतिक्रिया
की प्रतीक्षा रहती है।

हमक़दम के विषय के लिए


कल का अंक पढ़ना न भूले,
कल की खास प्रस्तुति लेकर आ रही हैं
विभा दी
आज के लिए आज्ञा दें।
खुशी के क्षण आमोद हर्ष
हर त्योहार पर तर्क-वितर्क
तिथि,प्रश्न के जाल में उलझा

सकपकाया खड़ा है नया वर्ष








15 टिप्‍पणियां:

  1. नववर्ष पर आपकी इस सुंदर प्रस्तुति के लिये आभार श्वेता जी
    कामिनी जी ने बहुत अच्छा लिखा है।
    सभी को प्रणाम

    उत्तर देंहटाएं
  2. व्वाहहहह......
    बेहतरीन संयोजन...
    आखिरी रचना में भारी ज़द्दो-ज़हद..
    शाब्बाश...
    अंत में शुभ प्रभात
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  3. अंतर्मन से आपको सादर प्रणाम और आभार, श्वेता दी। मेरे भोजपुरी के लेखनी 'बड़ा निक लागेला' को और अधिक पाठकों तक पहुँचाने के लिए।

    यहाँ उपस्थित सभी रचनाएँ भावुकता से लबरेज है। आपका प्रयास और सार्थक हो गया जब आप आदरणीया कामिनी जी की रचना "जीवन अनमोल 'अवार्ड'" को यहाँ स्थान दिया...बहुत ही प्रेरणादायी है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही सुंदर प्रस्तुति
    बेहतरीन रचनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाहह!!बहुत ही सुंदर संकलन.. सभी रचनाएँ विशेष है।
    मेरी रचना को स्थान देने के लिए शुक्रिया।सभी चयनित रचनाकारों को बधाई।
    धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  6. आदरणीय श्वेता जी ,सर्वप्रथम तो आप को तहे दिल से शुक्रिया, जो आपने अपनी बहुमूल्य संकलन में मेरे रचना को स्थान दिया और मेरे विचार और आपबीती को सब से साझा किया। सभी सम्मानित रचनाकारों को अभिनंदन और सहृदय धन्यवाद जिन्होंने मेरे लेख पर अपने बहुमूल्य प्रतिक्रियाएं दी। सारी रचनाये कबीले तारीफ है ,आभार आप का........

    उत्तर देंहटाएं
  7. आदरणीय श्वेता जी ,सर्वप्रथम तो आप को तहे दिल से शुक्रिया, जो आपने अपनी बहुमूल्य संकलन में मेरे रचना को स्थान दिया और मेरे विचार और आपबीती को सब से साझा किया। सभी सम्मानित रचनाकारों को अभिनंदन और सहृदय धन्यवाद जिन्होंने मेरे लेख पर अपने बहुमूल्य प्रतिक्रियाएं दी। सारी रचनाये कबीले तारीफ है ,आभार आप का............

    उत्तर देंहटाएं
  8. प्रस्तुति का आरम्भ और अंत काव्यात्मक रुख़ के साथ प्रभावशाली है।

    सुन्दर रचनाओं का संकलन।

    सभी चयनित रचनाकारों को बधाई एवं शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. श्वेता जी बेहतरीन रचनाओं का शानदार संकलन मेरी रचना को शामिल करने हेतु बहुत बहुत धन्यवाद !!

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत ही सुन्दर हमक़दम का संकलन 👌

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही सुन्दर रचना संकलन एवं प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुंदर स्वरचित गीत की प्रस्तावना के साथ सुंदर प्रस्तुति सभी सामग्री बहुत आकर्षक सभी रचनाकारों को बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  13. शानदार प्रस्तुतिकरण उम्दा पठनीय लिंक संकलन...

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...