पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

शनिवार, 27 मई 2017

680... अहम




सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष

खुद को तीसमारखां समझने लगी हूँ



अहम





फलसफा


मंदिर में मूरत  की पूजा लगता महज दिखावा है
मन में जिनके पाप भरा वे कहते क्या पहनावा है
बातों की बतकही बनाने मीडिया में कितने आ बैठे
चुप चुप अब तक मनमोहन जी इसका एक पछतावा है ।।
बेशक अपना या हो पराया करना होगा अब प्रतिकार




साररूप



‘गुलेरी’ का वर्णन इसलिए किया है कि ‘उसने कहा था’
कहानी में उनकी कल्‍पना का चमत्‍कारिक प्रभाव आज भी
कथाकारों के लिए अनुकरणीय है। ऐसी कल्‍पना, कथा में ही देखी जा सकती है।
कथायें पौराणिक, ऐतिहासिक और कल्‍पनात्‍मक प्रस्‍तुति का मिश्रण होती हैं।
कहानी में कल्‍पना को यथार्थ नहीं बनाया जाता अपतिु
यथार्थ को कहानी का स्‍वरूप दिया जाता है।



अहंकार



"जिनकी विद्या विवाद के लिए, धन अभिमान के लिए,
बुद्धि का प्रकर्ष ठगने के लिए तथा उन्नति संसार के तिरस्कार के लिए है,
 उनके लिए प्रकाश भी निश्चय ही अंधकार है।" -क्षेमेन्द्र



जाने किस वक्त



वो आकाशगंगायें जब
हथेलियों में बन्द होतीं,
मेहँदी ख़ुशबू बिखरती..

जाने कौन सा वक़्त होता
जो क़यामत लगता था,
खुलते जूड़े के
भँवर से फिसलकर..

फिर मिलेंगे

विभा रानी श्रीवास्तव





6 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात दीदी
    सादर नमन
    शानदार प्रस्तुति
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. अतिसुन्दर!संकलन, आभार। "एकलव्य"

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुप्रभात सुंदर संकलन आभार आदरणीय आंटी आपका

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्छा संकलन दी

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...