पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

शुक्रवार, 5 मई 2017

658....समय, समय की कद्र करने वालों का साथ देता है

सादर अभिवादन
पिछले पन्ने पर हिन्दू-मुसलमान की बात की गई
सही की गई...

मैंनें भी कहीं पढ़ा है....

इंसानियत बची रही
तो नष्ट हो जाएगा धर्म
इसलिए घोंप दें छुरा
इंसानियत की पीठ पर
ताकि दोबारा सिर ना उठा सके इंसानियत
शैतानियत की ज़मीन पर

चलिए आज की चुनिन्दा रचनाओं पर एक नज़र...

सभी को चाहिए कहीं न कहीं कुछ पल 
सुकून भरा, कुछ महकते हुए दिन 
कुछ खिलती हुईं रातें, कुछ 
ख़ालिस अपनापन, कुछ 
ख़ामोश निगाहों की 
बातें। 

आज़ाद हैं यहाँ सभी’ उल्फत ही’ क्यूँ न हो 
पावंदी’ भी को’ई नहीं’ तुहमत ही’ क्यूँ न हो |

मिलते सभी गले ही’ अदावत ही’ क्यूँ न हो 
दिल से नहीं हबीब मुहब्बत ही’ क्यूँ न हो | 


तुम बिन...श्वेता सिन्हा
जलते दोपहर का मौन
अनायास ही उतर आया
भर गया कोना कोना
मन के शांत गलियारे का
कसकर बंद तो किये थे
दरवाज़े मन के,


कॉपी राईट....वन्दना गुप्ता
इंतज़ार पर हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है 
कह, नहीं सिद्ध किया जा सकता कुछ भी 
हाँ , कह सकें गर इंतज़ार पर हमारा कॉपी राईट है 
तो वजन बढ़ता है 
एक तीर से कई शिकार करता है 


तुम्हारी बज़्म में मेरी अब जगह ही नहीं....स्वप्नेश चौहान
तुम्हारी बज़्म में मेरी अब जगह ही नहीं,
अदब में झुकने का मतलब नहीं, कि अना ही नहीं...

शिकवे भी बहुत थे, बहुत थी तारीफ़ें
खामोशियाँ चीखती रहीं पर तूने कभी सुना ही नहीं..




दृष्टिकोण - रहस्यमय भविष्य....रश्मि प्रभा
शाहजहाँ कहाँ कैद था
इस बात से अधिक महत्वपूर्ण है
वह किस तरह निहारता था वहाँ से
ताजमहल को !
इंसान की फितरत
अतीत वर्तमान से परे
एक अनोखा रहस्यमय भविष्य है
जिस पर अनुसन्धान ज़रूरी है  !!!  ...

समय सम्हाल कर....डॉ. सुशील कुमार जोशी


गुरु मत बनो 
‘उलूक’ 
समय का 

अपनी 
घड़ी सुधारो 
आगे बड़ो 
या पीछे लौट लो 

किसी को 
कोई फर्क 
नहीं पड़ता है 

आज्ञा दें यशोदा को
सादर





5 टिप्‍पणियां:

  1. सस्नेहाशीष संग शुभप्रभात छोटी बहना 💐
    सुंदर प्रस्तुतीकरण

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़िया प्रस्तुति। आभार 'उलूक' की घड़ी की बात करने के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर लिंकों से सजी शानदार प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर हलचल प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...