निवेदन।


फ़ॉलोअर

सोमवार, 11 जनवरी 2021

2005 ..सभी हैं सवार, एक ही नैया, एक ही खेवैया

सादर अभिवादन
आज एक भारत के लाल की पुण्यतिथि है

सादर श्रद्धाञ्जली
........

ढेर सारी प्रतियोगिताएँ
चल रही है, फेसबुक में
सारे ब्लॉगर वहीं जमे हुए हैं
सोच रहे हैं हम भी एक
प्रतियोगिता आरम्भ कर दें
आप सभी की राय ज़रूरी है
कृपया सुझाव दें कि
नए वर्ष में क्या कुछ नया करें
बताइएगा....
आज की रचनाएँ....



उस अनाम से फलित सदा हो   
स्वयं का ही दर्शन स्वयं को, 
एक याद युग-युग से विस्मृत  
पुन: आ गई मिटा संशय को !




हिंदी भाषा राष्ट्र की,देवनागरी सार।
उच्चारण आसान है,भरा शब्द भंडार।।
भरा शब्द भंडार,रही संस्कृत हमजोली।
भौगोलिक विस्तार,सभी बोलें ये बोली।।
कहती आख्या बात,रही माथे की बिंदी।
ले उर्दू का साथ,मस्त है भाषा हिंदी।।




यह शरीर को ऊर्जावान बनाता है ! थकान महसूस 
नहीं होने देता ! सुस्ती दूर करता है ! शरीर 
में लाभकारी बैक्टेरिया की बढ़त होती है ! शरीर की 
बढ़ी हुई गर्मी कम होती है ! पेट के लिए बहुत मुफीद है ! 
रक्तचाप को नियंत्रित करता है 




बड़े दिनों बाद आवाज़ लगाई 
सूखे पत्तों से सजे आँगन ने
बाहें फैलाए  स्मृतियाँ 
स्वागत में प्रीत दीप जलाए 
वात्सल्य वीरानियों में




सभी हैं सवार, एक ही नैया, एक ही खेवैया, 
उन्मुक्त है नीला पाल,दोनों तरफ खेलते हैं, 
सुखदुःख के उठते गिरते तरंग, बहे जा रहे
हैं सभी समयस्रोत में,
दूर बहुत दूर, माथे की उलझी लकीरों केसंग
......
आज बस
शायद कल फिर
सादर


 

7 टिप्‍पणियां:

  1. असीम शुभकामनाओं के संग प्रतीक्षारत प्रतियोगिता हेतु

    सराहनीय प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  2. भारतवर्ष की राजनीति के आदर्श पुरुष आदरणीय प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री जी की पुण्य स्मृति को सादर नमन🙏🙏. जिन्होंने अपने आदर्श आचरण से सिद्ध किया राजनीति और नैतिकता भी साथ साथ चल सकती हैं.
    कहाँ गए ? थे हवामहल ही
    कहाँ गया वह लक्ष्य साधता,
    मंजिल पर ही बैठ मुसाफिर
    पूछा करता था जो रस्ता !
    जैसी पंक्तियों के साथ अनीता जी की सार्थक रचना के साथ साथ दूसरी सुंदर रचनाएँ और गगन जी का अलग सा सार्थकलेख पढ़कर बहुत अच्छा लगा. सभी को पढ़ना चाहिए ये लेख बहुत ज्ञानवर्धक है. आज के सभी रचनाकारों को सस्नेह शुभकामनाएं. आपको हार्दिक बधाई आदरणीय दीदी सुंदर लिंक संजोयन के लिए🙏🙏. रही बात प्रतियोगिता की अच्छा विचार है, हमकदम ही दुबारा ले आयें या फिर कोई मौलिक विचार आये उसे लागू करें. मेरी शुभकामनायें 🙏🙏

    जवाब देंहटाएं
  3. बेहतरीन अंक
    श्रद्धा सुमन
    भारत के वीर सपूत को
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  5. सम्मिलित कर सम्मान देने हेतु अनेकानेक धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  6. सार्थक भूमिका के साथ पठनीय रचनाओं का चयन, भारत के महान नेता को विनम्र श्रद्धांजलि ! आभार !

    जवाब देंहटाएं
  7. विश्व हिंदी दिवस की असंख्य शुभकामनाएं, विविध रंगों से सरोबार पांच लिंकों का आनंद मुग्ध करता हुआ, मुझे जगह देने हेतु हार्दिक आभार आदरणीया यशोदा जी - - नमन सह।

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...