निवेदन।


फ़ॉलोअर

शनिवार, 15 दिसंबर 2018

1247...कामना , शुभकामनाओं की


कोई भी स्वचालित वैकल्पिक पाठ उपलब्ध नहीं है.

सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष
गंगानगरी पाटलिपुत्र से गंगा उद्गमस्थली हरिद्वार में हूँ
पढ़ने के शौक ने ब्लॉग में लाया
ब्लॉग से सीखकर
बाहर की दुनिया में फैलाने की कोशिश
सस्नेहाशीष व शुभकामनाओं की
Image result for कामना पर कविता

तुम न आए, हमें ही बुलाना पड़ा
मंदिरों में सुबह-शाम जाना पड़ा
लाख बातें कहीं मूर्तियाँ चुप रहीं
बस तुम्हारे लिए सर झुकाना पड़ा


नारी शोषण पर कविता, हेमलता पालीवाल

भेंट-दक्षिणा व उपहारों से नवाज़ा जाता।
उस देश मे कन्या को क्यूँ बोझ माना जाता,
देवी के नव रूपों की पूजा होती।
सुख-समृद्धि बनी रहे, प्रार्थना होती,
आए न कोई संकट निज जीवन में।
यही नित्य देवी से मंगल कामना होती,
उस देश में नारी-जाति पर अमंगल होता।

मनोकामना



धर्म चाहे जो भी मानो
सुमार्ग पर चलो
ज्ञान चाहे जो भी जानो
सदुपयोग करो
सदाचारी बनो , कल्याणकारी बनो
नायक बनो , सुखदायक बनो
पुरुषोत्तम नहीं बन सकते तो
सर्वोत्तम इंसान बनो

मनोकामना

Image result for मनोकामना पर कविता

तेरी दिल की पुकार
सुनना ही मेरी चाहत है
प्यार की कशिश को पहचानो
ये दिल तुझसे आहत है

Image result for कामना पर कविता


><
फिर मिलेंगे...
हम-क़दम की बारी
उन्चासवाँ अंक
विषय
शिशिर
उदाहरणः
मंद-मंद हंसता है प्रभात
शिशिर धूप जब आती है.
सांय-सांय बहता है पवन
सिहर-सिहर उठता है बदन
रवि-किरण तन को छूती है
अनुरागी हो जाता है नयन.

रचनाकार
सुश्री भारती दास

प्रविष्टियाँ दिनांक 15 दिसम्बर 2018 यानी आज तक प्रेषित करें
प्रकाशन दिनांक 17 दिसम्बर 2018

14 टिप्‍पणियां:

  1. सुप्रभातम् दी:),
    सुबह-सुबह एक से बढ़कर एक कविताओं को को पढ़कर आनंद आ गया।
    हमेशा की तरह सबसे अलग लाज़वाब संकलन।

    जवाब देंहटाएं
  2. आदरणीय दीदी...
    सादर नमन..
    सदा की तरह मनमोहक..
    शुभकामनाएँ...
    सादर...

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत ही सुन्दर रचना संकलन, बेहतरीन प्रस्तुति, हार्दिक आभार ।

    जवाब देंहटाएं
  4. हमेशा की तरह लाजवाब प्रस्तुति।

    जवाब देंहटाएं
  5. बेहतरीन लिंकों का चयन..
    शुभकामनाएँँ।

    जवाब देंहटाएं
  6. बेहतरीन संकलन ,दीदी सुंदर रचनाएं ,
    यशोदा दी अगर आप हरिद्वार आए है तो ऋषिकेश भी आइएगा ।मै ऋतु असुजा ऋषिकेश ,ऋषिकेश निवासी आपका हार्दिक स्वागत करती हूं। मेरा पता ,गंगा नगर Rishikesh ,Ganesh Vihar Lane no 1 house no 433/34...

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत ही अच्छी हलचल प्रस्तुति 👌
    बेहतरीन रचनाएँ |

    जवाब देंहटाएं
  8. शानदार प्रस्तुतिकरण उम्दा लिंक संकलन...

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर अंक प्रस्तुत किया है आदरणीया विभा दीदी ने। आपकी साहित्यिक सक्रियता हमारे लिये प्रेरक है। सभी चयनित रचनाकारों को बधाई एवं शुभकामनाएँ।

    जवाब देंहटाएं
  10. सभी रचनाएँ एक-से-बढकर-एक है....इसमें सबसे बेहतरीन लगा मुझे - "स्वच्छ हिन्दुस्तान की नेम प्लेट"। यह बिल्कुल भिन्न है। 'स्वच्छ भारत' का एक अलग ही रूप...।

    जवाब देंहटाएं
  11. आपकी अन्वेषक दृष्टि अतुल्य है वीभा दी अथक मेहनत से खोज कर रत्न ले आती हैं आप।
    बहुत सुंदर प्रस्तुति सुंदर अंक ।
    सभी रचनाकारों को बधाई

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...