निवेदन।


समर्थक

रविवार, 2 दिसंबर 2018

1234...सही सही है, या गलत सही है, पिताजी भी ना जाने किसको सिखा गये

सादर अभिवादन....
मुलाहिज़ा फ़रमाएँ अंक क्रमांक
एक दो तीन चार....
इस अंक में कुछ खास नही होते हुए भी
कुछ तो खास है......
अभी हालिया आदरणीया कविता दीदी का विवाह वर्षगाँठ
सम्पन्न हुआ है...शुभकामनाएँ

चल पड़ी है गाड़ी आजकल उनके प्यार की....कविता रावत

रोम-रोम पुलकित हो उठते
जब भी बजती घंटी
झनक उठते दिलतार
डूबे मन प्यार में सोच-सोच कर
आतुर धड़कने बढ़ती बार-बार
यूं कब दिन बीत जाता एक दूजे में
लगता हैं आई घड़ी बहार की
सुना है कन्हैया बना चितचोर
रहती उन्हें हर घड़ी अब
उनके इन्तजार की

अन्नदाता.....अनीता सैनी

गुरुर धधक रहा छाती में ,
पगड़ी स्वाभिमान की पहन 
अंगारों पर चलता हूँ  !!

आगोश में मोहब्बत , 
आँचल में उम्मीद समेटे
निश्चिल नित्य आगमन करता हूँ,!!


थोड़ा-सा रुमानी हो लें....श्वेता सिन्हा
दर्द को तवज्ज़ो कितना दें
दामन रो-रो कर भीगो लें
चुभते लम्हों को दफ़न करके
बनावटी चेहरों पे कफ़न धरके
वफ़ा की बाहों में सुकूं से सो लें
थोड़ा-सा रुमानी हो लें 

मेरा भारत
अनेक भाषाभाषी
रहते यहां।

पालते धर्म
बिना भेदभाव के
करते कर्म।

हवा सबकी
आसमान सबका
जमीं सबकी।

रूहानी मोहब्बत-माँ....शकुंतला
रूहानी मोहब्बत की दास्तां हैं माँ
हर इंसान की पहली मोहब्बत हैं माँ
धरा पर ईश्वर का प्रतिरूप हैं माँ
पूरे विश्व का एक ब्रह्माण्ड हैं माँ
आँखो से छलकता हुआ सागर हैं माँ

अब उल्टा-पुल्टा
डॉ. सुशील जी जोशी


कैसे 
पूछा जाये 
किसी से 

उनके 
पिता जी को 
उनके पिता जी 

सीधा 
सिखा गये 
या उल्टा 
सिखा गये । 

आज बस इतना ही
रविवार शुभ हो
यशोदा








9 टिप्‍पणियां:

  1. वाहहहह..
    बेहतरीन...
    हैप्पी सण्डे...
    सादर..

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति। मेरी रचना को शामिल करने के लिए बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  3. शुभ प्रभात आदरणीया
    बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति 👌
    मेरी रचना को स्थान देने के लिय सह्रदय आभार
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर रविवारीय हलचल। आभार यशोदा जी 'उलूक' के पिताश्री की सीख को आज के पन्ने में जगह देने के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुंदर प्रस्तुति शानदार रचनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर रचनाओं का.गुलदस्ता है दी..मेरी.रचना.को भी स्थान देने के.लिए हृदयतल से अति आभार आपका।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर संकलन सभी रचनाकारों को हार्दिक बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  8. अस्वस्था की वजह से विलम्ब से हलचल में अपनी उपस्थिति दर्ज करने के क्षमाप्राथी हूँ
    मेरी रचना को स्थान देने के लिए बहुत आभार यशोदा दी

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...