निवेदन।


समर्थक

गुरुवार, 6 दिसंबर 2018

1238....जरा सी देर और निहारिये.....

सादर अभिवादन। 
ये 
लोभी 
मीडिया 
परोसता  
झूठ की थाली 
मानसिक रोग 
कमाता चवन्नियाँ।  

आइये अब आपको आज की पसंदीदा रचनाओं की ओर ले चलें- 

My photo

पतंगा, सृष्टि का क्षुद्र जीव,
न सह सका आभारहीनता।
वह हो गया उद्यत बचाने को,
शमा का अस्तित्व।


कितनी सारी कोशिशें होती हैं
उन धूलकणों को हटाने की
लेकिन वे आँखों की गहरी नदी में
बना लेती हैं अपनी जगह
किसी और दिन बह निकलने के लिए



My photo

जरा सी देर और निहारिये ,
भोर का तारा
खुद ही टिमटिमाएगा, 
खुद ही सज जायेगा
मन के रंगो से 
सूरज की लालिमा से
बिना उकेरे ही। 



ऐसी राहों में, कितने काँटे हैं,
 आरज़ूओं ने, आरज़ूओं ने,
 हर किसी दिल को, दर्द बाँटे हैं,
 कितने घायल हैं, कितने बिस्मिल हैं,
  इस खुदाई में, एक तू क्या है
  ऐ दिल-ए-नादान, ऐ दिल-ए-नादान..


My photo

शब्द बेशक बेजान हो जाते हैं कभी कभी,
पर भुला भी दूँ कैसे 
शब्द जो उतर जाते हैं दिल मे
शब्द जो बाह जाते हैं आंखों से 
शब्द जो कह जाते हैं अनकहे बात सारे..
शब्द जो लिख....



तुम पाषाण बन चुकी थी  
न जाने कौन तुम्हारी शोख-चंचलता को 
नष्ट कर दिया था 
हर सिरे से.


My photo

उस जगह बैठे तो थे हम तुम
मगर तुम तुम न थे मैं मैं न थी
शायद वक़्त ने हम दोनों को बदल दिया


चलते-चलते आदरणीय हर्ष वर्धन जोग साहब के फोटो ब्लॉग के ज़रिये 
याद करें 1971 भारत-पाकिस्तान युद्ध के हीरो महावीर चक्र विजेता 
ब्रिगेडियर कुलदीप सिंह चाँदपुरी जी को जिनका गत 17 नवम्बर 2018 
को 78 वर्ष की आयु में निधन हो गया। फिल्म "बॉर्डर" के 
असली हीरो को हमारी विनम्र श्रद्धांजलि। 





04 दिसम्बर की रात को एक बड़े हमले की तैयारी करके पाक फ़ौज का एक काफिला अंतर्राष्ट्रीय सीमा पार कर के लोंगेवाला के नज़दीक पहुँच गया. इस लम्बे काफिले में थी लगभग 2000 सिपाहियों की एक ब्रिगेड, 45 टैंक और 500 से ज्यादा गाड़ियाँ. इनका प्लान था कि पहले लोंगेवाला पर कब्जा कर लिया जाए, उसके बाद 30 किमी आगे बढ़ कर रामगढ़ पर और फिर 78 किमी आगे जैसलमेर शहर कब्जा लिया जाए. चूँकि ये जगह रेगिस्तान में थीं और आबादी नहीं थी इसलिए ये काम 24 घंटों में हो जाना था. पर लोंगेवाला में तो कुछ और ही होना था. 

हम-क़दम के 
 अड़तालीसवें क़दम का ..
विषय है- 
शहनाई

आज बस यहीं तक 
फिर मिलेंगे अगले गुरूवार। 
शुक्रवारीय प्रस्तुति - आदरणीया श्वेता सिन्हा 

रवीन्द्र सिंह यादव 

15 टिप्‍पणियां:

  1. ये
    लोभी
    मीडिया
    परोसता
    झूठ की थाली

    सटीक व्यंग और सुंदर अंक।
    मेरी अनुभूतियों को स्थान देने के लिये धन्यवाद भाई साहब।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुप्रभात,
    मीडिया ने तो झूठ और सच में अंतर बताना तो दूर सच दिखाना ही बंद कर दिया हैं।ठीक कहा।
    रचनाये तो बेहतरीन हैं,हमेशा की तरह आनंद आ गया।
    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. भूमिका की सटीक पंक्तियाँ, सच है अब तो सब कुछ पेड ही है सच झूठ का ऐसा घोल बना है कि आम जन के समझ से परे है।
    बहुत अच्छी है सभी रचनाएँ,एक सारगर्भित अंक की बधाई आपको।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेहतरीन प्रस्तुति..
    साधुवाद..
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेहतरीन प्रस्तुति,सभी रचनाएं उत्तम

    उत्तर देंहटाएं
  6. 'लोंगेवाला' को शामिल करने के लिए धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  7. विचारणीय प्रस्तुति के साथ बेहतरीन रचनाओं का संकलन।
    सभी रचनाकारों को बधाई ..
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत अच्छा लिखा है। ऐसे ही लिखते रहिए। हिंदी में कुछ रोचक ख़बरें पड़ने के लिए आप Top Fibe पर भी विजिट कर सकते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही सुंदर संकलन।
    बेहतरीन रचनाएं
    👌👌👌👌👌
    मेरी रचना को स्थान देने के लिए...आभार सह्दय।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    मेरी रचना को स्थान देने के लिये धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  11. धार दार भुमिका के साथ सुंदर प्रस्तुति ।
    अंक बहुत सुंदर बन पड़ा है।
    सभी रचनाऐं अप्रतिम।
    रचनाकारों को बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  12. शानदार प्रस्तुति करण उम्दा लिंक संकलन...

    उत्तर देंहटाएं
  13. बेहतरीन हलचल प्रस्तुति, शानदार रचनाएँ 👌

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...