निवेदन।


समर्थक

शुक्रवार, 7 दिसंबर 2018

1239...रोज ही पढ़ने आता है साहिब नापागल लिखा पागल

सादर नमस्कार


सूरदास का नाम कृष्ण भक्ति की अजस्र धारा को प्रवाहित करने वाले भक्त कवियों में सर्वोपरि है। हिन्दी साहित्य में भगवान श्रीकृष्ण के अनन्य उपासक और ब्रजभाषा के श्रेष्ठ कवि महात्मा सूरदास हिंदी साहित्य के सूर्य माने जाते हैं। हिंदी कविता कामिनी के इस कमनीय कांत ने हिंदी भाषा को समृद्ध करने में जो योगदान दिया है, वह अद्वितीय है। सूरदास हिंन्दी साहित्य में भक्ति काल के सगुण भक्ति शाखा के कृष्ण-भक्ति उपशाखा के महान कवि हैं।

पढ़िए उनकी कुछ प्रसिद्ध रचनाएँ


जैसे उड़ि जहाज की पंछी, फिरि जहाज पै आवै॥
कमल-नैन को छाँड़ि महातम, और देव को ध्यावै।

★★★★★

सदा रहत पावस ऋतु हम पर, जबते स्याम सिधारे।।
अंजन थिर न रहत अँखियन में, कर कपोल भये कारे।
★★★★★

एक हुतो सो गयौ स्याम संग, को अवराधै ईस॥

सिथिल भईं सबहीं माधौ बिनु जथा देह बिनु सीस।
★★★★★★
चलिए.अब आज की रचनाएँ. पढ़ते हैं-

सबसे पहले आदरणीय पंकज जी की क़लम से

उनके अनुभवों को याद कर समझने की 
कोशिश करता हूँ और हरबार एक नया अर्थ 
एक नया विश्वास मुझे अपनी जवानी से 
बुढ़ापे के बदलते रंग के साथ जीने का बल देता है 

अब जीवन को मैं समझने लगा हूँ 
कोई शिकायत नहीं कोई खुशी का अतिरेक नहीं 
समय के प्रत्येक कालखण्ड से ताल मिलाकर 
मैं जी रहा हूँ, खुश हूँ मैं इस ज़िंदगी से ! 

★★★★★
आदरणीया प्रतिभा वर्मा जी की अभिव्यक्ति
फिर तूने लाख कोशिश क्यों न कर ली हो
मेरे हर सफर को मुश्किल बनाने की
पर मैंने कभी हार नहीं मानी
न ही कभी थमी बस चलती गई
तबियत से बयाँ करुँगी हर वो किस्सा
हर लफ्ज़ को बड़े ही किफ़ायत से लिखूंगी

★★★★★
आदरणीय पंकज कुमार"शादाब" जी की रचना
बारूद का ढेर एक अरसे से दिमाग़ मेंजमाया गया है
तभी तो अफ़वा की चिंगारी को बुलवायागया है!

जागे होते तो संभल गए होतेमसला तो ये है
साज़िश से तहत तुम्हें सोते हुए चलवायागया है!
★★★★★★

आदरणीया पम्मी जी की लेखनी से

खुद के वजूद का अहसास कराती एक खूबसूरत संवेदनशील रचना को शब्दों में समेटने की कोशिश , "हमारी किस्सागोई न हो" इसलिए हकीकत की पनाह में आ गए ,क्योंकि  पूर्णता की ओर निगाह सब की होती है , पर मेरी छोटी- छोटी अधूरी बातें छलक ही जाती है ,कभी अश्कों में, जज्बातों में, कभी रातों में ,ख्वाबों में ,रस्मों रिवाजों में, मातृत्व में, सहचरी बनने की कोशिश में, सच बोल रही हूँँ.. बहुत आगे नहीं, पीछे भी नहीं साथ चलना चाहती हूँँ।
★★★★★
आदरणीया डॉ.इन्दिरा जी की क़लम से

अमीर गरीब माता नहीं होती 
माता केवल माता है 
सम भाव सागर ममता का 
बहता जहां निरंतर है !

★★★★★
और चलते-चलते उलूक के पन्नों से
आदरणीय सुशील सर

कपड़े 
सोच के 
उतरे होते हैं 

कौन देखता है 

ना 
सोच पाता है 

ऐसा भी 
जलवा 

पहने हुऐ 
कपड़ों का 
होता होगा

★★★★★

लहर अमानवीयता की बेखौ़फ है आजकल
लगता है आदमियत की कश्ती डुबोकर ही छोड़ेगी
आज का यह कैसा लगा ?
आपके बहुमूल्य सुझावों की प्रतीक्षा रहती है।

हमक़दम के विषय के लिए


कल आ रही है विभा दी अपनी विशेष प्रस्तुति के साथ
कल का अंक पढ़ना न भूले।


-श्वेता सिन्हा

17 टिप्‍पणियां:

  1. सुंदर संकलन
    श्वेता जी , प्रणाम सभी को।

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाहहहह.....
    काफी मेहनत की है आपने..
    बेहतरीन रचनाएँ...
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह बहुत सुंदर रचनाये,सभी रचनाकारों को बधाई।
    प्रतुतिकरण तो लाज़वाब हैं।

    जागे होते तो संभल गए होते, मसला तो ये है
    साज़िश के तहत तुम्हें सोते हुए चलवाया गया है!

    बेहतरीन

    उत्तर देंहटाएं
  4. शुभ प्रभात श्वेता जी
    बहुत ही सुन्दर हलचल प्रस्तुति 👌
    बेहतरीन रचनाएँ, सूरदास जी की रचना लाजबाब है ,पम्मी जी का संस्मरण दिल को छू गया...
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  5. सस्नेहाशीष बहना
    उम्दा प्रस्तुतीकरण

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर शुक्रवारीय हलचल प्रस्तुति। आभार श्वेता जी पागल 'उलूक' के पन्ने को भी जगह देने के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुंदर हलचल.. श्वेता जी,
    बेहतरीन रचनाओं के बीच संस्मरण को स्थान देने के लिए आभार। सभी चयनित रचनाकारों को बधाई।
    धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बढ़िया संकलन ! सुन्दर भूमिका के साथ. सचमुच, मेरो मन अनत कहाँ सुख पावै.

    उत्तर देंहटाएं
  10. सारी रचनाएं पठनीय और बेहतरीन हैं..। उत्तम संकलन, उत्तम प्रस्तुति



    Please see the following link

    https://sahityavarsha.blogspot.com/2018/12/blog-post_7.html?m=1

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही सुन्दर रचना संकलन एवं प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  12. वाह!!श्वेता , सुंदर प्रस्तुति ! सभी लिंक बहुत ही उम्दा ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. सुन्दर प्रस्तुति. महाकवि सूरदास जी की रचनाएं साझा करने हेतु आभार. सभी चयनित रचनाकारों को बधाई एवम् शुभकामनाएं. अंत में विचारणीय पंक्तियाँ.

    उत्तर देंहटाएं
  14. भक्ति सागर के अनमोल रत्न की आभा के तले सुखद प्रस्तुति।
    सभी रचनाएँ बेहतरीन।
    सुंदर अंक ।
    सभी रचनाकारों को बधाई।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...