पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

शुक्रवार, 1 जनवरी 2016

167...नूतन वर्षाभिनन्दन


आप सभी को नव वर्ष की शुभ कामनाएँ

चलते हैं रचनाओं की कड़ियो की ओर..

जो तुम भी कह ना पाये,
वो मेरी हथेलियों पर रची,
मेहंदी ने कह दिया है...
पिया तुमसे बहुत प्यार करते है.
मेहंदी का रंग देख कर,
मेरी सहेलियों ने मुझसे कह दिया है..


ईंट गारे चूने से बना यह भवन
केवल एक मकान नहीं है
यह तो युग-युग से साधक रहा है
हर रोज़ परवान चढ़तीं
हमारी बेलगाम ख्वाहिशों का,
हमारे बेहिसाब सपनों का,
हमारे अनगिनत अरमानों का
हमारी हज़ारों हसरतों का


बीते बरस बीत गए 
ये सोच कर की आने वाले बरस 
कैसे बीतेंगे थोड़ी सी ख़ुशी देकर 
या बेरुखी से मुह मोड़ कर 
फिर चल देंगे ,साथ छोड़ कर। 
ये क्रम यूं ही चलेगा ,


पल पल कर साल गुजर जाते हैं
हम हर साल नये साल का स्वागत करते हैं
पुराने साल की गलतियों को भूल
नये साल में फिर वो ही दोहराते हैं
फिर वो ही दुख दर्द से गुजरते हैं
कुछ खुशियाँ भी बटोर लेते हैं

कहता है पुराना वर्ष
पहुंच चुके हो जहां,
उससे आगे चलना,
रुकना नहीं
न भय लाना मन में।
जो भूल हुई,
 न दोहराना उसे,
जो न पा सके,
अब पाना उसे
इस नव वर्ष में...


नया दिन नयी कविता में
उजाला मेरा नहीं 
पर प्रकट होता है मुझसे भी जो 
उसकी स्वच्छ उजली सूरत 
आने वाले बरस के 
हर एक दिन 
हर एक पल से 
झांक कर 
सौम्यता से कर रही है 
मेरा स्वागत जैसे 



और आज की अंतिम व सामयिक कड़ी..
"सबका साथ, सबका विकास ! 
आधे को सब्सिडी , आधे को ठेंगा"
भारतवर्ष में......... 
समय-समय पर असुरों का जन्म हुआ है । 
कभी कोई आकर अखंड भारत को दो टुकड़ों में बाँटता है, 
कोई जात-पाँत में, 
कोई आरक्षण के नाम पर दो टुकड़े करता है . 

अब बस
आज्ञा दें
यशोदा











6 टिप्‍पणियां:

  1. नव वर्ष की मंगलकामनाऐं सभी के लिये । सुंदर प्रस्तुति यशोदा जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सभी मित्रों, बंधु बांधवों एवं पाठकों को नूतन वर्ष २०१६ की हार्दिक शुभकामनायें ! नया साल आप सभीके जीवन में अपार खुशियाँ लाये और आपका हर दिन हर्षमय, उल्लासमय और सुखदायी हो यही मंगलकामना है ! आज की चयनित लिंक्स में मेरी रचना को सम्मिलित करने के लिये आपका हृदय से आभार यशोदा जी !

    उत्तर देंहटाएं
  3. आप सभी को नव वर्ष की शुभ कामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  4. नव वर्ष की पावन बेला में, है यही शुभ सन्देश;
    हर दिन आये आप के जीवन में, लेकर खुशियाँ विशेष।
    स्वागत सहर्ष है आगत का,
    है विगत वर्ष को विदा नमन,
    नव वर्ष आपका हो मंगल,
    स्वीकार करें मम् अभिनंदन।
    ईश्वर से प्रार्थना है कि नव वर्ष आपके,आपके परिवार,मित्रों एवं समस्त शुभचिन्तकों के लिये शुभदायी,मंगलकारक तथा सुख-समृद्धि दायक होवे ।
    नव वर्ष की अनंत हार्दिक शुभकामनायें!!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति ..
    सभी हलचलकारों एवं पाठकों को नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं

  6. सुंदर हलचल...
    आप सभी को नव वर्ष की शुभ कामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...