पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

मंगलवार, 26 जनवरी 2016

193...गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं...

जय मां हाटेशवरी...

आनंद पर मैं कुलदीप ठाकुर एक बार पुनः उपस्थित हूं...आनंद का एक और अंक लेकर...
सर्वप्रथम आप सब को भारत के 67वें  गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं...
लोकतंत्र हैं आ गया, अब छोड़ो निराशा के विचार को
बस अधिकार की बात ना सोचों, समझों कर्तव्य के भार को
भुला न पायेगा काल, प्रचंड एकता की आग को
शान से फैलाकर तिरंगा, बढ़ाएंगे देश की शान को
अब पेश है...मेरी पसंद के कुछ लिंक...

मेरी धरोहर में..yashoda दीदी...
मिले ग़म से अपने फ़ुर्सत तो सुनाऊं वो फ़साना....मुईन अहसन जज़्बी
s1600/moin-ahsan-jazbi
कभी दर्द की तमन्ना कभी कोशिश-ए-मदावा,
कभी बिजलियों की ख़्वाहिश कभी फ़िक़्र-ए-आशियाना।
मेरे कहकहों के ज़द पर कभी गर्दिशें जहाँ की,
मेरे आँसूओं की रौ में कभी तल्ख़ी-ए-ज़माना।
कभी मैं हूँ तुझसे नाला कभी मुझसे तू परेशाँ,
मेरी रिफ़अतों ले लर्जा कभी मेहर -ओ-माह-ओ-अंजुम।

KAVITA RAWAT में..KAVITA RAWAT
हम भाँति-भाँति के पंछी हैं
s320/indian%2Bflag
कहीं पे रस्ते चंपा के हों कहीं गुलाबी गलियाँ हों
कोई पहेली कहीं नहीं है, सीधा साफ़ इशारा है
हम  हम भाँति-भाँति के पंछी ………………………

मैं , लेखनी और ज़िन्दगी में...Madan Mohan Saxena
गणतन्त्र दिवस , देश और हम
s400/images
सोसाइटी ऑफिस के लोग
देश भक्ति से युक्त गानो की सी डी और ऑडियो को खोजने में ब्यस्त हैं
कि पूरे दिन इन गानों के बजाना होगा
बच्चे लोग इस बात से खुश है कि
कल स्कूल में पढ़ाई नहीं होगी
ढेर सारा मजा और  मिठाई अलग से मिलेगी
लेकिन भारत  काका इस बात से खिन्न हैं
कि अपनी पूरी जिंदगी सेना में खपाने के बाद भी
सरकार उनकी सुध लेने को तैयार नहीं है (एक रैंक एक पेंशन)




श्रद्धा सुमन में... अनिता।
कौसल्या का श्रीराम की वनयात्रा के लिए मंगलकामनापूर्वक स्वस्तिवाचन करना
सदा सुखी रह जिस धर्म का, नियमपूर्वक पालन करते
रघुकुल सिंह धर्म वही अब, रक्षा करे सभी ओर से
जिनको तुम करते प्रणाम, देव स्थानों व मन्दिर में
संग महर्षियों, देव सभी, वन में रक्षक बनें तुम्हारे
सद्गुणों से तुम प्रकाशित, दिए मुनि ने जो भी अस्त्र
रक्षा करें सभी ओर से, सदा तुम्हारी प्रियवर पुत्र !
शुश्रूषा पिता की की है, सेवा भी माताओं की
सत्य पालन से रहो सुरक्षित, बने रहो चिरंजीवी
समिधा, कुशा, पवित्री, वेदी, मन्दिर, पर्वत, वृक्ष सभी
पक्षी, पोखर, सर्प और सिंह, रक्षक बनें तुम्हारे सब ही
साध्य, विश्वेदेव तथा, संग महर्षि मरुद्गण सारे



Akanksha में...Asha Saxena
हताशा
सभी  जानते हैं
खाली हाथ जाना है
पर एक इंच जमीन के लिए
बरसों बरस न्याय के लिए
चप्पलें घिसते रहते
हाथ कुछ भी न आता
रह जाती केवल हताशा |
कुछ कहना है"में...रविकर
 




हम श्रधा से नमन करते हैं उन शहीदों का...
जिन्होंने अपना सर्वस्व इस मात्रभूमि के लिये अर्पण कर दिया...
धन्यवाद।

8 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात.
    भारतीय गणतत्र दिवस की अशेष शुभ कामनाएँ
    अच्छी प्रस्तुति
    अच्छी रचनाएंँ
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. गणतन्त्र दिवस की शुभकामनायें ! सुंदर सूत्र संकलन..आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति में मेरी पोस्ट शामिल करने हेतु आभार!
    सभी को गणतन्त्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  4. गणतन्त्र दिवस की हार्दिक शुभकामना
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  5. सभी को गणतन्त्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  6. हार्दिक शुभकामनायें
    बढ़िया प्रस्तुति
    आभार आपका-

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...