समर्थक

रविवार, 13 मई 2018

1031....ख़ामोशियों में चीख़ेे एहसास के बवंडर

सादर अभिवादन
कुछ लिखने जैसा है ही नहीं
हालात सिखाते हैं, बातें
सुनना और सहना !!
वरना....
हर श़ख़्श फ़ितरत से
बादशाह होता है।। 


चलिए चलें लिंक की तरफ़...


राकेश भाई की सुन्दर त्रिपदी...

यही दस्तूर है जीवन का....राकेश श्रीवास्तव
जो मैंने चाहा ना मिला तो क्या हुआ,
जो तुमने चाहा मिल गया तो क्या हुआ,

नई चाह है अब हम दोनों के पास, यही दस्तूर है जीवन का। 
-0-0-
फूल खिलने पर तुम खुश होते हो,
उसके मुरझाने पर तुम रोते हो,

कुछ भी करो बस चलते रहो , यही दस्तूर है जीवन का।


क्या हो तुम....पुरुषोत्तम सिन्हा


क्यूं मैं हूं, इक तुम्हारे ही आस में?
कभी कुछ पल जो आओ अंकपाश में,
बना लूं वो ही लम्हा खास मैं,
भूल जाऊँ मैं खुद को, कुछ पल तुम्हारे साथ में...


छांव-छांव कहाँ चलता है कोई ...रश्मि शर्मा

अपने हिस्से का रो लिया
चुप के,छुप के
समझा लिया ख़ुद को
कि कहावतें यूँ ही नहीं बनती
जीवन का अनुभव होता है इनमें
समझते थे
जो दिल में रहते हैं
वो कहीं भी रहे, दूर नहीं होते

बेबस हुआ सुकून....शशि पुरवार

जंगल कटते ही रहे, सूख गए तालाब 
बंजर होते खेत में, ठूँठ खड़े सैलाब 

जीवन यह अनमोल है, भरो प्रेम का रंग 
छोटे छोटे पल यहाँ, बिखरे मोती चंग 

शब्दों का गंगाजल....सुप्रिया पाण्डेय
My photo
शब्दों से हंस लेती हूँ,
शब्दों का अश्क़ बना 
दुख बनकर बह लेती हूं 
शब्दों से सजती
शब्दों में संवरती हूँ,

एहसास का बवंडर.....श्वेता सिन्हा

प्यासी ज़मी में दिल की बरसो न बनके बादल।
ग़म धूप की तपन से धड़कन हुई है बंजर ।।

वीरानियों  में  महके सूखे  हुए जो   गुल है।
ख़ामोशियों  में  चीख़ेे   एहसास  के  बवंडर।।
आज बस यहीं तक
आज्ञा लेते हैं
दिग्विजय ..









14 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    बेहतरीन रचनाओँ का संकलन
    मातृदिवस पर शुभकामनाएँ
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. उम्दा लिंक्स चयन अति सुंदर संकलन
    मातृदिवस की शुभकामनाओं के संग हार्दिक बधाई
    माँ पर रचना🤔

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर संकलन.मातृदिवस पर हार्दिक शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह!!सभी रचनाएँ एक से बढकर एक ...! मातृ.दिवस की शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. खूबसूरत रचनाओं का संकलन। सादर बधाई इस बेहतरीन अंक के लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर संकलन है सर।
    मेरी रचना को स्थान देने का हृदय से अति आभार आपका।
    सादर।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति। सभी चयनित रचनाकारों को बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  8. खूबसूरत रचनाओं का संकलन. सभी चयनित रचनाकारों को बधाई एवम् शुभकामनाएँँ।
    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  9. सुंदर संकलन। मेरी रचना को स्थान देने के लिए आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  11. दिग्विजय जी, आभार, सुन्दर प्रस्तुति, इस चर्चा में सम्मलित सभी रचनाकारों को बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  12. वाह बहुत ही सुंदर प्रस्तुति सादर।

    उत्तर देंहटाएं
  13. sundar charcha hamen shamil karne hetu dil se dhnyavad

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...