समर्थक

शनिवार, 5 मई 2018

1023... विध्वंस



विध्वंस की निशानी विध्वंस से मिटेगी
बहती शोणित दिखलाती नाश जिन्दगी

सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष


आगरा में भयावह स्थिति व्याप्त है...
क्या प्रलय की सूचना तो नहीं....


नापाकी की परख
भूल जाते हैं हम
बदला में करते


संसद की सीढ़िया चढ़ते लोग..लिब्राहम रिपोर्ट में इल्जाम सब पर ,मुजरिम कोई नही……
जले पर नमक यह कि इस घटना पर एक श्वेत-पत्र लाने की बात हुई थी….शायद .उन्हे मालूम नहीं….इतिहास के काले पन्नों से श्वेत-पत्र नहीं लिखा जाता..
अयोध्या बाबरी मस्जिद प्रकरण पर हुए दंगे पर उत्पन्न एक सहज आक्रोश…


जिस क्षण असंवेदनशीलता हावी होती है
उसी क्षण संस्कारहीन होते जाते हैं
फिर कैसे हो सृजन !
हाँ किसी भी प्रकार का
सृजन तो होता ही है
सृजन नष्ट करने के लिए
सुनामी लाने के लिए
सृजन विध्वंस संग संग मिस्से

Image result for युद्ध

युद्ध

जो युद्ध के पक्ष में नहीं होंगे
उनका पक्ष नहीं सुना जायेगा
बमों और मिसाइलों के धमाकों में
आत्मा की पुकार नहीं सुनी जायेगी
धरती की धड़कन दबा दी जायेगी टैंकों के नीचे



खोई पहचान

भू के कुछ वर्गों के पीछे
हम लड़े सदियों यहाँ ।
मच गया विध्वंस पर
किसको भला है क्या मिला ॥

संघर्ष के इतिहास में
धूमिल है गाथा प्रान्त की ।
पथ-प्रदर्शक थे जो सारे
करते हैं अब भ्रांत ही ॥

Image result for युद्ध

मानव

सत्ता लोभ के मद में चूर
उच्च स्तर में मगरूर
निम्न स्तर के साथ
चलेंगे मिलाकर हाथ
हमें सन्देह है
ये ऐसा नहीं करेंगे
अधिकार क्षेत्र की बात
कर रहे सदियों से अत्याचार
लड़ने को होंगे तैयार

Image result for लेखन

कविता क्या कर सकती है

तमाम सारी बाहरी ताकतें जब भाषा पर आक्रमण करती हैं और स्मृतियों का विनाश करने के
अपने राजकर्म या वणिककर्म में संलग्न हो जाती हैं, तो कविता मनुष्य या किसी व्यक्ति की
स्मृतियों को बचाने के प्राणपन संघर्ष में मुब्तिला होती है। विस्मरण के विरुद्ध एक पवित्र और ज़रूरी संग्राम की शुरुआत सबसे पहले कविता ही करती है, अगर वह अपने किसी अन्य हितसाधन
में नहीं उलझ गयी है, और सबसे अंत तक वही उस मोर्चे पर रहती है।
><
दुनिया में क्या हो रहा है... आते रहेंगे जब तक हैं
नैराष्य नहीं बल्कि जिजीविषा को प्रकट करना है

हम-क़दम
सभी के लिए एक खुला मंच
आपका हम-क़दम  सत्रहवें क़दम की ओर
इस सप्ताह का विषय है
:::: इन्तजार ::::
:::: उदाहरण ::::
गर आने वाला हो महबूब...
तो सुहाता है इंतज़ार!!

तन्हाई में भी अक्स उसी का,
दिखलाता है इंतज़ार।

क्या होगा जब मिलेगी नज़र,
सोचवाता है इंतज़ार।

पहला जुमला प्यार का
कहलाता है इंतज़ार।

क्या रंग पहना होगा उसने,
झलक दिखलाता है इंतज़ार।

आप अपनी रचना शनिवार 05  मई 2018 
शाम 5 बजे तक भेज सकते हैं। चुनी गयी श्रेष्ठ रचनाऐं आगामी
सोमवारीय अंक 07 मई 2018  को प्रकाशित की जाएगी ।
रचनाएँ ब्लॉग सम्पर्क प्रारूप द्वारा प्रेषित करें



13 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात दीदी
    सादर नमन
    इन्तजार तो है
    शान्ति का
    पर मुश्किल है
    पर असम्भव नहीं
    मिलेगी ज़रूर
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर लिंक संयोजन एक महत्वपूर्ण भूमिका के साथ.

    उत्तर देंहटाएं
  3. संवेदनाओं का इतिहास है आज की प्रस्तुति बहुत हृदय स्पर्शी भावों का मंचन सभी रचनाऐं एक से एक जाग्रती का रूप है प्रस्तुति के सम रूप एक रचना जेहन मे आई लिख रही हू।

    साहिर लुधियानवी साहब की एक नज्म

    ख़ून अपना हो या पराया हो
    नस्ले-आदम का ख़ून है आख़िर
    जंग मग़रिब में हो कि मशरिक में
    अमने आलम का ख़ून है आख़िर

    बम घरों पर गिरें कि सरहद पर
    रूहे-तामीर ज़ख़्म खाती है
    खेत अपने जलें या औरों के
    ज़ीस्त फ़ाक़ों से तिलमिलाती है

    टैंक आगे बढें कि पीछे हटें
    कोख धरती की बाँझ होती है
    फ़तह का जश्न हो कि हार का सोग
    जिंदगी मय्यतों पे रोती है

    इसलिए ऐ शरीफ इंसानो
    जंग टलती रहे तो बेहतर है
    आप और हम सभी के आँगन में
    शमा जलती रहे तो बेहतर है।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर धन्यवाद कुसुमजी इस संग्रहणीय कविता को साझा करने हेतु !

      हटाएं
  4. युद्ध तो हमेशा ही विध्वंश का कारण रहा है. "इंतजार" ने बहुत प्रभावित किया
    सभी लिंक्स चुनिदा थे.

    हम-दम का लिंक नहीं मिला जिस पर रचना भेजनी है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. आज की प्रस्तुति बहुत ही विचारणीय है। दिल को सोचने पर विवश करती शानदार प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  6. आज की सभी रचनाएँ सारगर्भित और विचारणीय है।
    शानदार प्रस्तुति
    आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  7. हमेशा की तरह बेजोड़ और अलग सी प्रस्तुति आदरणीया विभा दी की ! सादर।

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुन्दर लिंक्स .....बधाई,

    मेरे हिन्दी ब्लॉग "हिन्दी कविता मंच" पर "अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस" के नए पोस्ट "मजदूर - https://hindikavitamanch.blogspot.in/2018/05/world-labor-day.html " पर भी पधारे और अपने विचार प्रकट करें|

    उत्तर देंहटाएं
  9. शुभसंध्या दी:)
    आपकी अलग अंदाज़ की सारयुक्त प्रस्तुति सदैव प्रभावित करती है बहुत अच्छी रचनाएँ हैं दी।
    आभार
    सादर

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...