निवेदन।


फ़ॉलोअर

रविवार, 9 अगस्त 2020

1850 ..जिन्दगी यूँ किसलिये गुनाह सी हुई

सादर नमस्कार
आज हिमांचल में बिजली गुल है
पहाड़ी इलाके में कुछ भी निश्चित नहीं रहता
चलिए कोई बात नहीं..
नया की-बोर्ड है हाथ सेट हो जाएगा.
...
एक समय की बात है..... निराला जी का भोलापन 

एक बार वह रक्षा-बंधन के दिन सुबह-सुबह महादेवी जी के घर पहुँच गए। रिक्शा रुका। दरवाजे के बाहर से ही चिल्लाए- 'दीदी, जरा बारह रुपए तो लेकर आना।' बारह रुपए लेकर महादेवी जी बाहर निकलीं, पूछा- 'यह तो बताओ भैया, यह सुबह-सुबह बारह रुपए का क्या करोगे?' निरालाजी बोले- 'ये दुई रुपया तो इस रिक्शा वाले को। अब बचे दस रुपए। ये तुम्हारे लिए। तुम से राखी बँधवाऊंगा तो देने के लिए पैसे कहां से आएंगे!'
......
रचनाएँ...


सरहद के उस ओर ...

मैं सरहद के इस ओर से देखता हूँ
उस ओर की हरियाली,
कंटीली तारें नहीं रोक पातीं
मेरी लालची नज़रों को.
सतर्क खड़े हैं बाँके जवान
इस ओर भी, उस ओर भी,


"बंद दरवाज़े" ....

खोलना चाहती थी ,
मन की वीथियों के ।
बंद दरवाजे ...
नेह में डूबे ,
फुर्सत के लम्हों में ।


हर दिल की यही कहानी है  ....

कुछ पाना है जग में आकर 
क्या पाना है यह ज्ञात नहीं, 
कुछ भरना है खाली मन में 
क्या भरना है आभास नहीं !


एक गीत पुरानी डायरी से ....

यह जो सन्ताप है ,
किसका अभिशाप है ।
गीत बन सका न दर्द,
बन गया प्रलाप है ।
सौतेले रिश्तों के डाह सी हुई।
जिन्दगी यूँ किसलिये गुनाह सी हुई ?


इंसानियत का उजाला हो तो बेहतर है .....

गुज़रे वक्त के दामन पर लिखी कहानियां राहें सुझाती हैं
सम्भल कर चलते ,गद्दार धोखे बाजों से तो बेहतर है।।

खामोशियाँ भी तन्हाइयों से बहुत कुछ बता जाती हैं
बस समझने वाला प्यारा सा एक दिल हो तो बेहतर है।।

क्यों जुड़ जाते हैं हम ...!

क्यों जुड़ जाते हैं हम 
जाने-अनजाने लोगों से 
न कोई रिश्ता न दोस्ती 
फिर भी घर कर लेते हैं 
दिल में जैसे कोई अपने 
ख़ुशी देते हैं जैसे सपने 
चंद फिल्में ही देखीं थीं 
बस दिल से अपना लिया 


धन्यवाद..



8 टिप्‍पणियां:

  1. सस्नेहाशीष शुभकामनाओं के संग छोटी बहना

    सराहनीय प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  2. सुन्दर प्रस्तुति. मेरी कविता को शामिल किया. आभार.

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति. मेरी रचना साझा करने हेतु सादर आभार.

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर प्रस्तूति, यशोदा दी।

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।हमारी कविता को चर्चा में शामिल करने के लिए आभार।

    जवाब देंहटाएं
  7. निराला ही ऐसा निराला कृत्य कर सकते हैं, पठनीय रचनाओं के सूत्र देती सुंदर हलचल में मेरी रचना को शामिल करने हेतु आभार !

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...