निवेदन।


समर्थक

मंगलवार, 7 अगस्त 2018

1117....भीड़ में थे जब अकेले,तन्हा दोस्तों को साथ अपने खड़ा पाया

जय मां हाटेशवरी.....
कल मित्रता दिवस था......
शायद अब सच्चे मित्रों के उदाहरण भी नहीं मिलते.....
लगता है...मित्रता काये पावन रिश्ता भी खतरे में है.....
इसी लिये आवश्यक्ता पड़ी होगी.....
इस रिश्ते को बचाने के लिये.....
एक दिवस की.......
आज के सुदामा तो सोच भी नहीं सकते......
अपने  बचपन के मित्र कृष्ण से मिलने की भी.....
इसी लिये मुझे अच्छी लगती है.....
ये पौराणिक कहानियां......
....इन में वो सब कुछ है......
...जिस का आज अस्तित्व ही मिट चुका है.....
अब पेश है...मेरी पढ़ी हुई चंद रचनाएं....


भीड़ में थे जब अकेले,तन्हा दोस्तों को साथ अपने खड़ा पाया
कुछ सुनी उनकी कुछ कहा हमने उनसे
जिंदगी का भरपूर हमने लुफ्त उठाया
वो दोस्त ही थें जिनको हरदम साथ खड़े पाया
वरना रिश्तों की तो ठेरो हर साँस हमने दरकते पाया

दोस्ती हमारी
लड़ते थे झगड़ते थे
मान भी झट से जाते थे
वो दोस्त ही थे
जिनके  साथ हम बेफिक्र
जिया करते थे





माँ कभी छोड़ के जाती है क्या ?
माँ की स्मृति को
अलमारी में मत सहेजना ।
उनकी एक-एक बात को
अपने आचरण में
जीवित रखना ।




बंदी से
मुक्त होना चाहते हो,
तो साहस करो,
ज़ोर की आवाज़ के साथ
तोड़ दो किवाड़,
निकल जाओ यहां से
सीना तान के,
पहरेदार सोने का
नाटक करते रहेंगे।




जाने कौन है वो - -
इतनी भी
दूरी
ठीक नहीं ये सच है कि मशीन
 हैं सभी, किसी बहाने ही
सही ग़लत नहीं
रखनी जान
पहचान।



मित्र
कुछ उजियारा कर जाते हैं,
कुछ खुद में ही जल जाते हैं।
कुछ अंतिम पग तक साथ चलें,
कुछ समय से निकल जाते हैं॥
कुछ ‘भोर’ में साथ निभाते हैं,
कुछ निशा समय ही आते हैं।

My Photo
धीरे धीरे
नई दरख्त पर
एहसास लिपटें
धीरे धीरे
चल देते साथ गर
शब्द शब्द
तन्हाई खाक होती
धीरे धीरे !

आज बस इतना ही.....
अंत में.....

वह तो मैं ही था कि
बच गया किसी तरह
तुम्हारे प्रेम-पत्रों की नाव बना कर;
वह तो तुम ही थी कि
बच गई किसी तरह
मेरे प्रेम-पत्रों के चप्पू चला कर।
समस्या यह है कि अब हम
अर्घ्य किसे देंगे
प्रतिदिन?

अब अगले सप्ताह का विषय
हम-क़दम
सभी के लिए एक खुला मंच
आपका हम-क़दम का इक्तीसवाँ क़दम 
इस सप्ताह का विषय है
'शहीद'
...उदाहरण...
दरवाजे की चौखट पर
राह तकती, वो दो निगाहें,
अपनी सिलवटों का दर्द बयां कर रही है,
हर लम्हा पदचाप की सुधियां तलाश रही हैं।

कलेजा हथेली पर, सांसे घूमी-फिरी सी,
तारीखें मौन पसराए,आशाओं में झुरझुरी सी।
सूखे आंसू और दिल हाहाकार कर रोता है,
जब तिरगें में लिपटा,
किसी जवान का ज़नाज़ा होता है !!!
-निशा माथुर


उपरोक्त विषय पर आप को एक रचना रचनी है

अंतिम तिथिः शनिवार 11 अगस्त 2018 
प्रकाशन तिथि 13 अगस्त 2018  को प्रकाशित की जाएगी ।
रचनाएँ  पाँच लिंकों का आनन्द ब्लॉग के
सम्पर्क प्रारूप द्वारा प्रेषित करें

धन्यवाद।

16 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    बेहतरीन प्रस्तुति
    आभार
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह अनुपम ओर सराहनीय भी ...👍

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर प्रस्तुति श्रेष्ठ रचनाओं के साथ!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेहतरीन एवं भावपूर्ण संकलन सभी रचनाकारों को बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुंदर प्रस्तुति सभी रचनाकारों को बहुत बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह!!बहुत खूबसूरत संकलन । सभी चयनित रचनाकारों को हार्दिक अभिनंदन ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. यदि कृष्ण होते तो अवश्य
    सुदामा उनसे मिल पाते !
    कृष्ण तो कृष्ण हैं,
    हम सुदामा भी नहीं बन पाते.

    कुलदीप जी, आभारी हूँ.

    मित्रता भी एक साधना है.
    पहले अपने भीतर
    सुदामा को खोजना है.
    फिर जाकर
    कृष्ण को पाना है.

    सभी को बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर प्रस्तुति बेहतरीन संकलन , सभी रचनाकारों को बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  9. आदरणीय कुलदीप जी -- आपके द्वारा संयोजित बेहतरीन लिंक बहुत अच्छे लगे | और भूमिका में आपने बहुत ही महत्वपूर्ण बात कही कि दोस्ती जैसा पावन रिश्ता खतरे में है | हालाँकि अच्छेदोस्तों और लोगों की कमी नहीं पर फिर भी भौतिकवाद ने दोस्ती क्या हर रिश्ते की महिमा को पूर्ववत नहीं रहने दिया है | कृष्ण और सुदामा के रिश्ते का कहाँ कोई सानी है ? पर फिर भी दोस्ती जैसा रिश्ता दुनिया में कोई और नहीं जिस में हम अपने मन का सारा बोझ हल्का कर उचित मार्गदर्शन और निस्वार्थ प्रेम की उमीद रख सकते हैं | आपको हार्दिक बधाई और सभी रचनाकारों को भी ढेरों शुभकामनायें |

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुंदर संकलन एवं बेहतरीन प्रस्तुति आदरणीय कुलदीप जी की। सभी रचनाकारों को सादर बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  11. अच्छा संकलन समेटे सुंदर प्रस्तुति ।
    सभी रचनाकारों को बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  12. मित्र तो जीवन धारा है बिन सखा जीवन एक बेजान सी सूखी नदी की भांति हो जाती हैं जिसमें न कोई उमंग न तरंग होती हैं
    आज का संकलन लाजवाब है कृष्णा-सुदामा की मित्रता की तरह

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...