समर्थक

शुक्रवार, 6 अप्रैल 2018

994....मोक्ष का रास्ता.एक भीड़ से आता है।

प्रत्येक विद्यार्थी को अपनी योग्यता,आर्थिक, सामाजिक पारिवारिक परिस्थिति एवं शिक्षण संस्थान की भौगोलिक निकट उपलब्धता के तहत अपनी इच्छानुसार कहीं भी शिक्षा ग्रहण करने की पूरी स्वतंत्रता होनी चाहिए।
 विभिन्न राज्यों के सीमावर्ती क्षेत्र में निवास करने वाले 
प्रतिभावान विद्यार्थियों को पड़ोसी राज्य में कुछ ही दूर स्थित 
शिक्षण संस्थानों में केवल इसलिए प्रवेश नहीं मिल पाता क्योंकि 
वह संबंधित राज्य का मूल निवासी नहीं है। विभिन्न प्रकार की औपचारिक प्रमाण पत्रोंं की माँग कर उन्हें प्रवेश से वंचित कर दिया 
जाता है। इस नीति का शिकार अधिकतर संविधान के पाँचवीं सूची के अंतर्गत आने वाले देश के सबसे पिछड़े माने जाने वाले आदिवासी छात्र होते हैं, जो परिस्थिति वश दूर के संस्थानों में शिक्षा ग्रहण करने नहीं जा सकते।  इन छात्रों के शैक्षणिक विकास के लिए  कुछ नीतिगत बदलाव पर गंभीरतापूर्वक संशोधन पर विचार किया जा सकता है।

सादर अभिवादन

आइये अब आपकी रचनात्मकता के संसार में चलते है
💠🔷💠🔷💠🔷💠🔷💠

बेहद मनमोहक शैली में लिखने वाले कवि
अमित"निश्छल" जी की हृदयस्पर्शी रचना पढ़िये

चाँद, तू गैर है, जानता हूँ...
दिल के ख़्वाबों को सीने में पालता हूँ।
एक नज़र तो देखेगा मुझको,
तमाम उम्र इस जद्दोजेहद में काटता हूँ।
चाँद, तू गैर है, ये जानता हूँ...।

💠🔷💠🔷💠🔷💠🔷💠

आदरणीया ऋता शेखर मधु जी की प्रकृति की खुशबू बिखेरती रचना पढ़िये
शौक से चढ़ने लगी हैं
मृत्तिकाएँ चाक पर
नीर घट के साथ रहकर
सौंधपन लाने लगे|

💠🔷💠🔷💠🔷💠🔷💠


आदरणीय चेतन राम किशन"देव" जी की सुंदर भावाभिव्यक्ति
मैंने माना प्रेम को श्रद्धा,
उसने युक्ति गुना भाग कर
शब्द भाव को युग्मित करके,
रची कविता प्रेम राग की।

💠🔷💠🔷💠🔷💠🔷💠

आदरणीय पुरुषोत्तम जी की अनुपम रचना पढ़िये

कथनी करनी हो रहे विमुख परस्पर,
वाचसा कर्मणा के मध्य ये अन्तर,
उच्च मानदंडों का हो रहा खोखला प्रचार,
टूटती रही मान्यताओं की ये मीनार!


💠🔷💠🔷💠🔷💠🔷💠

आदरणीया सदा जी की कलम से  सारगर्भित अभिव्यक्ति
जब बातें
कड़क और स्प्ष्ट हों
तो मन भी सिक्का हो जाता है
क्या लेना है और क्या छोड़ना
निर्णय किसी हथेली पर
चाहकर भी नहीं छोड़ता मन !!!

💠🔷💠🔷💠🔷💠🔷💠

चलते-चलते उलूक के पन्नों से आदरणीय  सुशील सर 
की प्रभावपूर्ण कलम से

ये शाश्वत सत्य है 
भीड़ की जातियाँँ
बदल जाती हैंं 
धर्म बदल जाता है 


💠🔷💠🔷💠🔷💠🔷💠
हम-क़दम का तेरहवें क़दम
का विषय...
...........यहाँ देखिए...........

...........................................आज का अंक आपको कैसा लगा कृपया,अवश्य बताइयेगा।
आप सभी की सुझावों की प्रतीक्षा में


17 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात सखी
    ज्वलंन्त व जरूरी मुद्दा
    साधुवाद
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. संविधानानुसार देश चले और संविधान जनता हित में बने यह होना चाहिए...
    उम्दा प्रस्तुतीकरण

    उत्तर देंहटाएं
  3. हजार से एक सप्ताह दूर आज के एक सुन्दर अंक में जिक्रे उलूक करने के लिये आभार श्वेता जी।

    उत्तर देंहटाएं
  4. एक से बढ़ कर एक रचना! संकलन है या पुष्प गुच्छ पूरी पोस्ट महक गई साधुवाद लेखकों को और चयनकर्ता को
    नमन 🙏

    उत्तर देंहटाएं
  5. लाज़वाब संकलन। सभी रचनाएं अपनी विशेष छाप छोड़ती हुयी। भूमिका का विषय बेहद गंभीर है और मै स्वयं इस समस्या का सामना कर चुकी हूँ।
    अद्भुत अंक। अद्भुत रचनाएं। सभी चयनित साथियों को बधाई और शुभकामनाएं
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  6. सादर अभिनंदन
    बहुत बढिया लिंको का संकलन.

    उत्तर देंहटाएं
  7. एक से बढ़ कर एक रचना के साथ विचारणीय भूमिका..
    सभी चयनित रचनाकारों को बधाई और शुभकामनाएँँ

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  9. सुंदर प्रस्तुति। विविध विषयों पर सारगर्भित सूत्रों का चयन। प्रस्तावना में सामयिक विषय पर सार्थक चर्चा। इस अंग के लिए चयनित सभी रचनाकारों को बधाई एवं शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. कृपया अंग को अंक पढ़ा जाए। धन्यवाद।

      हटाएं
  10. सुंदर प्रस्तुति।सभी रचनाकारों को बधाई एवं शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  11. "
    सम्मानित श्वेता जी का यह प्रयास बहुत प्रसंशनीय है। आप सभी पाठकों, रचनाकारों और मार्गदर्शकों की भूमिका भी धन्यवाद की पात्र है। आप सभी का हृदय तल से आभार प्रकट करता हूँ।

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुंदर प्रस्तुति ,सभी लिंक लाजवाब।

    उत्तर देंहटाएं
  13. उत्तम रचनाओं से अलंकृत मनोहारी पटल।
    .
    ‘श्वेता सिन्हा’ जी को करबद्ध नमन, जिन्होंने “चाँद, तू गैर है”, को आप सभी गुणीजनों के समक्ष प्रकट किया। आशा है कि इस कविता ने आपको निराश नहीं किया होगा। यह सत्य है कि हरेक रचना रचनाकार के लिए बहुमूल्य होती है। और यह रचना मेरे लिए उस बहुमूल्य से भी कीमती है, जिसे भावनाओं के गहरे समुंदर में डूबकर लिख पाया हूँ।
    सभी विद्वज्जनों को सादर नमन🙏🙏🙏

    उत्तर देंहटाएं
  14. अच्छी रचनाओं का प्रभावशाली प्रस्तुतिकरण। सभी रचनाएँ पढ़ीं, सभी बेहतरीन हैं। सादर ।

    उत्तर देंहटाएं
  15. बेहतरीन प्रस्तुतिकरण विचारणीय भूमिका के साथ उम्दा लिंक संकलन...

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...