निवेदन।


समर्थक

रविवार, 29 अप्रैल 2018

1017....."तुम तो साहित्य-सेवी हो फिर यह यह राजनीति?"

सादर अभिवादन
आज 29 अप्रैल का दिन, ऐसा कुछ नहीं हुआ, जो लिखा जा सके
हाँ, रायपुर का एक गरम रविवार ज़रूर है...
ज़ियादा विचार न करते हुए चलें
आज-कल में पढ़ी रचनाओं की ओर....


न्याय-तंत्र ही माँगे न्याय...रवीन्द्र सिंह यादव 
लोकतंत्र का एक खम्भा 
कहलाती न्याय-व्यवस्था, 
न्याय-तंत्र ही माँगे न्याय
आयी कैसी जटिल अवस्था। 


"लेखनी की आत्महत्या"...विभा दीदी

स्तब्ध-आश्चर्य में डूबी मैंने यह निर्णय लिया कि इससे 
इस परिवर्त्तन के विषय में जानना चाहिए... 
मुझे अधिक प्रतीक्षा नहीं करनी पड़ी... मुझे देखकर 
वह स्वत: ही मेरी ओर बढ़ आया।

औपचारिक दुआ-सलाम के बाद मैंने पूछ लिया , 
"तुम तो साहित्य-सेवी हो फिर यह यह राजनीति?"

उसने हँसते हुए कहा, "दीदी माँ! बिना राजनीति में पैठ रखे मेरी पुस्तक को पुरस्कार और मुझे सम्मान कैसे मिलेगा ?"


मैं : विधुर.. सुप्रिया पाण्डेय

मेरे सुख- दुख,मुस्कान-आँसू,
बाँटती रही ताउम्र
बन के मेरी हमकदम,
सारे फूल चुने जीवन के,
काँटो से होकर बढ़ाये कदम,
देकर थाती तीन अमूल्य धन,
छोड़कर यूँ बीच मे साथ कर गयी निर्धन ...


हर नया दिन...नूपुर जी कहती हैं 

हर नया दिन 
एक फूल की तरह
खिलता है,
और कहता है  . .
उठो जागो !
बाहर चलो !
शुरू करो
कोई अच्छा काम,
लेकर प्रभु का नाम ।



बालों पे चांदी सी चढ़ी थी.....निधि सिंघल

ध्यान से देखा बालों पे
चांदी सी चढ़ी थी,
थी तो मुझ जैसी
जाने कौन खड़ी थी।


इंसान...ओंकार केडिया
मेरी फ़ोटो
वह आदमी,
जिससे मैं सुबह मिला था,
कमाल का इंसान था,
बड़ा दयावान,
बड़ा संवेदनशील,
किसी का बुरा न करनेवाला,
किसी का बुरा न चाहनेवाला,


गम कहाँ जाने वाले थे रायगाँ मेरे...रोहिताश घोड़ेला

कितने दिन हो गये अफ़लातून से भरे हुए 
यानी कब तक जियें खुदा को जुदा किये हुए 

उलझी जुल्फें हैं और जिन्दगी भी एक तस्वीर में 
क्या यही बनाना चाहता था मै इसे बनाते हुए?

दें आदेश दिग्विजय को
सादर

17 टिप्‍पणियां:

  1. सस्नेहाशीष व शुभकामनाओं के संग आभारी हूँ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह....
    बेहतरीन प्रस्तुति
    आभार
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर प्रस्तुति, सभी रचनाऐं बहुत सुंदर सभी चयनित रचनाकारों को बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. हलचल से जुड़े सभी आदरणीय/ आदरणीया कवि/ कवियत्रियों को सादर प्रणाम,शुभ प्रभात,हर रोज जैसे एक मंद शीतल हवा का झोंका लिए ये सुबह सुबह ताम को दूर करने वाली रचनाओं का संग्रह में हर्षित कर जाता है,
    मेरी रचना को स्थान देने के लिए हृदयतल की गहराई से धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति,
    सभी चयनित रचनाकारों को बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह!!बहुत लाजवाब प्रस्तुति। सभी रचनाकारों को बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. आजकी फिज़ा में बात ही कुछ और है,
    सबकी बात और अंदाज़े-बयां में असर है .

    बधाई सभी को .
    दिग्विजय जी का बहुत बहुत आभार .

    उत्तर देंहटाएं
  8. लाजवाब लिंक्स हैं सारे।

    इस रोशन बगिया में मेरा भी एक दरख़्त शामिल करने के लिए आभार रहेगा।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. लाजवाब प्रस्तुति..सभी चयनित रचनाकारों को बधाई
      आभार।

      हटाएं
  9. मेरे नाम में थोड़ी सी गलती हो रक्खी है
    इसमे आपकी गलती नहीं है ये नाम ही इतना अनोखा है 😂😂😁
    "रोहिताश घोड़ेला"

    उत्तर देंहटाएं
  10. आभार....
    गलती सुधार दी गई है
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुंदर लिंक्स। मेरी रचना शामिल करने के लिए शुक्रिया।

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुन्दर रविवारीय अंक. लिंक संयोजन बेहतरीन है. बधाई आदरणीय दिग्विजय भाई जी. इस अंक में चयनित सभी रचनाकारों को बधाई एवं शुभकामनायें.
    मेरी रचना को स्थान देने के लिये आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत ही प्यारा संयोजन
    बेहतरीन रचनाओं का एक प्यारा मंच सभी सम्मानित रचनाकारों को बधाइयाँ

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...