समर्थक

गुरुवार, 26 अप्रैल 2018

1014.... चल पथिक, अभय अथक पथ पर

||| सादर नमस्कार |||

आज 26 अप्रैल को विश्व बौद्धिक संपदा अधिकार दिवस 
(world intellectual property day)  मनाया जाता है।
विश्व बौद्धिक संपदा संगठन के द्वारा 26 अप्रैल  2000 में यह घोषणा की गई।
"किसी व्यक्ति अथवा संस्था द्वारा अपनी मस्तिष्क के उत्पादन  के अनुसार 
किया गया सृजन बौद्धिक संपदा कहलाती है।"

व्यक्ति को उनके बौद्धिक सृजन के परिप्रेक्ष्य में प्रदान किया जाने वाला 
अधिकार बौद्धिक संपदा अधिकार कहलाता है।

इस दिवस को मनाये जाने का उद्देश्य बौद्धिक संपदा के अधिकारों 
(कॉपीराइट,पेटेंट,ट्रेडमार्क, औद्योगिक डिजायन इत्यादि) के संदर्भ में जागरुक करना है।

इस वर्ष इसका मुख्य विषय(Theme) है,
डिजिटल रचनात्मकता:संस्कृति की पुनर्कल्पना
 Digital Creativity:Culture Re imagined)

आप भी अपनी बौद्धिक संपदा के प्रति जागरुक रहकर अपनी बौद्धिक संपत्ति का सदुपयोग कर सकते हैं।

तो चलिए अवलोकन करते है आपकी बौद्धिक संपदा का....
🔷🔴🔷🔴🔷🔴🔷

आदरणीय विश्वमोहन जी की अद्भुत  
शैली में लिखी
सारगर्भित,प्रेरक रचना का आस्वादन कीजिये
दह दहक दीया, दिल बाती का
तिल जले तेल, सूख छाती का।
समा हो खुद, बुझने को भुक भुक,
फिर, परवाने का मरना क्या!
🔷🔴🔷🔴🔷

मिलिये एक बेहद प्रतिभाशाली, अद्भुत युवा कवि नवीन कुमार श्रोत्रिय जी से
जो हिंदी साहित्य की लुप्त होती लेखन विधायें दोहा,छंद,कहमुकरी इत्यादि में सिद्धहस्त तो है ही साथ 
गीत,गज़ल,हायकु जैसी हर विधा में माँ शारदा का आशीष इन्हें प्राप्त है।
उनकी लिखी भाई-बहन के स्नेह में भीगी एक रचना
बचपन की यादों का दर्पण,तडप जगायें भारी 
पलकें भारी हो  जाती जब,आये  याद तुम्हारी 
रक्षाबंधन    आया   बहिना,राखी तेरी,  गहना 
ओ प्यारी बहिना,ओ मेरी बहिना..
🔷🔴🔷🔴🔷🔴🔷

आदरणीया मीना भारद्वाज जी द्वारा रचित प्रकृति सौंदर्य हायकु के रुप में



बढ़ी आबादी

सिमटी कुदरत
चिन्ता जनक
🔷🔴🔷🔴🔷🔴🔷

आदरणीय लोकेश जी की मन छूती अभिव्यक्ति
तन्हाई के जंगल में 
भटकते हुए 
याद का पल
जब भीग जाता है 
अश्क़ों की बारिश में 
🔷🔴🔷🔴🔷🔴🔷

मानव मन के सूक्ष्म भावों को उकेरती आदरणीया मीना शर्मा जी की रचना
जो प्रीत का धागा कच्चा हो,
टूटेगा ही !
पर उस धागे का एक छोर
जब बँधा हृदय से रह जाए !
और दूजा छोर खोजने में,
हर साँस उलझ कर रह जाए !
तब मन तो, दुखता है ना ?

🔷🔴🔷🔴🔷🔴🔷
हम-क़दम के सोलहवें क़दम
का विषय...




आदरणीय रवींद्र जी लेकर आयेंगे कल का अंक।

आज की प्रस्तुति कैसी लगी अवश्य बताइयेगा
आप सभी के उत्साहवर्धक प्रतिक्रियाओं की प्रतीक्षा में


17 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    बौध्धिक सम्पदा दिवस
    हमे तो याद भी नहीं है कि
    एसा भी कोई दिवस होता है
    नई जानकारी हेतु आभार
    रचनाएँ भी सटीक चुनी आपने
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. सस्नेहाशीष संग असीम शुभकामनाएं
    हम और समृद्ध हो गए इस पोस्ट से

    उत्तर देंहटाएं
  3. अच्छी प्रस्तुति। बौद्धिक संपदा के प्रति जागरूकता होना अच्छी बात परंतु जब आप की सम्पदा की किसी और के घर में दिखती है बड़ा क्षोभ होता है.... परन्तु आप उस स्थिति में कुछ नहीं कर सकते और कॉपी राइट एक्ट इतना उलझा हुआ है कि आम सर्जक उस तक पंहुच ही नहीं पाता।
    सभी रचनाएँ बेहद प्रभावशाली हैं। सभी रचनाकारों को बधाई।
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुप्रभात.
    विश्व बौद्धिक संपदा अधिकार दिवस पर आदरणीया श्वेता जी की प्रस्तुति नवीनता और वैचारिक लिंकों का सुन्दर समावेश है. प्रस्तावना में दी गयी जानकारी उपयोगी व ज्ञानवर्धक है. इस अंक में चयनित सभी रचनाकारों को बधाई एवं शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बौद्धिक संपदा के प्रति जागरुकता उत्पन्न करती ज्ञानवर्धक प्रस्तावना और सुन्दर लिंक संयोजन .

    उत्तर देंहटाएं
  6. एकदम नया शब्द और दिवस ....बौद्धिक दिवस ...
    ना जाना ना सुना ना पहचाना शुक्रिया
    सभी रचनायें उत्तम और सराहनीय ...नमन

    उत्तर देंहटाएं
  7. उम्दा प्रस्तुतिकरण
    बेहतरीन रचनायें
    मेरी रचना को स्थान देने के लिए सादर आभार

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुंंदर प्रस्तुति..
    बेहतरीन रचनाएँ
    बौद्धिक संपदा नई जानकारी.. बढिया
    आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बेहतरीन प्रस्तुतिकरण उम्दा लिंक संकलन.....
    आज विश्व बौद्धिक संपदा अधिकार दिवस है आज ही जाना मैने भी.....बहुत धन्यवाद एवं बधाइयां।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बौद्धिक संपदा से अनजान थी. जानकारी देने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद श्वेता जी. सुंदर प्रस्तुति सभी रचनाकारों को हार्दिक बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  11. वाह!!श्वेता ,बौद्धिक संपदा दिवस की जानकारी देने हेतु बहुत बहुत धन्यवाद ..बेहतरीन प्रस्तुति ..सभी लिंक शानदार ।

    उत्तर देंहटाएं
  12. प्रिय श्वेता -- आजके संकलन में बोद्धिक संपदा का जिक्र बहुत ही जानकारी भरा है |बौद्धिक संपदा की चोरी का जिक्र अक्सर सुना जाता है | ये दुखद है | किसी के मौलिक विचार या अन्यकलात्मक मौलिक सृजन ही उसकी बौद्धिक संपदा है |आजके दिन के महत्व से सचमुच मैं भी अपरिचित थी | अच्छी जानकारी दी आपने | नये कवि का हार्दिक स्वागत है | सभी रचनाकारों को पढ़ा | सभी रचनाएँ अच्छी लगी | आपको भी सस्नेह बधाई और शुभकामनायें |

    उत्तर देंहटाएं
  13. बौद्धिक संपदा ही सबसे बड़ी संपदा होती है। किसी की वाणी को, विचार को साझा करना तो ठीक है पर चुरा लेना और अपना बताना अपराध और पाप है। आज के अंक में चयनित रचनाकारों को बधाई। श्वेता जी को प्रभावशाली प्रस्तुति हेतु साधुवाद । मेरी रचना का चयन करने हेतु अत्यंत आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  15. मेरी रचना को अपने ब्लॉग पर स्थान प्रदान करने के लिए सभी सुधुजनों का हृदय तल से आभारी हूँ. : Naveen Shrotriya "Utkarsh"
    Shrotriya Mansion Bayana
    Http://NKutkarsh.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...