समर्थक

मंगलवार, 3 अप्रैल 2018

991...मिटा सके जो वजूद हमारा जिंदगी की  औकात क्या है?


जय मां हाटेशवरी....
स्वागत है आप सभी का.....
हम आप सभी के सहयोग से  जल्द ही 1000  अंकों का सफर पूरा करने वाले हैं.....
बहुत आनंद मिलता है.....आप सभी का साथ पाकर....
हमारी  सोच को जो हिला न सके वो जज़्बात क्या है?
इन परेशानियों से जो हुयी हैं वो मुलाकात क्या है?
हम तो लिखने आयें हैं एक नई दास्तान धरती पर
मिटा सके जो वजूद हमारा जिंदगी की  औकात क्या है?
अब पेश है आज के लिये मेरी पसंद...


जिसका जितना आँचल था....
मीना कुमारी
मातें कैसी घातें क्या, चलते रहना आठ पहर
दिल-सा साथी जब पाया, बेचैनी भी साथ मिली
होंठों तक आते आते, जाने कितने रूप भरे
जलती-बुझती आँखों में, सादा-सी जो बात मिली


रुका हुआ पंखा
 बलराम अग्रवाल
 “आजकल के बच्चों का कुछ भरोसा नहीं है… पता नहीं किस बात पर… !” कहते-कहते उनकी नजर मेरी नजर से टकरा गयी।
तो यह बात थी!!!—यह सुन, एकाएक ही मेरी आँखें उन्हें देखते हुए डबडबा आईं।

तो कहानी शुरू होती है....
देवांशु निगम
 तीसरा इन उपलब्ध पॉसिबल प्रॉस्पेक्ट में से काफ़ी ने इन्हें राखी के बंधन में बाँध लिया था । साथ ही दूसरे मोहल्ले और कॉलोनी के लड़कों से इनकी सुरक्षा का अनकहा ज़िम्मा भी इनके मज़बूत कंधों पर दे दिया गया था या इन्होंने ले रखा था । अब चूँकि इस तरह के ज़िम्मेदार अन्य मोहल्ले और कॉलोनी में भी  थे इसलिए और कहीं जहाँ भी इन्होंने दाल का कुकर चढ़ाया कोई ना  कोई सीटी निकाल भागा ।


सुकून नहीं संभलता
प्रतिभा कटियार
वो एक हाथ जो ठीक उस वक़्त काँधे पर महसूस होता है जब आप तन्हाइयों के रसातल में डूबते जा रहे हों उस हाथ की छुअन का जादू नहीं संभलता. इंतजार संभल जाता है,
बाट जोहना संभल जाता है, महबूब की एक नज़र नहीं संभलती,आंसू संभल जाते हैं, पीड़ा की तो जैसे आदत सी हो चली हो, लेकिन राहत भरा एक पल का साथ नहीं संभलता. दूर देश बैठे किसी की याद में होने वाली आवाजाही नहीं संभलती, उस देश की हवाओं में घुलकर आने वाली सांसों की जुम्बिश नहीं संभलती, चौदस का चाँद संभल जाता है, रातरानी की खुशबू संभल जाती है, दोस्त की हथेलियों में हथेलियाँ छुपा देना और चुपचाप साथ चलते जाने का सुख नहीं संभलता...



बिखरी लाली
पुरुषोत्तम कुमार सिन्हा
खेलती है लहरों पर किरणें,
या लहरों से कुछ बोलती हैं किरणें!
आ सुन ले इनकी बोली,
झिलमिल रंगों की ये बारात लेकर,
मीठी सी ये बात लेकर,
चल उस ओर चलें संग आलि!
चलों चुन लाएं, क्षितिज से वो बिखरी लाली.....



कमर कस लो कोई बाकी कसर ना रहे
शैल सिंह
ठोकरों ने जब स्वर्णिम अवसर दिया है
तो बांट रहे हो जहन को किन खेमों में
चमन सर्वोपरि बन्धु हमारे तुम्हारे लिए
सोचो कि हरदम सुन्दर पहर नहीं होता
चलो,गूनें,मथें लें संकल्प सदा के लिए


"तन्हाई रास आने लगी"
बस तू और ये इन्टरनैट
साथ रहे ......
तो समझो सब कुछ सैट
अब तो बस .…......
तुझ पर ही मन लगाने लगी,
तब से..........सच में........
तन्हाई रास आने लगी......!!!!

अब बारी है
हम-क़दम 
सभी के लिए एक खुला मंच
आपका हम-क़दम  तेरहवें क़दम की ओर
इस सप्ताह का विषय है
:::: उड़ान  ::::
:::: उदाहरण ::::
कब करेगा ये समाज
मेरे आन्तरिक गुणों का मूल्यांकन?
नारी हूँ मैं।
आकाश दिख रहा है 
विस्तार देख लेंगें
अब पंख मिल गये हैं
उड़ान भर लेंगें !!!!!!!!

आप अपनी रचना शनिवार 07  अप्रैल 2018  
शाम 5 बजे तक भेज सकते हैं। चुनी गयी श्रेष्ठ रचनाऐं आगामी सोमवारीय अंक 09 अपैल 2018  को प्रकाशित की जाएगी । 
रचनाएँ ब्लॉग सम्पर्क प्रारूप द्वारा प्रेषित करें

धन्यवाद



15 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात भाई कुलदीप जी,
    बेहतरीन प्रस्तुति...
    शानदार रचनाएँ..
    आभार...
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभ प्रभात बहुत सुन्दर प्रस्तुतीकरण |

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेहतरीन प्रस्तुतिकरण उम्दा लिंक संकलन...
    मेरी रचना को स्थान देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह!!बेहतरीन संकलन ।सभी रचनाकारों को हार्दिक बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेहतरीन संकलन ।
    सभी रचनाकारों को हार्दिक बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर अंक आदरणीय।
    सारी रचनाएँ बेहद सराहनीय है।
    सुंदर अंक के लिए आभार आपका।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर प्रस्तुति..
    सभी रचनाकारों को बधाई
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  9. आज की सभी रचनाएँ बहुत सुंदर हैं। अच्छी गद्य रचनाओं को सामने लाने के लिए सादर धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह सुंदर प्रस्तुति, बेहद शानदार रचनाऐं ।
    सभी चयनित रचनाकारों को हार्दिक बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  11. अति उत्तम प्रस्तुति....
    वाह।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...