समर्थक

सोमवार, 30 अप्रैल 2018

1018...हम-क़दम का सोलहवाँ क़दम

सादर अभिवादन
कहते हैं सोलह की संख्या बड़ी प्यारी होती है, इससे आगे कोई 
जाना ही नहीं चाहता...पर मज़बूरी भी कोई चीज होती है
हवा और समय को कोई नहीं रोक सका....

-0-
एक ही विषय पर कविता लिखना जो इस्तेमाल करता है 

अपनी सोच का कठिन नहीं उसके लिए....
एक छोटी सी कहानी कि कैसे एक कवि ने चार विषयों पर 

दो पंक्तिया की रचना कह दी...
उस समय अमीर खुसरो को ज़ोर से प्यास लगी थी । कुएँ के पास जा पहुँचे । वहाँ चार औरतें पानी भर रही थीं। खुसरो के पानी माँगने पर उन्होंने कविता सुनाने की शर्त रख दी । 
एक ने खीर पर, दूसरी ने चर्खे पर, तीसरी ने कुत्ते पर 
और चौंथी ने ढोल पर। 
वे आज के हमारे जैसे कवि नहीं, अमीर खुसरो ही थे – सार्थक और मौलिक रचने वाले । उन्होंने एक ही पद्य सुनाया और चारों महिलाओं से पानी पाने की शर्त जीत गये :
खीर पकाई जतन से, चर्खा दिया चलाय
आया कुत्ता खा गया, तू बैठी ढोल बजाय ।
-0-
चलिए चलें देखें....आपकी लेखनी के द्वारा प्रसवित रचनाएँ...

आदरणीय सखी मीना शर्मा की लेखनी

अनगिनत जन्मों से जुड़ा है
मेरा अस्तित्व तुम्हारे साथ,
कुछ यूँ....

जैसे साँसों से जीवन
जैसे वसंत से फागुन,
जैसे सूरज से भोर
जैसे पतंग से डोर,

-0-
आदरणीया आशा सक्सेना जी की कलम से

यूँ तो याद नहीं आती पुरानी बातें
 जब आती हैं
 मन  को ब्यथित कर जाती हैं
उसका अस्तित्व
अतीत में  गुम हो गया है
उसे  खोजती है या
 अस्तित्व उसे खोजता है
कौन किसे खोजता है 

-0-
आदरणीया साधना वैद दीदी 

विवाहोपरांत जब बाहर निकली
उस विराट वटवृक्ष की छाया से
तो मन में अटूट विश्वास था कि
अपने अस्तित्व को अब तो मैं
ज़रूर पा सकूंगी लेकिन
गृहस्थी की शतरंज की बिसात पर
मेरी हैसियत उस अदना से प्यादे की थी

-0-
आदरणीय पुरुषोत्तम सिन्हा की कलम से

कैसे भूलूं कि तेरे उस 
एक स्पर्श से ही था अस्तित्व मेरा....
शायद! इक भूल ही थी वो मेरी!
सोचता था कि मैं जानता हूँ खूब तुमको,
पर कुछ भी बाकी न अब कहने को,
न सुनने को ही कुछ अब रह गया है जब,
लौट आया हूँ मैं अपने घर को अब!
-0-

आदरणीय सखी सुधा सिंह जी की लेखनी

क्या जीवित रहना अस्तित्व है?
या कुछ पा लेना अस्तित्व है?

ये अस्तित्व है प्रश्नवाचक क्यों?
और सब है उसके याचक क्यों?

-0-
आदरणीय सखी नीतू जी

इस दुनिया के नक्शे पर
एक छोटा सा अस्तित्व हमारा
झूठे भ्रम में जिंदा है जो
करता रहता मेरा तुम्हारा

-0-

आदरणीय सखी आँचल पाण्डेय
गंगा,तुलसी का घुट कर बुरा हाल हुआ 
और दानव ने मनु को गोद लिया 
फ़िर तम का मनु सिरताज बना 
तब हनन धर्म अस्तित्व हुआ 
घोर कलजुग अस्तित्व से घिरी धरा 
ये भूमि असुरों का लोक हुआ 

-0-

आदरणीय सखी रेणुबाला
मेरी सीमायें और असमर्थतायें सभी जानते हो तुम ,
सुख में भले विरक्त रहो -
पर दुःख में मुझे संभालते हो तुम   ;
ये चाहत नहीं चाहती कि मैं बदलूं
और भुला दूं अपना अस्तित्व !!


-0-

आदरणीय सखी कुसुम कोठारी ने  लिखी दो रचनाएँ

और अस्मिता बचाने की लडाई
खूब लडो जुझारू हो कर लड़ो
पर रुको 
सोचो ये सिर्फ 
अस्तित्व की लड़ाई है या 
चूकते जा रहे 
संस्कारों की प्रतिछाया... 


जग में मेरा अस्तित्व

तेरी पहचान है मां 
भगवान से पहले तू है
भगवान के बाद भी तू ही है मां
मेरे सारे अच्छे संस्कारों का
उद्गम  है तू मां


-0-
आदरणाय सखी डॉ. इन्दिरा गुप्ता ने भी दो रचना रच दी

अस्तित्व कहाँ तन का रहा 
अब केवल परछाई है 
हवस मिटाने वाले तन  मैं 
बदनीयत की बादशाही है 


अस्तित्व पा रही माँ  तुझ मैं 

मेरा विघटन मत करना 
श्वास लेऊ और पंख फैलाऊ 
इतना बस माँ तुम करना !

-0-
आदरणीय पंकज प्रियम जी

यहां हर कोई लड़ रहा है
अपने अस्तित्व की लड़ाई।
दुनियां में खुद को बचाने 
को खुद से खुद की लड़ाई।
कोई लड़ रहा यहां दो जून
की रोटी जुटाने की लड़ाई।

-0-

 बहना सुप्रिया"रानू" की दो रचना
My photo
सृष्टि के अस्तित्व का आधार,
नर नारी के अंतरंग प्रेम का व्यवहार,
आज एक महामारी बना,
समय से पूर्व ही यह शारीरिक भूख
जैसे छुवाछुत की बीमारी बना,



फिर भी मैं नारी हूँ,
My photo
मेरा अस्तित्व संलिप्त है...
असीम प्रेम का सागर है,मुझमे
लुटाती हूँ बाल्यावस्था से वृद्धावस्था तक,
कभी भाइयों के लिए,कभी पति,कभी पुत्र तो कभी पौत्र,
कभी खुद को अलग न सोच पायी,
मैं हूँ सबके लिए बस इसी बात पर जीती आयी,

-0-

आदरणीय भाई सुशील जी जोशी जी का बिल्ला...

किसी की 
छाया भी अगर 
कहीं पा जायेगा 
तेरा अस्तित्व
उस दिन उभर
कर निखर जायेगा
कौड़ी का भाव 
जो आज है तेरा
करोड़ों के मोल
का हो जायेगा 
-0-
रचनाएँ सुविधानुसार लगाई गई है....
इज़ाज़त दें
यशोदा




17 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात यशोदा जी,बहुत ही उम्दा प्रस्तुति खुशरो जी की 4 पंक्तियाँ हमारी सब्बि कवियताओं पर भारी हैं,कम और सरल शब्दों में बड़ी बात कह देना ही गूढ़ता है,मेरी रचनाओं को स्थान देने के लिए बहूजी बहुत आभार, सभी रचनाकारों को शुभकामनाएं अस्तित्व के भिन्न पहलुओं को सबने बहुत बारीकी से लेखनी से उकेरा है...हलचल युमहि प्रगति पथ पर अग्रसर रहे ... शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  2. बाली उम्र को सलाम...
    सस्नेहाशीष संग असीम शुभकामनाएं छोटी बहना
    उम्दा प्रस्तुतीकरण

    उत्तर देंहटाएं
  3. शुभ प्रभात |मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद |

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह बहुत सुन्दर प्रस्तुति। आभार 'उलूक' के कबाड़ से भी कुछ ढूँढ कर निकाल लाने के लिये यशोदा जी।

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह!!बहुत ही खूबसूरत संकलन ....सभी रचनाकारों को हार्दिक अभिनंदन ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर प्रस्तुति..सभी रचनाकारों को शुभकामनाएं अस्तित्व के अलग अलग पहलुओं पर सबने बहुत बढिया कविता।
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही खूबसूरत संकलन ....सभी रचनाकारों को हार्दिक शुभकामनाएं
    मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद |

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह लाजवाब सुंदर प्रस्तुति आदरणीय सखी यशोदा जी 👌👌
    अस्तित्व के भिन्न भिन्न रंगो से सजा हलचल का ये सोलहवाँ कदम भी अपने हर कदम की तरह बेमिसाल है
    सभी रचनाएँ उत्क्रष्टता को प्राप्त हैं
    सभी रचनाकारों को खूब बधाई
    मेरी रचना को भी शामिल करने के लिए आभार
    आप सबका दिन मंगलमय हो सुप्रभात शुभ दिवस 🙇

    उत्तर देंहटाएं
  9. सुन्दर प्रस्तुती ....सुन्दर हलचल .

    उत्तर देंहटाएं
  10. हमसफ़र का यह सफ़र बहुत ही खुशनुमां लग रहा है ! सभी रचनाकारों का हृदय से अभिनन्दन ! मेरी रचना को सम्मिलित करने के लिए आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार यशोदा जी ! हमकदम का यह प्रयास नि:संदेह रूप से सराहनीय, वन्दनीय, अभिनंदनीय है !

    उत्तर देंहटाएं
  11. ये कहाँ आ गए हम तेरे साथ चलते चलते....
    सच, हमकदम के इस कदम ने ना जाने कितनी ही नई मंजिलों के रास्ते खोल दिए हैं रचनाकारों के लिए ! मन जब पूरी तरह नाकारा हो जाता है, लेखनी जब आगे ना बढ़ने की जिद पर अड़ जाती है, ऐसे समय में हमकदम के लिए लिखने का उत्साह बोझिल कदमों में पुनः ऊर्जा का संचार कर सृजन के पथ पर अग्रसर होने को प्रेरित कर देता है....आभार ! आभार !! आभार!!!

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुंदर संकलन।मेरी रचना को जगह देने के लिए बहुत आभार

    उत्तर देंहटाएं
  13. सुंदर संकलन।मेरी रचना को जगह देने के लिए बहुत आभार

    उत्तर देंहटाएं
  14. आदरणीय यशोदा दी -- सर्वप्रथम क्षमा प्रार्थी मेरी रचना को ढूंढने में आप लोगो को बहुत मेहनत करनी पडी | फिर भी उसे शामिल कर मुझे कृतार्थ कर दिया आपने | और सोलहवा कदम बेमिसाल जिसने किया निहाल | सभी सार्थक रचनाएँ पढ़ी | सभी उम्दा और सार्थक रहीं | सभी रचनाकारों को नमन | सभी को बुद्ध पूर्णिमा की हार्दिक शुभकामनायें |

    उत्तर देंहटाएं
  15. सोलहवाँ अंक हम-क़दम का अपनी संख्या की विशेषता के अनुरूप अब किशोर वय से युवा होता हुआ...
    अस्तित्व शीर्षक पर विभिन्न दृष्टिकोण एक स्वस्थ काव्य मंथन के रूप में उभरे हैं. सभी रचनाकारों को बधाई एवं शुभकामनायें.
    आदरणीया यशोदा बहन जी को कुशल प्रस्तुतिकरण के लिये बधाई. लुभावना अग्रलेख.

    उत्तर देंहटाएं
  16. सुंदर संकलन।मेरी रचना को जगह देने के लिए बहुत आभार

    उत्तर देंहटाएं
  17. कविवर अमीरखुसरो की कविता के साथ हमकदम के सोलहवें अंक का अस्तित्व बहुत ही लाजवाब रहा....बेहतरीन प्रस्तुति.... सभी रचनाकारों को हार्दिक शुभकामनाएं ।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...