निवेदन।


फ़ॉलोअर

शनिवार, 2 दिसंबर 2017

869... हाइकु 2


कोई भी स्वचालित वैकल्पिक पाठ उपलब्ध नहीं है.चित्र में ये शामिल हो सकता है: पाठ


आप सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष

बस दो दिन की दूरी
पल होंगे सिंदूरी



पलाश फले
जंगल के दिल में
अनल जले।

हाइकु

माँ है महान
पूजा जीवन की
करें सम्मान।

हाइकु

चरखी घूमी
चिपकी चिंगारियाँ
गगन सजा।


हाइकु

मेरी जवानी
कटे हुये पंखों की
एक निशानी।

हाइकु

खोलो कमरे
आने दो धूप हवा
मिटे सीलन ।


फिर मिलेंगे


8 टिप्‍पणियां:

  1. आदरणीय दीदी
    सादर नमन
    नजर ती हमारी आप पर
    ज्यादा देर रात तक जागना
    सेहत के लिए हनिकारक होता है
    अच्छी प्रस्तुति
    पसंद आई
    सादर

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. मुझे पता था कि आप ध्यान दे रही होंगी
      जिम्मेदारी उठाओ तो बिना पूरा किये नींद कहाँ आती है
      कई बहाने थे कि आज की प्रस्तुति नहीं बना पाती
      पत्रिका लोकार्पण होना है चार दिसम्बर को रचना जमा हुई मुद्रक के पास 30 नवम्बर को
      फेसबुक से आपको पता चलता होगा मेरी भाग दौड़
      कल शाम में बनाने बैठी तो नेट महाशय हठी नौ बजे से बारह बजे तक डटे रहे साथ नहीं दूंगा तो पति महोदय को जगाना पड़ा उनके कुछ जादू दिखे
      खैर

      ढ़ेरों आशीष संग अक्षय शुभकामनाएं

      हटाएं
  2. आदरणीय दी आपके हाइकु मन मोह गये।
    सुप्रभात शुभ दिवस।

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर हायकु संकलन......

    जवाब देंहटाएं
  4. आदरणीय विभा जी
    सुप्रभात
    आप की हर प्रस्तुति एक अलग रंग लिए
    मन को मोह जाती है
    आप की मेहनत नजर आती है

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...