निवेदन।


फ़ॉलोअर

मंगलवार, 19 दिसंबर 2017

886......ख़्वाब सुनहरे बेचा कर


जय मां हाटेशवरी....
लंबे इंतजार के बाद हिमाचल-गुजरात विधान सभा के चुनाव परिणाम जनता के विवेक के अनुसार आ गये हैं....
हर चुनाव-परिणाम के बाद जो होता है....वो ही हो रहा है....
हम तो आशा करते हैं.....आए नतीजे देश-प्रदेश के हित में हो.....
जिन्हे सत्ता मिली....उन्हे शुभकामनाएं.....
जो विपक्ष में बैठ गये हैं.....उनके पास समय है....जनता का दिल जीतने का.....


यादों में---बृजेश नीरज।
कभी तो निकलोगे रस्ते हमारे
दीदार का ये आसरा बहुत है
मिलना तो कहना भुलाया नहीं था
जीने को बस ये फसाना बहुत है

रो रही हैं आज क्यों फिर पुतलियाँ ...
उँगलियों की चाल, डोरी का चलन
जानती हैं खेल सारा पुतलियाँ
खुल गया टांका पुराने दर्द का
रो रही हैं आज क्यों फिर पुतलियाँ

ख़्वाब सुनहरे बेचा कर
जो भी  तुझसे  प्रश्न  करे
उसके मुँह पर ताला कर

बेबस  चीखें   कहती   हैं
ज़ुल्म न हमपे इतना कर

सफ़ेद फूलों के बारे में
सफ़ेद फूलों के संग नहीं पैबस्त होता
भावनाओं का कोई रंग
उदास मौसम में उम्मीद से खिलते हैं सफ़ेद फूल
जैसे वादियों में खिलती है झक्क सफ़ेद बर्फ

इस्तेहार

कितनी सुर्खियां जलकर ख़ाक हुई,
सोच कर यलगार बन बैठे है हम।

बदल जाता मुसाफिर हर सफर में,
काठ के पतवार बन बैठे हैं हम।

यदि आप बच्चे की ज़िद और गलत व्यवहार से परेशान हैं, तो अपनाएं ये उपाय...
1)  सबसे पहले खुद के क्रोध पर काबू पाए......
जब भी बच्चा जिद्दी या गलत हरकत करने लगता हैं तो हमें उस पर क्रोध आने लगता हैं। क्रोधवश हम उसे डांटने या मारने लगते हैं। न्यूटन के नियमानुसार हर क्रिया की प्रतिक्रिया ज़रूर होती हैं। सोचिए...जब बच्चे के गलत व्यवहार से हम खुद बड़े होकर अपने आप पर काबू नहीं रख पाए तो वो छोटा सा बच्चा...हमारे गुस्सा होने पर कैसे शांत रहेगा? इसलिए गुस्सा न करते हुए बच्चे से प्यार से पेश आएं। मारपीट की जगह आप बच्चें को शारीरिक श्रम वाली सज़ा दे सकते है जैसे ग्राउंड के दो चक्कर लगाना या 5 बार सीढ़ी उतरना चढ़ना, इससे शारीरिक श्रम भी हो जाएगा और श्रम से दिमाग से निकलने वाले सिरोटोनिन से बच्चें का मूड भी ठीक हो जाएगा। जहाँ तक संभव
हो बच्चे को सब के बीच सजा देने से बचे। इससे उनके आत्मसमान को ठेस पहुंचती है।
2)  सही गलत का अंतर समझाएं........
आप यदि बच्चे की कोई बात नहीं मान रहे हैं तो उसका सही कारण बच्चे को समझाएं। सही कारण समझ में आने पर बच्चा खुद ही उस बात के लिए ज़िद नहीं करेगा। जैसे कि उपरोक्त उदाहरण में यदि उस दंपति का व्यवहार बच्चे के साथ अति लाड-प्यार का न होकर संतुलित होता, तो वो बच्चे को ये समझाने में कामयाब होते कि ज्यादा चॉकलेट से उसकी सेहत को नुकसान होगा...उसके दांतो में दर्द होगा...इसलिए वे उसे और चॉकलेट नहीं दे रहे हैं लेकिन दो दिन बाद वे उसे चॉकलेट ज़रूर लाकर देंगे तो ये नौबत
नहीं आती।



राम तुम बन जाओगे
और इसमें प्रतिष्ठित
यह भग्न प्रतिमा
मुक्ति का वरदान पाकर
छूट जाउँगी
सकल इन बंधनों से,
राम तुम बन जाओगे
          झूला .....
       एक वृक्ष कटा
       साथ ही
      कट गई
      कई आशाएँ
      कितने घोंसले
     पक्षी निराधार
     सहमी चहचहाहट


धन्यवाद।










15 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात भाई
    शुभ कामनाएँ फिर से नई सरकार की
    बढ़िया प्रस्तुति
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  2. सुप्रभात ...
    भावभीनी हलचल ... सरकार की सरकार को बधाई ...
    आभार मेरी ग़ज़ल को जगह देने के लिए ...

    जवाब देंहटाएं
  3. सस्नेहाशीष संग शुभ प्रभात
    अच्छी प्रस्तुतीकरण

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर प्रस्तुति
    उम्दा रचनायें

    जवाब देंहटाएं
  5. मेरी रचना को शामिल करने हेतु बहुत बहुत धन्यवाद कुलदीप जी । सभी रचनाएँ लाजवाब ।

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर सूत्र सभी ! मेरी रचना को सम्मिलित करने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद कुलदीप जी ! आभार आपका !

    जवाब देंहटाएं
  7. आदरणीय कुलदीप जी,
    सुप्रभातम्।
    बहुत सुंदर लिंक संयोजन,सारी रचनाएँ बहुत अच्छी.लगी।
    सभी रचनाकारों को हार्दिक बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर, उम्दा लिंक संकलन....

    जवाब देंहटाएं
  9. उम्दा लिंक्स। मेरी रचना शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं
  10. सुंदर प्रस्तुति, उम्दा लिंक्स...आभार मेरी ग़ज़ल शामिल करने के लिए

    जवाब देंहटाएं
  11. सभी रचनाकारों को हार्दिक बधाई..विविधताओं से परिपूर्ण आज की प्रस्तुति..
    आभार।

    जवाब देंहटाएं
  12. प्रभावी प्रस्तुति कुलदीप जी। बधाई। रचनाओं का चयन कौशल उत्तम। इस अंक के लिए चयनित रचनाकारों को बधाई एवं शुभकामनाएं। आभार सादर।

    जवाब देंहटाएं
  13. बहुत सुन्दर इस अंक के लिए चयनित रचनाकारों को बधाई एवं शुभकामनाएं

    जवाब देंहटाएं
  14. इस टिप्पणी को लेखक ने हटा दिया है.

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...