निवेदन।


फ़ॉलोअर

मंगलवार, 4 सितंबर 2018

1145....जागो उठो

जय मां हाटेशवरी.....

आज सोच रहा हूं......
जीवन में क्या खोया, क्या पाया है.....
स्मरण  कर रहा हूं आज उनको.....
जो आज मेरे पास नहीं है.....
आज मेरे पास केवल उनकी यादें हैं.....
मुझे अपने जीवन में.....
अधिकांश अच्छे लोग ही मिले.....
कुछ ऐसे लोग भी मिले.....
जो अधिक अच्छे नहीं थे.....
उनसे भी मुझे कुछ विशेष क्षति नहीं हुई......
मैं आज उन हाथों को भी  याद करता हूं......
जिन्होंने मुझे अनेकों अनेक बार  हाथ पकड़कर रास्ता पार करवाया.....
मैं नहीं भूल सकता उन आंखों को.....
जो समय समय पर मेरे लिये काम आयी....
संसार बहुत ही सुंदर है......
उससे भी सुंदर ईश्वर की बनाई हुई हर चीज है......
....जो पढ़ा है.......
पेश है उस में से  कुछ चुनी हुई रचनाएं.....


प्रभु, मैं याचक हूँ, माँगती रहूँगी ...
 प्रभु,
मैंने देखा उनको कीमती वस्त्र चढ़ाते,
...
कम उम्र थी मेरी
तब बड़े यत्न से मैंने भी कुछ कुछ लिया,
लेकिन बड़ा अटपटा लगा ।


My Photo
संभावना
जब - जब हम हाथ मिलाएं
गर्मजोशी से ,
अपनी - अपनी कमियों में
देख पायें,
नयी संभावनाएं !


 मेरे विचार मेरी अनुभूति
जागो उठो
वंचित,शोषित,पीड़ित जन सब, उठो खड़े हो अपने दम पर
आत्मविश्वास जगाओ अभी, हो जाओ तुम खुद पर निर्भर |
अधिकार नहीं मिला किसी को, हाथ जोड़कर माँगो न कभी
ताकतवर शक्ति छीन लेते, तुम भी छीनो झुकना न कभी |
यह देश है तुम्हारा, मालिक तुम्ही हो इस हिंदुस्तान के


क्षतिपूर्ति (कहानी)
अरिजीत ने सेफ से पचास हजार रुपये निकाले और कर्मचारी को बुलाकर कहा,
“तुम तो उनके परिचित हो, ये जाकर उनको दे देना, कहना कि तुम अपनी ओर से दे रहे हो, आराम से अपना सेंटर खोलें...समझे? ये मत बताना कि डीएम साहब ने दिया है”
कर्मचारी विमल को मानने लगा था. उसका चेहरा खिल उठा. वह पैसे लेकर निकल गया.
“अब खुश?” अरिजीत ने तारिका से पूछा. तारिका ने हाँ में सिर हिलाया. अरिजीत बोला,
“उसकी बेटी को बड़ी होने दो, उसकी पढ़ाई का खर्च भी हम देंगे, कोई बहाना सोचना शुरू कर दो आज से उस मदद के लिए भी! हाहाहा”
“हाँ, जिस दिन उनके सामने जाने की हिम्मत जुट जाए, पैर पकड़ के माफी माँग लूँगी उनसे...” कहते-कहते तारिका के आँसू धारा बनके बहने लगे.



कर्म का उपदेश कान्हा नाम है ...
पूछ कर देखो बिहारी लाल से
है जहां पर प्रेम वो ब्रज-धाम है
रास हो बस रास हो गोपाल संग
गोपियों का घर न कोई ग्राम है
हे कन्हैया शरण में ले लो मुझ
तू ही मेरा कृष्ण तू ही राम है


पुलिसवाले तो पैसे लेते हैं सर! देते नहीं
लेकिन तभी सहा. प्रशासकीय अधिकारी ने दखल दिया। उन्हें लगा कि रकम तय करने में ऑडिटर ने चूक की है। उनके हिसाब से यह रकम ढाई हजार होनी थी। उन्होंने अपने हिसाब से गणना के ब्यौरे ऑडिट विभाग को भेजे। विभाग ने अपनी चूक मानी और वसूली साढ़े सात हजार से ढाई हजार पर आ गई। हम सबकी सहानुभूति कर्मचारी के साथ थी। उसने घपला तो किया नहीं था! मैंने ग्राहक का नाम पूछा। (तब तक मुझे केवल रकम बताई गई थी, ग्राहक का नाम नहीं।) नाम सुनकर मैं बल्लियों उछल पड़ा। वे मेरे अच्छे मित्र निकले।

मैं उन्हें तब से जानता हूँ जब वे उप निरीक्षक (सब इंस्पेक्टर) थे। नाम है - श्री ए. पी. तोमर। रेकार्ड में श्री अनंग पाल सिंह तोमर और दुनियादारी में श्री आनन्द पाल सिंह तोमर। वे खण्डवा में हैं। बहुत ही शानदार आदमी। उनसे बात किए बिना ही मैंने सबको भरोसा दिला दिया कि वे रकम लौटा देंगे। कर्मचारियों ने अविश्वास
और हैरत से कहा - ‘लौटा देंगे! आप कैसे कह रहे हैं? आपने बात कर ली उनसे?’ मैंने बताया कि वे ऐसे आदमी हैं जिनसे बात किए बिना ही उनकी ओर से वादा किया जा सकता

post-feature-image
हिंदी दिवस: हिंदी बोलने पर शर्म नहीं, गर्व कीजिए...
इंसान की कल्पनाशक्ती का विकास मातृभाषा में ही हो सकता हैं। सच्चाई यहीं हैं कि अंग्रेजी की तुलना में हिंदी इंसान को ज्यादा समृद्ध बना सकती हैं।



हम-क़दम
सभी के लिए एक खुला मंच
आपका हम-क़दम का पैंतीसवाँ क़दम
इस सप्ताह का विषय है
'मितवा'
...उदाहरण...
कल से क्या
आज से गवाही ले मितवा
आंखों में झीलें हैं
झीलों में रंग
रंगवती हलचल की
-हरीश भादानी
उपरोक्त विषय पर आप को एक रचना रचनी है
एक खास बात और आप इस शब्द पर फिल्मी गीत भी दे सकते हैं


चाहूँगा मैं तुझे....
दर्द भी तू चैन भी तू
दरस भी तू नैन भी तू
मितवा ...
मेरे यार तुझको बार बार
आवाज़ मैं न दूँगा, आवाज़ मैं न दूँगा

अंतिम तिथिः शनिवार 08 सितम्बर 2018
प्रकाशन तिथि 10 सितम्बर 2018  को प्रकाशित की जाएगी ।

रचनाएँ  पाँच लिंकों का आनन्द ब्लॉग के
सम्पर्क प्रारूप द्वारा प्रेषित करें
 

धन्यवाद।

22 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर गीत सुबह सुबह मज़ा आ गया ...
    लाजवाब सुंदर हलचल आज की ... आभार मेरी रचना को जगह देने के लिए ... मंगल मंगलमय हो ...

    जवाब देंहटाएं
  2. सुप्रभातम् कुलदीप जी,
    सर्वप्रथम जन्मदिवस की हार्दिक शुभकामनाएं स्वीकार करें।
    सदा निरोग और प्रसन्न रहें,जीवन की हर खुशी आपकी झोली में हो ईश्वर से यही प्रार्थना है।
    आज की भूमिका की पंक्तियाँ बेहद प्रेरक है।
    सभी रचनाएँ बहुत अच्छी है। सुंदर प्रस्तुति के लिए बधाई आपको। सभी रचनाकारों को हार्दिक शुभकामनाएं।
    सादर।

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर रचनाएं शानदार प्रस्तुति सभी रचनाकारों को बहुत बहुत बधाई

    जवाब देंहटाएं
  4. शुभ प्रभात भाई कुलदीप जी
    बेहद खूबसूरत प्रस्तुति
    आभार...
    और आपको
    `उत्तर से उन्नति,
    दक्षिण से दायित्व ,
    पूर्व से प्रतिष्ठा,
    पश्चिम से प्रारब्ध,
    आग्नेय से उर्जा,
    नैऋत्य से नैतिकता,
    वावव्य से वैभव,
    ईशान से ऐश्वर्य,
    आकाश से आमदनी,
    पाताल से पूंजी,
    दसों दिशाओ से
    शान्ति, सुख समृद्धि,
    और सफलता प्राप्त हो
    आपको आपके जन्म दिवस पर शुभकामनाएँ!
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  5. उम्दा हलचल
    खोया पाया का हिसाब किताब होना चाहिए लेकिन जो खो दिया वो अचेतन मन का हिस्सा हो तो ज्यादा अच्छा होता है.

    जवाब देंहटाएं
  6. सुप्रभात कुलदीप जी..जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएँँ
    सुंदर, संतुष्ट, संतुलित प्रस्तुति के साथ आज की लिंक विशेष बन गई है।
    आभार।

    जवाब देंहटाएं
  7. जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं कुलदीप जी। बहुत ही सुन्दर और भावपूर्ण संकलन सभी चयनित रचनाकारों को बधाई बेहतरीन प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  8. ईश्वर की बनाई हुई हर चीज सुंदर हैं!! बहुत बढिया, कुलदिप जी!
    हो पुरी दिल की हर ख्वाहिश आपकी,
    और मिले खुशियों का जहां आपको,
    जब कभी आप मांंगेआसमान का एक तारा,
    तो खुदा दे दे सारा आसमान आपको!!
    जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं...
    मेरी रचना को शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  9. हार्दिक बधाई जन्मदिन और इस सुंदर संकलन की।

    जवाब देंहटाएं
  10. जन्मदिन पर शुभकामनाएं कुलदीप जी। सुन्दर चर्चा प्रस्तुति।

    जवाब देंहटाएं
  11. शुभप्रभात .. आदरणीय कुलदीप जी को जन्मदिन की असीम शुभकामनाएं..सुंदर हलचल प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  12. सुंदर प्रस्तुति...सभी रचनाकारों को हार्दिक शुभकामनाएं।जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं 🙏🙏🙏

    जवाब देंहटाएं
  13. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति !
    कुलदीप जी को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं!

    जवाब देंहटाएं
  14. इस टिप्पणी को लेखक ने हटा दिया है.

    जवाब देंहटाएं
  15. सर्वप्रथम कुलदीप जी को जन्मदिन की ढेर सारी बधाइयाँ
    आज का संकलन बहुत ही सुंदर है
    अंत में दोस्ती फ़िल्म का गीत सुन के मन खुश हो गया

    जवाब देंहटाएं
  16. हार्दिक शुभकामनाएं जन्मदिन की । बहुत खूबसूरत संकलन ।सभी चुनिंदा रचनाकारों को बधाई ।

    जवाब देंहटाएं
  17. जन्म दिवस की हार्दिक शुभकामनायें भाई कुलदीप जी को.
    सारगर्भित भावनात्मक भूमिका के साथ बेहतरीन प्रस्तुति.
    सभी रचनायें प्रभावशाली हैं.
    चयनित रचनाकारों को बधाई एवं शुभकामनायें.

    जवाब देंहटाएं
  18. प्रिय कुलदीप जी -- बहुत चाहा कि आपको सुबह- सवेरे ही जन्म दिन की शुभकामनायें दे दूं पर नहीं हो सका जिसका मुझे खेद है | आपको मेरी ओर से जन्म दिन की ढेरों हार्दिक शुभकामनायें और बधाई | माँ सरस्वती आपके सहित्य प्रेम और पारदर्शी भावपूर्ण लेखन को नए आयाम दे | |उत्तम स्वास्थ्य के साथ आप हमेशा साहित्य सेवा में लगे रहें यही कामना है | आज की सभी रचनाएँ देखी बहुत अच्छी हैं| सभी रचनाकारों को हार्दिक शुभकामनायें | आपको भी हार्दिक बधाई इस सुंदर प्रस्तुति के लिए |

    जवाब देंहटाएं
  19. विलम्बित बधाई जन्मदिन की कुलदीप जी ,बहुत सुंदर प्रस्तुति ।
    सभी रचनाकारों को बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  20. जन्मदिन की ढेरों शुभकामनाएँ आदरणीय कुलदीप जी,विलंब से टिप्पणी के लिए क्षमा प्रार्थी🙏
    बेहद ख़ूबसूरत प्रस्तुति... सभी रचनाकारों को ससम्मान शुभेच्छाएँ💐💐💐

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...