पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

बुधवार, 12 अप्रैल 2017

635....फैसले के ऊपर चढ़ गई अधिसूचना, एक पैग जरा और खींच ना

सादर अभिवादन स्वीकार करें,
वैशाख मास चालू हो गया है.....
कमाल है..खाते क्या हैं ये बैशाख नन्दन
दिन-पर-दिन मोटे होते जा रहे हैं ..
ये तो राम जी ही जाने....
देखिए आज  की पढ़ी रचनाओं की एक झलक...

साहित्‍य ढूढतें पन्‍नों में
जबकि साहित्‍य नेटमय हुआ
साहित्‍यकारों की कलम छूट गयी
कलम विहीन साहित्‍यकार हुआ
कवियत्री के मुख में अब कलम नहीं
कलम और पन्‍ना नेट हुआ

गुज़र रही है ज़िंदगी 
कुछ इस तरह कि 
जैसे इसे किसी की 
कोई चाहत ही नहीं 
कभी दिल है तो 
कभी दिमाग है ज़िंदगी 

ओ मेरे परदेसी बेटे
बतलाओ कब घर आओगे
दिन- रात नहीं कटते तुम
कब तक यूँ ही तरसाओगे
जब से तुम परदेस गए हो 
घर लगता है वीराना 

केवल संस्कार दो...कुलदीप सिंह ठाकुर
अपनी खुशियाँ ही मांग रही है...
वो माएं सब से
यही कह रही है
बच्चों  के लिये
न मांगो लंबी आयु की दुआ
न धन दौलत
...केवल संस्कार दो...




ज़िन्दगी में ये कैसा मोड़ आया,
जो सबसे प्यारा था उसे छोड़ आया.

वो प्यारा था, ये तब मैंने जाना,
जब उसे उस मोड़ पर छोड़ आया.

सुनाये सिर्फ मोहब्बत के गीत दुनिया को
हम अपने सीने में ऐसा सितार रखते हैं !

तुम्हारा प्यार न ले जाए कहीं जान मेरी
तुम्हीं से मिलने का बस इंतज़ार रखते हैं !



भीगी आँखों से सुधा सोच रही थी 
लड़की बधाई की जननी हो सकती है 
पर उसका अपना जन्म? 



जीभ से अपने ही 
होंठों को खुद ही 
तर करता 

शराफत की मेज 
में खुली विदेशी 
सोचता ‘उलूक’ 

चार स्तम्भों को 
एक दूसरे को 
नोचता हुआ 
आजकल सपने 
में देखता ‘उलूक’ 

फिर मिलेंगे यहीं इसी दिन
सादर






8 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    सादर नमन
    उत्कृष्ट चयन
    आभार
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर सूत्र ! मेरी पस्तुति को शामिल करने के लिए आपका हृदय से धन्यवाद दिग्विजय जी ! बहुत-बहुत आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर प्रस्तुति दिग्विजय जी । आभार 'उलूक' के सूत्र को शीर्षक पर स्थान देने के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्‍दर प्रस्‍तुति , मेरी रचना को लिंक में शामिल करने के लिए हार्दिक आभार

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर संकलन, मेरी कविता सम्मलित करने के लिए आभार |

    उत्तर देंहटाएं

  6. शुक्रिया दिग्विजय जी, आपने "पांच लिंकों का आनन्द में" चर्चा में सुन्दर लिंकों को शामिल किया है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...