पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

शुक्रवार, 7 अप्रैल 2017

630...........हमेशा होता है जैसा उससे कुछ अनोखा नहीं होगा

सादर अभिवादन
आज आसान नहीं था प्रस्तुति बनाना
काफी से अधिक जोर लगाना पड़ा घुटने को
थोड़ी तबियत खराब थी घुटने की..
पहले आज्ञा दें यशोदा को...

पहली बार राजेश जी यहां पर
हमेशा ज़ुल्म  से   लड़ता रहा जो
वही क़ातिल का खंज़र धो रहा है

बदलते   दौर में इंसाँ की फितरत
मसल कर   फूल काँटे  बो रहा है

अनमोल मोती.....रेवा टिबड़ेवाल
सीपों मे बंद 
मोती 
जैसे आँसू 
आज ढुलक कर 
बिखर गए हैं 
हमारे चारों तरफ , 




जो भी वजह मान लो
मैं सिमटकर नदी हो गयी हूँ
जो अब अदृश्य हो गयी है
...
लुप्त है वो
जिसे मैं ढूंढना भी नहीं चाहती !

बिन तेरे जिंदगी में’ पहरेदार भी नहीं 
दुनिया में’ अब किसी से’ मुझे प्यार भी नहीं | 

बेइश्क जिंदगी नहीं’ आसान है यहाँ 
इस मर्ज़ की दवा मिले’ आसार भी नहीं |

“हाँ री निमली, देख ना उनकी पीठ पर भी बोझा है ! 
कैसे हैरान परेशान से दिखते हैं दोनों !”
“चल पागल, उनकी पीठ पर जो बोझा है वह है किताबों का और 
हमारी पीठ पर जो बोझा है वो है कूड़ कबाड़ का !”


उसके 
आने जाने
का रास्ता 
इस बार भी
पिछली बार 
की तरह ही
उनहीं गिने चुने 
निशानेबाजों के
निशाने पर होगा

ऐसे में 
मत सोच लेना 
गलती से भी
कोई तुम पर 
या फिर उस पर 
लिख रहा होगा 
.....
मारे गर्मी के हाल बुरा है रायपुर का
मार्च के महीनें में तालाब दम तोड़ रहे हैं
ऐसे में पानी में बनी एक भंवर सारी चीजों को निगल रही है
सिर्फ सात मिनट....






12 टिप्‍पणियां:

  1. वाहह सुंदर लिंको का चयन बहुत अच्छी रचनाएँ 👌👌

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर लिंक संयोजन ! बहुत खूब !

    उत्तर देंहटाएं
  3. बढ़िया प्रस्तुति। आभार 'उलूक' के एक सूत्र को जगह देने के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  4. शुभप्रभात.
    रायपुर में इतनी गर्मी...
    यहां तो 3 दिन की तेज बारिश केबाद आज धूप खिली है....
    धूप में बैठने का मन था...
    पर व्यस्त हूं...
    सुंदर प्रस्तुति....

    आभार आप का...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर लिंक्स ! मेरी लघु कथा - बोझ - को स्थान देने के लिए आपका हार्दिक आभार यशोदा जी !

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह!सुंदर संकलन बेहतरीन रचनाओं का

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...