पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

बुधवार, 1 फ़रवरी 2017

565........दो मिनट का मौन सायरन का तीस जनवरी के ग्यारह बजे

सर्व प्रथम माँ सरस्वती को नमन
आज वसंत पंचमी है
बुद्धि और शुद्धि की दात्री  है माँ
आज की परिक्रमा का फल...आप भी चखें...
....पहली बार....

बेतरतीब.....कुमार शिवा
मैं सोचता हूँ आज से मौजूं-ए-ग़ज़ल क्या रखूं,
Objectification के इल्जाम से आज डरा करता हूँ |
झील सी आँखें न कहूँ मैं जुल्फ रेशमी न लिखूं, 
अब छिप के फैज़ फ़राज़ को मैं आज पढ़ा करता हूँ ||




सखि बसंत आ गया
सबके मन भा गया
धरती पर छा गया
सुषमा बिखरा गया

तेरी एक भी बूंद
कहीं और बरसी तो
मेरा बसंत
पतझड़ में बदल जाएगा...

मुनिया  समझदार    हुई 
पांच   वसंत     पार    हुई  
बोली  एक  इतवार  को -
Image result for पार्क
"पार्क  में  मैं  भी चलूंगी 
कुलांचें     मैं  भी  भरूँगी "


समय काट रही हूँ । जी रही हूँ तो कुछ तो करना है। जाने वाले के साथ जा नहीं सकते। जी रहे सांसें चल रही है तो और सह सकते हैं, सहने की शक्ति है तो लो ज़िंदगी हँस कर जिएँगे ।


ज़िंदगी.....कैलाश शर्मा 
जीवन की सांझ 
एक नयी सोच 
एक नया दृष्टिकोण , 
एक नया ठहराव 
सागर की लहरों का , 
एक प्रयास समझने का 
जीवन को जीवन की नज़र से। 




श्रद्धा के साथ 
अपने गाँधी 
का चित्र 
लगाये 
अपने कोट 
के बटन 
के बगल में ...

गाँधी 
कभी एक 
हुआ होगा 
आज कई 
हो गये हैं 
.......
अब इज़ाज़त दें यशोदा को
फिर मिलते हैं..







6 टिप्‍पणियां:

  1. सुप्रभात
    बसंत पंचमी की हार्दिक बधाई
    सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  2. ढ़ेरों आशीष व असीम शुभकामनाओं के संग आभार आपका छोटी बहना

    उत्तर देंहटाएं
  3. फरवरी की पहली हलचल। सुन्दर प्रस्तुति। आभारी है 'उलूक' सूत्र 'दो मिनट का मौन सायरन का तीस जनवरी के ग्यारह बजे' को शीर्षक पर स्थान देने के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति
    वसंतोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  5. आज पांच लिंको का आनंद बसंतोत्सव की मनोहारी छटा से सराबोर है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर और रोचक प्रस्तुति...वसंतोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...