पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

शुक्रवार, 3 फ़रवरी 2017

567..चुनाव और आदमी का प्रतिशत

सादर अभिवादन
नया रंग
नयी हवा
उमंग भी नयी
मोद है वसंत का
इसके आगे भी लिखा जा सकता था
पर बाकी आप पर छोड़ देता हूँ...
चलिए देखें आज क्या है
है तो जरूर .......

ठिठुरन का अन्त आ गया..........रचनाकार अज्ञात
मादक सुगन्ध से भरी 
पन्थ पन्थ आम्र मंजरी
कोयलिया कूक कूक कर
इतराती फिरै बावरी
जाती है जहाँ दृष्टि
मनहारी सकल स्रष्टि
लास्य दिग-दिगन्त छा गया
देखो बसन्त आ गया।



जिंदगी  से साँसों की,और 
साँसों की तुमसे हो जाती है..
मेरी साँसों में तुम्हारी खुश्बु बिखरी,
कि फिर वही माह-ए-फरवरी है...

कब हमने सोचा था कि ये पैर डगमगायेंगे,
बेटे हमारे लिये फिर लाठी ले के आयेंगे।

खाना बनाने से भी हम इतने थक जायेंगे
सीढी बिना रेलिंग की कैसे हम उतर पायेंगे।


उबलते जज्बात पर चुप्पी ख़ामोशी नहीं होती
गमों के जड़ता से सराबोर मदहोशी नहीं होती
तन के दुःख प्रारब्ध मान मकड़जाल में उलझा
खुन्नस में बयां चिंता-ए-हुनर सरगोशी नहीं होती


ये 
तन्हा 
सफर 
उदासियां 
मुश्किलें कई 
चुनौतियाँ नई 
कैसे कटे जीवन। 



वही रजाई वही कम्बल.....वन्दना गुप्ता
यहाँ तो वही रजाई वही कम्बल 
गरीबी के उलाहने 
भ्रष्टाचार के फरेब 
जाति धर्म का लोच 
वोट का मोच 
लुभावने वादों का गुलदस्ता 


आज का सच...

हर जाति 
का प्रतिशत
दिखाया 
गया है
आज के 
अखबार में
मीडिया 
भी खूब
भटकाती 
रही है
इस 
तरह के
समाचार में

आज बस यहीं तक
आज्ञा दें दिग्विजय को






6 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात..
    आभार
    रचना...
    ठिठुरन का अन्त आ गया के
    वास्तविक रचनाकार शास्त्री नित्य गोपाल जी कटारे जी हैं
    इसकी जाकारी पमें विनय रंजन ने दी
    मैं आभारी हूँ
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. ढ़ेरों आशीष संग आभार
    उम्दा प्रस्तुतीकरण

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर प्रस्तुति। आभार 'उलूक' का दिग्विजय जी एक पुराने सूत्र 'चुनाव और आदमी का प्रतिशत' को जगह देने के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति ..

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुंदर संकलन। मेरी रचना को स्थान दिया, बहुत आभार।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...