पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

मंगलवार, 21 फ़रवरी 2017

585...आसान नहीं लिख लेना चंद लफ्जों में उनकी शर्म और खुद की बेशर्मी को

सादर अभिवादन
आज के मौसम का हाल
उत्तराखण्ड में कल शाम से भारी बारिश हो रही है 
जन-जीवन अस्त-व्यस्त है

पर अंक को तो आना ही है.....

पहली बार पदार्पण
जहां 
मृत्युभोज में 
परोसे जाते है 
हिन्दू खिचड़ी 
और 
मुस्लिम रायता 

हर काबिल 
हर कातिल तक 
अपनी महक 
अपना हरापन 
फैलाते वसंत 
स्वागत है तुम्हारा....
मधुमास लिखी 
धरती पर देख रही हूँ 
एक कवि बो रहा है 
सपनों के बीज । 
किसके सपने है 
महाकवि मैं पूछती हूं 



फोन रखने वाले दो लोग अपने-अपने कार्यक्षेत्र के अधि‍कारी नहीं, बल्‍ि‍क वो दो छोटे स्‍कूली बच्‍चे थे जो हर शाम खेल कर घर जाने से पहले बि‍छड़ते वक्‍त एक दूसरे से पूछते थे। कल खेलने आओगी न गुड़ि‍या। हां पार्थ...आऊंगी। तुम देर न करना।

गाये बहुत है गीत मिलकर  प्यार में चहके सजन 
आओ चलें दोनों सफर यह प्यार का महके  सजन 

हसरत  रही  है  प्यार  में  हम  तुम  रहें साथी सदा 
मुश्किल बहुत है यह डगर इस पर रहें मिलके सजन 

मुझे ताज़्ज़ुब होता है 
कि बात क्या थी
हालात क्या थे 
फ़िक्र क्या थी 
हौसले क्या थे 
उम्र क्या थी 
ज़ज़्बात क्या थे 
बहरहाल जो भी था 
बालपन की सुबह थी 


करना है तो कर्म करना
घमंड ना करना
आया है मुट्ठी बाँधकर
खुले हाथ ही जाना

बहुत दिन हो गये 
कलम भी कब तक 
बेशर्मी को छान कर 
शर्माती हुई बस 
शर्म ही लिखे 
अच्छा है उनकी
बेशर्मी बनी रहे 
जवान रहे 
पर्दे में रहे जहाँ रहे 








8 टिप्‍पणियां:

  1. तरुण ठकुर जी,रश्मि शर्मा जी,रेखा जोशी जी,रिया शर्मा जी, सविता मिश्रा जी आप सभी की उम्दा अभिव्यक्ति को नमन । यशोदा जी मेरी पोस्ट को शामिल करने के लिए आप का बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आज के उत्कृष्ट सूत्रों के साथ 'उलूक' की बकवास 'आसान नहीं लिख लेना चंद लफ्जों में उनकी शर्म और खुद की बेशर्मी को' को भी जगह देने के लिये आभार यशोदा जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. नमस्ते आप सभी को...
    सुंदर चर्चा....
    आभार आप का....

    उत्तर देंहटाएं
  5. नमस्ते आप सभी को हमरा ..हमारी पोस्ट को शामिल करने के लिए आप का बहुत-बहुत धन्यवाद।
    सबकी पोस्ट सुंदर, अच्छी हलचल हुई यहाँ |

    उत्तर देंहटाएं
  6. आदरणीया प्रोत्साहन के लिए आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुंदर चर्चा ..मेरी रचना शामि‍ल करने के लि‍ए आभार आपका

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत अच्छी हलचल
    http://savanxxx.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...