पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

रविवार, 2 अक्तूबर 2016

443....अभी असल तो है बाकी


  सुप्रभात 
नमस्कार

सर्व मंगल मांगल्ये शिवे सर्वार्थ साधिके शरण्ये त्रयम्बके गौरी नारायणी नमोस्तुते.
╔══════════════════╗
╚══════════════════╝
      
आइए अब चलते है
  आज की लिंको की ओर .....
                   

आज सुबह कुछ नयी सी लगी,या यूँ कहूँ की वही कुछ दिल में छिपे एहसासों को लिये,नई सी लगी..मन में इक अनजानी सी ख़ुशी,जैसे मन की ख्वाब में परियों से मुलाकात हुई हो,वही ख़ुशी जब तुमसे पहली बार मिली थी,वही गुदगुदी सी जब तुमने पहली बार मेरे हाथों को अपने हाथों में लिया था...जब से जगी हूँ बस इन्तजार में हूँ कि कि तुम किसी बहाने से मेरी तरफ देखो,और मेरी आँखों में वही चमक देख कर बोलोगे..कि क्या आज कुछ खास है...



         

लाड़ प्यार से जाई बेटियां
क्यों होती है परायी बेटियां ??

बचपन के खेल खिलौने
मीठी बातों की लड़ियाँ
छोड़ जाती हैं आँगन मे बेटियां
क्यों होती है परायी बेटियां ??


आरक्षण

Related image
बचपन से आज तक
एक ही शब्द सुना आरक्षण 
हर वर्ग  चाहता आरक्षण 
क्या सभी लाभ ले पाते हैं ?
चन्द लोग ही लाभ उठाते हैं 
आरक्षण के लाभ गिनाते हैं 
सच्चे चाहने वाले

 देखते रह जाते हैं

         प्यार
बहुत चाहता हूँ मैं तुम्हें,
ख़ुद से भी ज़्यादा,
कोई फ़िल्मी डायलाग नहीं है यह,
हकीक़त है,
जैसे किस्से कहानियों में
राजा की जान तोते में होती थी,
मेरी तुममें है.

सब कहते हैं
कि तुम्हारे लिए मेरा प्यार
उनकी समझ से परे है,



        परिवार
माँ-बाबु जी का
गलतियों पे डाँटना,
उदासी का कारण पूछ
दुःख बाँटना है।
अच्छा लगता है..

2
दोपहर को खाने का
मिसकॉल आना,
देर रात  घर पहुँचने पे 
बीबी का रूठ जाना।
अच्छा लगता है..


सोचती हूँ 
सहेज दूँ ज़िन्दगी की बची अलमारी में 
पूरी ज़िन्दगी का बही खाता 
बता दूँ 
कहाँ क्या रखा है 
किस खाने में कौन सा कीमती सामान है

मेरे अन्दर के पर्स में कुछ रूपये हैं 
जो खर्च करने के लिए नहीं हैं 
लिफाफों में हैं


जब 56 इंची सीनों ने
गोलियाँ रायफलों से दागीं
दहशतगर्दों के अब्बू भागे
और अम्मी खौफ से काँपीं
ये तो सिर्फ नमूना था
अभी असल तो है बाकी...
धोखेबाजी और कायरता
जिन दुष्टों के गहने थे
गीदड़ बनकर ढेर हुए
जो खाल शेर की पहने थे



अब दिजिए 
इजाजत 
सादर

6 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    क्या बात है...
    बढ़िया प्रस्तुति
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. sundar prastuti , meri rachna ko yahan shamil karne kay liye shukriya

    उत्तर देंहटाएं
  3. नव दुर्गे पर सब को शुभ कामनाएं |मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद |

    उत्तर देंहटाएं
  4. हार्दिक शुभकामनाएं नवरात्री पर और प्रस्तुति पर;;

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...