पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

बुधवार, 12 अक्तूबर 2016

453......आदमी एकम आदमी हो और आदमी दूना भगवान हो

सादर अभिवादन
आज प्रस्तुति बनाने की तनिक भी इच्छा नहीं थी
पर आदत से मज़बूर कहिए या फिर
कर्तव्य पथ.... चलना ही होगा
आज की पढ़ी रचनाओं का ज़ायजा लीजिए.....

पहली बार....
राम की तुलना में रावण का एपिकीय चरित्र बौद्धिक-नैतिक आधार पर राम के एपिकीय चरित्र से श्रेष्ठतर है जो बहन का अंगभंग करने वाले से बदला लेने के लिए उसकी बीबी का अपहरण कर लेता है और फाइव-स्टार गेस्टहाउस में रखता है और कभी बल प्रयोग नहीं करता.


कल इस रचना के भाई कुलदीप जी प्रस्तुत कर चुके हैं
आज एक बार और..
दुःशाशन दुर्योधन शकुनि 
न टिक पाएं !
झूठ की हांडी बारम्बार 
न चढ़ पाए,
बरसों से अक्षुण्ण रहा 
था, दुनियां में ,
भारत आविर्भाव, 
कलंकित कर दोगे  !!
भारत रत्न मिले, तुमको मक्कारी में 
कितने धूर्त महान, तुम 
मुझे क्या दोगे ?

रावण रो रहा है....जन्मेजय तिवारी
‘बात और भी है ।’ उसके आँसू अब भी झरे जा रहे थे, बल्कि अब तो कुछ तेज ही हो गए थे । वह इसी अवस्था में बढ़ते हुए बोला, ‘माँ सीता का अपहरण करके मैंने निश्चय ही अपराध किया था, परंतु उसके बाद मैंने किसी भी मर्यादा का उल्लंघन नहीं किया था । पर आज का मनुष्य अपहरण तो करता ही है, साथ ही साथ सारी मर्यादाओं की चिन्दी-चिन्दी भी कर डालता है । क्या यह मेरा काम है? अगर नहीं, तो फिर मेरे नाम के साथ आरोपण क्यों?’



यही होता है दशहरे में हर साल,
हर साल जलते हैं कागज़ के पुतले,
फूटते हैं पटाखे,
कभी किसी दशहरे में 
यह ख़याल ही नहीं आता  
कि असली रावण,कुम्भकर्ण,मेघनाद 
हमारे अन्दर ही कहीं छुपे हैं,
जो हर साल दशहरे में
बच जाते हैं जलने से. 

गर कुछ लेहाज बाकी तो पहले निज घर की बिगड़ी तस्वीर संवार
तेरी व्यर्थ कोशिशें काश्मीरियों लिए शाख़ की ढहती दीवार निहार ,


आज की शीर्षक रचना...
गजल हों 
कविताएं हों 
चाँद हो 
तारे हों 
संगीत हो 
प्यार हो 
मनुहार हो 
इश्क हो 
मुहब्बत हो 
अच्छा है 
....
आज्ञा दें यशोदा को
फिर मिलेंगे मन से मन भर




6 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात छोटी बहना
    आपकी कर्तव्यनिष्ठा आपकी पहचान है
    उम्दा प्रस्तुतिकरण

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति यशोदा जी । आभार 'उलूक' के सूत्र 'आदमी एकम आदमी हो और आदमी दूना भगवान हो'को स्थान देने के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुप्रभात दीदी
    आपकी चयनित सभी रचनाएँ
    बहुत सुंदर
    सादर
    ज्ञान द्रष्टा

    उत्तर देंहटाएं
  4. रावण, कुम्भकरण और मेघनाद तो हर साल फूँक दिए जाते हैं पर विभीषणों को हर बार पोषित किया जाता है . अपनी ही नगरी को जलाने वालों का साथ देकर विभीषण उन्नति के शिखर पर पहुँच जाता है. यह कैसा सुखांत नाटक है?

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सही कह रहे है आप भैय्या गोपेश जी
      विभीषणों के जरिए सूचनाओं का प्रदाय ही होता है
      सादर

      हटाएं
  5. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति हेतु धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...