पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

रविवार, 9 अक्तूबर 2016

450....दूसरों के हादसे, अपने हादसे

नमस्कार 
सुप्रभात 
दोस्तो आज 450 वी 
हलचल प्रस्तुति

                 ठिठोली

चाय की दुकान पर काम करता 8-9 साल का लड़का. छोटी उम्र, मोटी अक्ल. दुकान में भीड़-भाड़ थी. मालिक को ठिठोली सूझी. उसने लड़के से पूछा, ‘‘क्यों रे कितने बाप का?’’ 
लड़का बेचारा क्या जाने, क्या समझे? चुप रहा. परन्तु ऐसे मजाक पर वहां बैठे तमाम लोगों की निगाहें लड़के के ऊपर चिपक गयीं. मालिक ने एक लात मारते हुए फिर पूछा, ‘‘क्यों रे, कितने बाप का, एक या दस?’’


साथ तेरे होकर भी मैं कितनी तुझसे दूर हूं,
हालात के हाथों देखो कितनी मैं मजबूर हूं।

दो कदम चलकर जब तू खुद पास मेरे आया था,
तुझे मेरी ये सादगी और भोलापन ही भाया था,
तूने लोगों से ये सुना था मैं बहुत मगरूर हूँ,
कितनी मैं मजबूर हूं,..।

          

दूसरों के हादसे
शब्द शब्द आँखों से टपकते हैं
उसे कहानी का नाम दो
रंगमंच पर दिखाओ
या तीन घण्टे की फिल्म बना दो  ... !
नाम,जगह,दृश्य से कोई रिश्ता बन जाए
ये अलग बात है !
पर हादसे जब अपने होते हैं
तो उसे कहने के पूर्व
आदमी एक नहीं
सौ बार सोचता है


एक अमेरिकी निकला, भारत के सफ़र पर
पर भीड़ भाड़ के कारण , न मिला होटल में अवसर
न जाने कितने होटलों के लगा चुका था, चक्कर
पर हर जगह उसे निराश मिली, हाउसफुल पढ़कर
एक आदमी मिला, बोला मिल जायेगा रूम, तुम्हे जुगाड़ पर
बस इसके लिए तुम्हे खर्च करने होंगे , कुछ और डालर
व्हाट इज जुगाड़ ? इससे कैसे मिलेगा रूम
दिस इज इंडियन सिस्टम, बस तू ख़ुशी से झूम
इस तरह आदमी ने अमेरिकी को दिलाई राहत


हर इन्सान की अपनी ज़िन्दगी होती है...उसके सुख-दुःख होते हैं...कई आन्तरिक समस्यायें होती हैं, जो कभी उलझती हैं तो कभी सुलझती हैं...। कुछ बातें ऐसी भी होती हैं जिन्हें वह किसी से शेयर भी नहीं कर सकता और अगर करने की कोशिश करता भी है तो कई बार मानो क़यामत ही आ जाती है...। इन्हीं सब बातों से घबरा कर अक्सर लोग चुप ही रहते हैं, पर इससे होता क्या है...? कहते हैं न आप किसी की ज़ुबान पर ताला नहीं लगा सकते...ठीक उसी तरह किसी की भेदिया प्रवृति और निगाह पर कोई बन्दिश भी नहीं लग सकती। हमारे समाज में कुछ ऐसी भेदिया निगाहें हैं जो अपने आप ही सब कुछ भाँप लेने का दावा करती हैं...कुछ-कुछ लिफ़ाफ़ा देख कर मजमून भाँप लेने जैसा...

•●●●●■♤♡■●●•••

आज के लिए 
बस इतना ही 
नवरात्रि पर गरबा
का आनन्द लिजिए 

अब दे अनुमति
विरम सिंह 
सादर

4 टिप्‍पणियां:

  1. अच्छे सूत्र चुने आपने..सभी पसंद आए
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़िया हलचल प्रस्तुति हेतु धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं

  3. Hello ! This is not spam! But just an invitation to join us on "Directory Blogspot" to make your blog in 200 Countries
    Register in comments: blog name; blog address; and country
    All entries will receive awards for your blog
    cordially
    Chris
    http://world-directory-sweetmelody.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...