पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

शनिवार, 10 सितंबर 2016

421 .... पवित्र मन रखो, पवित्र तन रखो



सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष

हिंदी पर कविता के लिए चित्र परिणाम




फिर किसी ने कहा
निबंध है
मैंने वो भी मान लिया....
फिर आवाज़ आई...
ये तुम्हारी कुंठा है.
मैंने नज़रें झुकाए हुए देखा
ज़मीन नहीं बोली थी
ऊपर आसमान नहीं बोला था
सामने खड़ा इंसान बोल रहा था
जिसने मुझसे मेरी ज़मीन और जंगल छीने थे

पवित्र मन रखो

पवित्र मन रखो, पवित्र तन रखो
पवित्रता मनुष्यता की शान है
जो मन वचन कर्म से पवित्र है
वो चरित्रवान ही यहाँ महान है ।।


बादल मामा.......



प्रेम के है रूप अनेक........
ईश्वर ने सृष्टि को दिए कई वरदान,
सर्वोपरी है जिसमें निरवधि प्रेम-
प्रबलता इतनी के जड में भी भर दे प्राण ,
नहीं दूजी कोई अनुभूती, इसके समान ॥
प्रेम के है रूप अनेक,हर रूप का है भाव महान।



क्यू
अपने अक्सर दूर क्यू हो जाते है
दुनिया की भीड़ मैं हम क्यू खो जाते है
अजनबी से शहर मैं हमे भेज देते
क्या हम अपनो से इतने पराए हो जाते हैं


कविताओं से प्यार रहा है....
मित्रों , मुझे हमेशा से ही कविताओं से प्यार रहा है और यदि नाटक कविता के रूप में हो तो मेरे मन को भा जाता है । यह नाटक मुझे बहुत ही अच्छा लगा । इस नाटक के कथानक में कहावतों को समझाने के लिए कविता के द्वारा अर्थ समझाया गया है । नाटककार ने सुन्दर शब्दों में और कविता के रूप में अर्थ को बड़े ही मोहक तरीके से समझाया है ।


फिर मिलेंगे .... तब तक के लिए
आखरी सलाम

विभा रानी श्रीवास्तव


हिंदी पर कविता के लिए चित्र परिणाम




5 टिप्‍पणियां:

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...