पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

सोमवार, 5 सितंबर 2016

416....खिले हुए हैं अभी चंद फूल शाख़ों पर

आज शिक्षक दिवस सभी गुरुजनों को सादर नमन! 
हमारे जीवन में माता -पिता के बाद यदि और किसी का सबसे ज़्यादा प्रभाव रहता है तो 
वह निश्चित ही हमारे गुरुजन हैं। 


कल हरतालिका तीज थी..
मुझे यह प्रस्तुति नही बनानी थी...
पता नही क्यूँ बना दी...

कौन है यह शिक्षक ? अज्ञान को मिटाने – मोमबत्ती की तरह जलने वाला, विकास की मंजिल तक युग को पहुंचाने वाला , शिष्यों के हृदय धरा को ज्ञान मेघ बन कर सींचने वाला , सामाजिक विषमताओं के विष को शंकर की तरह पीने वाला , लोकहित में दधीचि बन शरीर दान करने वाला , ब्रह्मा बिष्णु महेष जैसा सामर्थवान व्यक्ति ही तो शिक्षक है 
जो , कभी कृष्ण गीता गाकर विजय का उल्लास दिलाता है , 
कभी गुरू द्रोण की तरह लक्ष्यवान बनाता है , 
कभी गुरू नानक की तरह तत्वबोध कराता है , 
कभी परमहंस बन विवेकानंद दे जाता है , 
कभी पाखंड का खंडन करने कबीर बन राह दिखाता है , 
कभी विज्ञान का नव आयाम देने 
कलाम बन सर उठाकर जीना सिखाता है, 
कभी कर्तव्यनिष्ठ ज्ञानमूर्ति राधाकृष्णन बन , 
विश्वगुरू का सम्मान पाता है।



हे गुरुवर
मैं, एकलव्य की जाति का हूँ
सूद्पुत्र हूँ कर्ण की तरह
किन्तु ,मैं नही दे सकता
अपना अंगूठा
न ही बना सकता हूँ
आपकी प्रतिमा

अध्यापक एक दीपक है
जो स्वयं जल कर
रौशनी फैलाता है
किन्तु उत्तर में
समाज से क्या पाता है?

शीश झुकाऊँ ,नमन करूँ
चरण पखारूँ सुबह शाम
विद्या बुद्धि के दाता तुम
हे गुरूवर तुम्हें प्रणाम....

इन 32 वर्षों में,
सब कुछ बदला है।
पर्व, मेले,  त्योहार भी,
रिति-रिवाज, संस्कार भी।
पीपल नीम अब काट  दिये,
नल, उपवन भी बांट दिये,
अब चरखा भी कोई नहीं बुनता,
दादा की कहानियां भी नहीं सुनता।


राह तुम्हारी तकते कान्हा...मालती मिश्रा
राह तुम्हारी तकते कान्हा
मैने अपना स्वत्व मिटाया,
काठ सहारा लेते-लेते 
काठ-सी ह्वै गई काया।
नीर बहा-बहा कर दिन-रैना



पड़ी रहेगी अगर ग़म की धूल शाख़ों पर
उदास फूल खिलेंगे मलूल शाखों पर।

अभी न गुलशन-ए-उर्दू को बे-चराग कहो
खिले हुए हैं अभी चंद फूल शाख़ों पर ।

थकावट जबरदस्त है
आज्ञा दें..
सादर






6 टिप्‍पणियां:

  1. सुप्रभात
    शिक्षक दिवस की हार्दिक बधाई
    बहुत सुंदर प्रस्तुति शिक्षक दिवस पर
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. बना दी और बहुत बढ़िया बना दी । खुश रहिये । शिक्षक दिवस की शुभकामनाएं भी ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. शिक्षक दिवस पर बहुत सुंदर प्रस्तुति, सभी रचनाएँ एक से बढ़कर एक है।
    मेरी रचना को शामिल करने के लिए धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  4. शिक्षक दिवस पर बहुत सुंदर प्रस्तुति, सभी रचनाएँ एक से बढ़कर एक है।
    मेरी रचना को शामिल करने के लिए धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  5. शिक्षक दिवस और गणेश चतुर्थी की हार्दिक शुभकामनाएं!
    बहुत सुन्दर सामयिक हलचल प्रस्तुति हेतु धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  6. शुंदर...
    शिक्षक दिवस और गणेश चतुर्थी की हार्दिक शुभकामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...