पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

बुधवार, 7 सितंबर 2016

418..अर्जुन को नहीं छाँट कर आये इस बार गुरु द्रोणाचार्य सुनो तो जरा सा फर्जी ‘उलूक’ की एक और फर्जी बात

शुभ प्रभात
सादर अभिवादन...
इस बार 
शिक्षक-दिवस और श्री गणेश चतुर्थी दोनों एक साथ आए
शिक्षक भी गुरु और श्री गणेश भी प्रथमपूज्य
सुना है कुछ वर्षों से शिक्षक, शिक्षक न रहकर शिक्षा-कर्मी बन गया है
कारण ज्ञात है..पर सरकार की आलोचना
उचित नहीं है

काल पुरातन से आज तक 
कोई भ्रमित न इससे हुआ 
जैसे पहले महत्त्व  था इसका
आज भी वह कम न हुआ 


उग रहे बारूद खन्जर इन दिनों
हो गए हैं खेत बन्जर इन दिनों

चौकसी करती हैं मेरी कश्तियाँ
हद में रहता है समुन्दर इन दिनों


तेरे घर का आईना तुम्हारा न होगा
भले तोड़ दोगे , बेचारा न होगा -
पलकों को आँसू भिगो कर चले  हैं
कभी लौट आना दुबारा न होगा -


महबूब के कदमों में है
जन्‍नत 
पुरानी कहानी कहती है
यादों के सूत पि‍रो हरदम
न जा, रूक जा


फेसबुक-डिबेट और फेसबुकिया सपने....प्रतीक्षा रंजन
पिनाकी ने क्रोध में हुंकार भर ली। कुछ मन्तर पढ़ने लगे
घोर गर्जन। आसमान का रंग खालिस लाल हो गया।बादल फट पड़ा, और पिनाकी के हाथ कलयुग का ब्रम्हास्त्र आ गया - ब्लॉकास्त्र ।



आश्चर्य है..इन दिनों
महीने में पन्द्रह दिन छपने वाला अखबार
लगातार छप रहा है... लगता है सरकारी कागज का
कोटा धोखे से दो बार मिल गया है
बहरहाल देखिए आज का शीर्षक क्या कह रहा है


एकलव्य 
मान गये 
तुझे भी 
निभाया 
तूने इतने 
गुरुओं को 
अँगूठा काटे 
बिना अपना 
किस तरह 
एक साथ । 
......
सादर
........
आज के रचनाकार

आशा सक्सेना, दिगम्बर नासवा, उदयबीर सिंह, 
रश्मि शर्मा, प्रतीक्षा रंजन, डॉ. सुशील कुमार जोशी


4 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति यशोदा जी । आभारी है 'उलूक' सूत्र 'अर्जुन को नहीं छाँट कर आये इस बार गुरु द्रोणाचार्य' को शीर्षक और स्थान देने के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. धन्‍यवाद यशोदा जी, बहुत ही सुंदर प्रस्‍तुति‍

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर लिंक हैं आज के ...
    आभार मुझे भी शामिल करने का ...

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...