पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

सोमवार, 16 मई 2016

304...पुरानी दोस्तियां बनी भी रहती हैं. हार कर,


हम पाँच लिंकों का परिवार की ओर से
सादर अभिवादन स्वीकारें

"तुम पर भी यकीन है और मौत पर भी ऐतबार है,"
"देखें पहले कौन मिलता है , हमें दोनों का इंतजार है ....

देखिए आज की पढ़ी रचनाएं क्या कहती है..



किसी भी शहर में ऐसे नज़ारे आम हैं 
जहां सुबह-सबेरे अधिकाँश बंगलों में कारें, कुत्ते, आंगन, गलियारों पर 
हजारों लीटर पानी की बर्बादी एक शगल है, बिना किसी झिझक या अपराध बोध के। 
इनके लिए पानी की राष्ट्रव्यापी  समस्या की खबर उतनी ही अहमियत रखती है 
जितनी किसी शुक्रवार को किसी फिल्म की रिलीज !


ठण्ड लगे जब आपको, सर्दी से बेहाल, 
नीबू मधु के साथ में, अदरक पियें उबाल.

अदरक का रस लीजिये. मधु लेवें समभाग, 
नियमित सेवन जब करें, सर्दी जाए भाग.

रोटी मक्के की भली, खा लें यदि भरपूर, 
बेहतर लीवर आपका, टी० बी० भी हो दूर

आस्था के बल पर गर्म, धर्म के सब दुकान 
अन्धविश्वास बिकता है, सच्ची भक्ति बदनाम

रूह चलाती काय को, यही आत्मा का गुण 
काया में बसी आत्मा, खुद रूपहीन अगुण 


कांग्रेसी छतरी में छेद
सन 2014 की ऐतिहासिक पराजय के दो साल अगले हफ्ते पूरे होने जा रहे हैं। 
इन दो साल में पार्टी ढलान पर उतरती ही गई है। गुजरे दो साल में एक भी घटना ऐसी नहीं हुई, 
जिससे पार्टी की पराजित आँखों में रोशनी दिखाई पड़ी हो। पिछले दो साल में हुए चुनावों में उसे कहीं सफलता नहीं मिली। पार्टी ‘परिवार’ की छाया है। जिससे न तो वह बच सकती है और न उसके तले खड़े होकर शांति से जी सकती है। लोकसभा चुनाव में हार के बाद पार्टी कार्यसमिति की बैठक में कहा गया था कि पार्टी के सामने इससे पहले भी चुनौतियाँ आईं हैं और उसका पुनरोदय हुआ है?? 

आज की शीर्षक कड़ी....

मन को अच्‍छा नहीं लगता, मगर पुरानी दोस्तियां पीछे छूटती जाती हैं. 
किसी खोज में निकलो तो समुदाय, परिवार, पुराने सम्‍बन्‍धों का सहारा काम नहीं आता, 
अंधेरों में दूर तक आवारा, अकेले तैरकर ही समझ बनती है. या नहीं भी बनती और आप दीवाने बने, 
दीवारों पर सिर पीटकर सब खत्‍म कर लेने की पंक्तियां चुभलाते रहते हो.

इज़ाज़त देॆ यशोदा को

और मात्र 8 मिनिट दें...देखें ये वीडियो
Dangerous & Breathtaking Train Route on Earth


7 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति । वीडियो भी देखने लायक है जगह कौन सी है जानकारी नहीं दी गई है :)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुभ प्रभात भैय्या जी
      ये तो यू ट्यूब ही बता पाएगा
      सादर

      हटाएं
  2. शुभ प्रभात
    सस्नेहाशीष छोटी बहना
    उम्दा लिंक्स का चयन और सुंदर प्रस्तुतिकरण

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति हेतु आभार

    उत्तर देंहटाएं
  4. शुभप्रभात...
    सुंदर संकलन....

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...