पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

शुक्रवार, 6 मई 2016

294....न तुम शरीर न यह तन तेरा, न तुम कर्ता या भोक्ता हो|


जय मां हाटेशवरी...

आनंद के इस सभर में...
सब से पहले पढ़ते हैं...
 आदरणीय Kailash Sharma जी  की....
आध्यात्मिक यात्रा के अष्टावक्र गीता - भाव पद्यानुवाद  के  कुछ अंश...

 सात्विक बुद्धि युक्त जो जन है, कुछ उपदेश से मुक्ति है पाता|
असत् बुद्धि जिज्ञासु जीवन भर, न बन पाता ब्रह्म का ज्ञाता||
विषय विराग मोक्ष का रस्ता, विषयों में आनंद है बंधन|
इन सब का तुम ज्ञान है करके, करो वही जो कहता है मन||
जो वाचाल, ज्ञानी, उद्योगी, तत्वबोध शांत व जड़ करता|
सुख का इच्छुक जो जन होता, सत्यत्याग इस लिए  करता||
न तुम शरीर न यह तन तेरा, न तुम कर्ता या भोक्ता हो|
रहो सुखी चैतन्य व शाश्वत, तुम निरपेक्ष और साक्षी हो||
राग द्वेष ये धर्म हैं मन के, किंचित हैं न मन के गुण तुम में|
ज्ञान स्वरुप कामनारहित तुम, निर्विकार स्थित हो सुख में||
अब पेश है आज की चयनित कड़ियां...

सड़क, चाँद और मैं...तन्हा कोई नहीं
बादलों की आहट है आसमान में...आओ कुछ ख्वाब बोयें...कुछ धडकते लम्हे...जिन्दगी महज अंधी भाग तो नहीं, सुकून के दो पल, एक सच्ची वाली मुस्कराहट और बस...देखो
न नाक पर अभी अभी एक बूँद गिरी है पानी की. सुना तुमने...कुछ बूँदें पलकों के आसपास भी सिमटी हैं, धरती राह तकते तकते थक चुकी है मेरी तरह, लेकिन देखो अभी,
बिलकुल अभी वो पत्थर हिला है जरा सा....

काश हम भी इंसान होते
यूँ तो कोई नयी बात नहीं है,
इंसानियत तो बिकती ही है,
कभी तो लुटेरों का वार था,
कभी व्यापारी हथियार था,
कभी शहंशाह का मन था,
कभी कबीलों का द्वंद्व था,

ये मोह-मोह के धागे ....
                        " के ऐसा बे परवाह मन पहले तो ना था
                             चिट्ठियों को जैसे मिल गया एक नया सा पता
                                  खाली राहें , हम आँखे मूंदे जाएं
                                  पहुंचे कही तो बे वजह
                                           ये मोह-मोह के धागे ....."
               दीन -दुनिया से बेखबर दोनों एक दूसरे की आँखों में तब तक झांकते रहे जब तक कि दोनों की आँखे भर ना आई। भरी-भरी दो जोड़ी आँखों में खुशियाँ भरे सपने
समाये हुए थे। एक दूजे का हाथ थाम कर स्टेज से नीचे उतर कर माँ की ओर बढ़ गए।  माँ ने भी आगे बढ़ कर गले लगा लिया।


बेचेहरा
है शाम ही ,कहता है सूरज चाँद से ,
अब मैं गया तू आ ,और बात क्या हो
अब चाहता है क्यूँ भला , ये "नील " भी ,
हो जाये बेचेहरा ,और बात क्या हो

हिन्दू धर्म में नारी के स्थान
s320/nari1
हिन्दू वैदिक संस्कृति में स्त्री को पुरुष की  अर्धांगिनी एवं सहधर्मिणी कहा जाता है अर्थात जिसके बिना पुरुष अधूरा हो तथा सहधर्मिणी अर्थात जो धर्म के मार्ग
पर साथ चले।इस विषय में यहाँ पर इस तथ्य की ओर ध्यान दिलाना आवश्यक है कि भारतीय संस्कृति में पुरुष बिना पत्नी के कोई भी धार्मिक अनुष्ठान नहीं कर सकते।रामायण
में भी संदर्भ उल्लिखित है कि जब श्रीराम चन्द्र जी को अश्वमेध यज्ञ करना था और सीता माता वन में थीं तो अनुष्ठान में सपत्नीक विराजमान होने के लिए उन्हें सीता
माता की स्वर्ण मूर्ति बनवाना पड़ी थी।

आज बस यहीं तक...


कुलदीप ठाकुर



7 टिप्‍पणियां:

  1. संस्थापक महोदय/महोदया/ संपादक जी
    आपका प्रयास सराहनीय और बेहतरीन है और आपका ब्लॉग इमे के लिए चुना गया है इसलिए आपके हमने आपके व्यक्तिगत एवं आपकी टीम के प्रयास को Best Blog of the Month में प्रकाशित किया है।
    एक बार विजिट कर अपनीे सुझाव अवश्य दें।

    Team - i Blogger

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हृदय से आभार व्यक्त करती हूँ
      पाँच लिंकों का आनन्द अभी अपना पहला जन्मदिन भी नही मना पाया
      और उसे बेस्ट ब्लॉग ऑप द मन्थ से सम्मानित किया आपने
      सादर...

      हटाएं
  2. बढ़िया हलचल प्रस्तुति धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...