निवेदन।


फ़ॉलोअर

गुरुवार, 30 जून 2022

3440...खोलना था द्वार को ताला लगाकर रख दिया...

शीर्षक पंक्ति:आदरणीय उदयवीर सिंह जी की रचना से। 

सादर अभिवादन।

गुरुवारीय अंक में पाँच रचनाओं के ताज़ा लिंक्स के साथ हाज़िर हूँ-

ऐसी आस्था से तो हम नास्तिक भले और ऐसी अक़ीदत से तो हम मुल्हिद भले

क्या उदयपुर के ये भाड़े के क़ातिल सच्चे अर्थों में इस्लाम की ख़िदमत कर रहे हैं?

पांच सौ साल से भी ज़्यादा वक़्त हो गया है जब कि कबीर ने कहा था

अरे इन दोउन राह न पाई

आज सच्ची राह दिखाने वाले तो हमें कहीं दिखाई नहीं देते लेकिन हमको नेकी की और भाईचारे की राह से भटकाने वाले गली-कूचे में ही क्या, तमाम जनप्रतिनिधि सभाओं में भी बड़ी तादाद में मिल जाते हैं.

नीति के दोहे मुक्तक

लोकतंत्र

भ्रष्टाचार   दिन   दूना, मानवता का ह्रास।

समाज सेवा पास नहि,लोकतंत्र परिहास।।2।।

क्या बनना था...

 
हसरतों की छांव में कुछ पल बिताने की कशिश,

खोलना था द्वार को ताला लगाकर रख दिया।

छत पर आकर बैठ गई है अलसाई-सी धूप

अम्मा देखो कितनी जल्दी,

आज गई हैं जाग।

चौके में बैठी सरसों का,

घोट रही हैं साग।

दादी छत पर  ले आई हैं,

नाज फटकने सूप।

मायका का प्यार

रंग-बिरंगे फूलों की क्यारी,

वह अमियां की छाया।

सखियों संग घूमना-फिरना,

खेल -खिलौनों की माया।

झगड़ों के संग याद आता है,

भैया -दीदी का दुलार।

भूले नहीं भूलता है मन,

मायका का प्यारा संसार।

*****

फिर मिलेंगे 

रवीन्द्र सिंह यादव 

 

10 टिप्‍पणियां:

  1. वाह!खूबसूरत प्रस्तुति ।

    जवाब देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर प्रस्तुति।

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर सराहनीय अंक।

    जवाब देंहटाएं
  6. सभी लिंक्स पर जाना सुखद लगा । आभार

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...