निवेदन।


फ़ॉलोअर

गुरुवार, 16 जुलाई 2020

1826...ताल-तलैया लेत अंगड़ाई...

: शीर्षक पंक्ति : 
आदरणीया उर्मिला सिंह जी की रचना से।

सादर अभिवादन। 

गुरुवारीय प्रस्तुति में आपका स्वागत है। 

करोना-काल में 
लोगों की जान 
आफ़त में,
अब भी बचा है 
 यक़ीन 
सियासतदानों की 
शराफ़त में!

-रवीन्द्र 

आइए अब आपको आज की पसंदीदा रचनाओं की ओर ले चलें-


ताल तलैया लेत अंगड़ाई...
धानी चुनरिया धरा मुस्काई...
अरे रामा सूझे साँझ, भिनसारी
बदरिया कारी रे हरी .......।।

 वही बच्चे बुजुर्गों को पार कराते हैं सड़क
पकड़ लेते हैं पड़ोसियों का भारी थैला
आते जाते करते हैं अभिवादन
जिनके अंकपत्र नहीं होते औरों की तरह
वजनदार और चमकदार !

 मेरी फ़ोटो
धूप तुम्हारी हँसी-ख़ुशी की,
भरती आँगन में  उजियारा,
निश्छ्ल  वाणी  मन सहलाती 
करती जीना आसान  लाडली!

 
शब्द-विरक्त, धुंधलाता क्षण,
मौन-मौन,
मुस्काता, वो मन,
भाव-विरल,
खोता,
इक, हृदय इधर,
कोई थामे बैठा, इक हृदय उधर!


शिव. महाकाल, सावन...पम्मी सिंह 'तृप्ति'
 


निर्गुण,निराकार,नियंता,धारे रूप विशाल।
शिव रूपी सत् सनातनी,मुदित हुए शिवशाल।।

हलाहल कंठ में लिए, करें निज जग कल्याण।
ऊँ कारा के बोल से, करो शिवम् का ध्यान।।
  https://youtu.be/BrNKra-nUag


शिव करते उपकार सभी पर (गीत)..... ऋता शेखर 'मधु'

 ऋता शेखर 'मधु' (रीता प्रसाद)

छाए हैं संकट के बादल 
शिव जी अपनी कृपा बढ़ाओ| 
मति मानव की मूढ़ बनी है, 
वहाँ ज्ञान की परत चढ़ाओ || 

 चलते-चलते पुस्तक चर्चा-



 हम-क़दम का नया विषय
यहाँ देखिए

आज बस यहीं तक 
फिर मिलेंगे आगामी मंगलवार। 

रवीन्द्र सिंह यादव

13 टिप्‍पणियां:

  1. बेहतरीन अंक..
    सभी तरह की रचना
    एक मंच पर..
    सादर..

    जवाब देंहटाएं
  2. क्या बात है। आदरणीय रवीन्द्र जी के स्पर्श का अनुभव सा हुआ,इस अंक को पढ़कर।
    समस्त रचनाकारों को हार्दिक शुभकामनाएँ।

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति रविन्द्र जी।हमारी रचना को शामिल करने के लिये हार्दिक धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं
  4. वाह! अनुज रविन्द्र जी ,सुंदर प्रस्तुति ।

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर प्रस्तुति..
    मेरी रचना को शामिल करने के लिए हृदयतल से आभार।
    धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत ही आनन्दकर व प्रेरणादायक प्रस्तुति। पढ़ कर बहुत आनंद आया। विशेष कर भगवान शिव की स्तुतियों को।
    सभी बड़ों को सादर प्रणाम।

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत बढियां रचना संकलन

    जवाब देंहटाएं
  8. सुंदर प्रस्तुति आदरणीय रविन्द्र जी | मेरी रचना को स्थान देने के लिए हार्दिकआभार | सभी रचनाकारों को शुभकामनाएं |

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत शानदार प्रस्तुति, सुंदर लिंक चयन ।
    सभी रचनाकारों को हार्दिक बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  10. वाह! बेहतरीन रचनाओं को प्रस्तुत किया गया है।

    जवाब देंहटाएं
  11. बेहद खूबसूरत प्रस्तुति।

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...