निवेदन।


फ़ॉलोअर

रविवार, 12 जुलाई 2020

1822....जीवन जैसे हॉलीवुड फिल्मों की तरह होने लगा


जय मां हाटेशवरी......
अभिवादन आप सभी का....
आज की चर्चा का आरंभ.....
कवि धुमिल जी की इस कविता के साथ......
जब मै अपनें ही जैसे किसी आदमी से बात करता हूँ,
साक्षर है पर समझदार नहीं है । समझ है लेकिन
साहस नहीं है । वह अपने खिलाफ चलाने वाली
साजिश का विरोध खुल कर नही कर पाता ।
और इस कमजोरी को मैं जानता हूँ । लेकिन इसलिये
वह आम मामूली आदमी मेरा साधन नहीं है
यह मेरे अनुभव का सहभागी है, बनता है ।
जब मैं उसे भूख और नफ़रत और प्यार और ज़िंदगी
का मतलब समझाता हूँ-और मुझे कविता में
आसानी होती है-जब मैं ठहरे हुए को हरकत
में लाता हूँ -एक उदासी टूटती है,ठंडापन ख़त्म
होता है और वह ज़िंदगी के ताप से भर जाता है ।
मेरे शब्द उसे ज़िंदगी के कई-स्तरों पर खुद को
पुनरीक्षण का अवसर देते हैं, वह बीते हुये वर्षों
को एक- एक कर खोलता है ।
वर्तमान को और पारदर्शी पाता है उसके आर-पार
देखता है । और इस तरह अकेला आदमी भी
अनेक कालों और अनेक संबंधों मे एक समूह
मे बदल जाता है । मेरी कविता इस तरह अकेले को
सामूहिकता देती है और समूह को साहसिकता ।
इस तरह कविता में शब्दों के ज़रिये एक कवि
अपने वर्ग के आदमी को समूह की साहसिकता से
भरता है जब कि शस्त्र अपने वर्ग-शत्रु को
समूह से विच्छिन्न करता है । यह ध्यान
रहे कि शब्द और शस्त्र के व्यवहार का व्याकरण
अलग-अलग है शब्द अपने वर्ग-मित्रों में कारगर
होते हैं और शस्त्र अपने वर्ग-शत्रु पर ।
अब पेश है.....मेरी पसंद.....

जिंदगी
My Photo
संतुष्टि घटती है
दौलत बढ़ती है
शांति घटती है
हवस बढ़ती है
हंसी घटती है
और की चाह
करती है तबाह
मौत का दिन तय है
तो काहे का भय है
जब तक जियो
हंस कर जियो

शास्वत प्रेम
My photo
शरीर तक ही सीमागत है वासना
शरीर के सीमा में सब नश्वर है
प्रेम अनंत आकाश की सीमा में है
शास्वत हमेशा हमेशा

मैंने जाने गीत विरह के"

मेरे   सीमित    वातायनन  में,
अनजाने आ  किया   बसेरा।
प्रेम-भाव  का  दिया जलाया,
आज बुझा, कर दिया अंधेरा।
कितने सागर बह-बह निकलें, आँखों को एहसास नहीं है,
मैंने  जाने   गीत  विरह  के, मधुमासों  की आस  नहीं है।

जीवन जैसे हॉलीवुड फिल्मों की तरह होने लगा

किसान मजदूरों की तरह बाहर निकलकर टिड्डिओं को भगाने में लगे हैं. होटल खुले हैं लेकिन वहां के नजारे तो देखिए कि सोशल डिस्टेंसिंग , हाथ में ग्लोब्स व  मुंह पर मास्क है जैसे हम किसी सर्जिकल कार्य के लिए जा रहे हो. तो कही ठेले पर एैसी भीड उमड़ी जैसे भूखे के सामने व्यंजन रख दिये हो. कोरोना हमें खाए या हम ही इसे
खा ले. मास्क जीवन बचाने की आज पहली जरुरत है। जगह जगह कोविड सेंटर तैयार की जा रहे हैं लेकिन बढता संक्रमण व बेड  का हाउसफुल होना  हमारी लचर व्यवस्था को उजागर कर रहा है।

एक गलती की इतनी बड़ी सजा

इस बारे में कहना कुछ नहीं क्योंकि हम मानते हैं कि गलती हमारी है. गलती ये कि दो लोगों के बीच में कभी नहीं आना चाहिए भले ही सबकी आपस में मित्रता है. गलती ये कि कभी भी संबंधों को बचाए रखने का प्रयास नहीं करना चाहिए भले ही सम्बन्ध आपस में ही क्यों न बिखरते हों. गलती ये भी कि कभी ये नहीं समझना चाहिए कि जो आपके करीब है वो आपकी बात को महत्त्व देगा. खुद को हमेशा सबसे अलग हाशिये पर समझना चाहिए और अपने आपको बचाने की कोशिश करनी चाहिए. फ़िलहाल तो सबक मिला है, इस घटना
से. आगे अपने स्वभाव को देखते हैं कि नियंत्रण में आता है या नहीं.

जो पीर को समझा नहीं .....

भूप हो या रंक हो
महशर में जाना रीत है ,
जंजीर में बंधा गया जो ,
जंजीर को समझा नहीं ।

शिवाजी महाराज के राष्ट्रकवि - भूषण

शिवाजी   ने   दुष्टों    का   नाश  करके  हिन्दू  राज्य   की  स्थापना  की  थी  ,
यह   बात  भूषण    ने   इन  शब्दों में   वर्णित    की  है
वेद राखे विदित पुरान परसिध्द राखे
राम नाम राख्यो अति रसना सुघर में
हिन्दुन की चोटी रोटी राखी है सिपाहिन की
कांधे में जनेऊ राखो माला राखी गर में  .
मीड़  राखे   मुग़ल  मरोड़  राखे  बादशाह
पीस  राखे  वैरी  वरदान  राखो  कर  में
राजन  की  हद्द राखी  तेग  बल  शिवराज
देव  राखे देवल स्वधर्म  राखो  घर   में



धन्यवाद।











5 टिप्‍पणियां:

  1. बेहतरीन प्रस्तुति..
    आभार...
    सादर..

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत सुंंदर शानदार भूमिका और बहुत अच्छी रचनाएँ है।
    सुंदर प्रस्तुति कुलदीप जी।

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत खूबसूरत प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  4. सुन्दप प्रस्तुतीकरण, आयोजकों को अनेकानेक शुभकामनाएँ...
    -आनन्द विश्वास

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...