निवेदन।


फ़ॉलोअर

रविवार, 5 जुलाई 2020

1814..क्या हमारा नहीं रहा सावन

सादर नमस्कार
कल से सावन शुरु..
आएगा मुंह छुपाकर और
शायद जाएगा भी उसा तरह...


भाई कुलदीप एक वेबनार में फसें हैं
अभी समाचार मिला कि
वेबनार लम्बा खिचेगा

हमारी पसंदीदा रचनाएँ देखिए

एक मुद्दत के बाद
आईने की रेत हटा 
खुद के जैसा
खुद की नजर से
तुमको देखा


कभी कभी हम एक दूसरे को 
केवल शब्द दे पाते हैं अहसास नहीं। 
और बिना अहसासों वाला 
वह वार्तालाप शीत से ठिठुरता 
एक खामोश दिन सा होता है। 
इस जीवन में कितना कुछ है 
कहने को, सुनने को। 
लेकिन कौन किसकी सुने? 
कौन किसे सुनाए। 


कुछ लम्हें तो  चाहिए
तुम्हारे  दीदार के लिए
तुम्हें परखने के लिए
वह भी ऐसे कि उनमें
किसी का दखल न हो |
मुझे पसंद नहीं है


कदरें ज़िंदगानी की अपने हाथ मलती हैं 
शह् र में फसादों की जब हवायें चलती हैं

 आग जब भड़कती है दिल मेंशरपसंदी की 
बेकुसूर लोगों की बस्तियां ही जलती हैं

ज़ह् नियत है बारुदी और सोच है आतिश
फ्रिक है नई नस्लें आज कैसे पलती हैं


Squirrel, Young, Young Animal, Mammal
सूखी डालियों पर 
इधर से उधर 
भागती रहती है गिलहरी,
गुदगुदी होती है पेड़ को,
पत्ता-पत्ता हिलता है उसका.
आज बस
कल फिर हम मिलेंगे
सादर


6 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर सूत्रों से सजा सुन्दर संकलन । मेरी रचना को साझा करने हेतु सादर आभार यशोदा जी ।

    जवाब देंहटाएं
  2. सस्नेहाशीष शुभकामनाओं के संग छोटी बहना
    इस साल किसी खास मौसम का इंतज़ार कहाँ..

    जवाब देंहटाएं
  3. सुन्दर हलचल. मेरी कविता शामिल करने के लिए आभार.

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...