निवेदन।


फ़ॉलोअर

मंगलवार, 29 अगस्त 2017

774....आज वो कैदी नंबर 1997 है....

जय मां हाटेशवरी.......
कल तक जो भगवान थे....
आज इनसान भी नहीं है....
आज वो कैदी नंबर 1997 है....
आज फिर अधर्म पर धर्म की जीत हुई है....
जिसने भी नारी का शोषण किया है....
अंत में उसे अंजाम भुगतना पड़ा है....
चाहे वो रावण हो या दुर्योधन....
आसाराम हो या राम रहीम.....

इन दो साधवियों ने अपनी तपस्या से....
अनेकों निर्दोष बालाओं को भी मुक्त किया होगा....
शोषित होती रही....
जो डेरे के भय से....
कुछ बोल न सकी होगी...
इन न्यायाधीश को नमन.....
पेश है आज के लिये मेरी पसंद....
पर इससे पहले इसी विषय पर....
ये विचार भी अवश्य पढ़ें....

"कौन होते हैं आशाराम बापू के लिए बेसुध होकर रोने वाले.. राम रहीम के लिए कुछ भी फूंकने वाले..
राधे मां का फाइव स्टार आशीर्वाद लेने वाले. राम पाल के लिए अपनी जान तक दे देने वाले. निर्मल बाबा की हरी चटनी खाकर अरबपति बन जाने वाले..?
दरअसल इस भीड़ के मूल में दुःख है.. अभाव है.. गरीबी है.. और शारीरिक मानसिक शोषण है.. अहंकार के साथ कुछ हो जाने की तमन्ना है.
एक ऐसा विश्वास है जिस पर आडंबरों की फसल लहलहाती है.. आप जरा ध्यान से देखेंगे तो पाएंगे कि ऐसे भक्तों की संख्या में ज्यादा संख्या महिलाओं, गरीबों, दलितों और शोषितों की है.. इनमें कोई अपने बेटे से परेशान है तो कोई अपने बहू से किसी का जमीन का झगड़ा चल रहा तो किसी को कोर्ट-कचहरी के चक्कर में अपनी सारी जायदाद बेचनी पड़ी है. किसी को सन्तान चाहिए किसी को नौकरी!
यानी हर आदमी एक तलाश में है.. ये भीड़ रूपी जो तलाश है. ये धार्मिक तलाश नहीं है. ये भौतिक लोभ की आकांक्षा में उपजी प्रतिक्रिया है.
जिसे स्वयँ की तलाश होती है वो उसे भीड़ की जरूरत नहीं उसे तो एकांत की जरूरत होती है..
वो किसी रामपाल के पास नहीं, किसी राम कृष्ण परमहंस के पास जाता है.. वो किसी राम रहीम के पास नहीं.. रामानन्द के पास जाता है.. उसे पैसा, पद और अहंकार के साथ भौतिक अभीप्साओं की जरूरत नहीं. उसे ज्ञान की जरुरत होती है..

गीता में भगवान कहते हैं..
न ही ज्ञानेन सदृशं पवित्रम – इह विद्यते
अर्थात ज्ञान के समान पवित्र और कुछ नहीं है.. न ही गंगा न ही ये साधू संत और न ही इनके मेले और झमेले..
लेकिन बड़ी बात कि आज ज्ञान की जरूरत किसे हैं.. ? चेतना के विकास के लिए कौन योग दर्शन पढ़ना चाहता है.. कृष्णमूर्ति जैसे शुद्ध वेदांत के ज्ञाता के पास महज कुछ ही लोग जाते थे.. ऐसे न जाने कितने उदाहरण भरे पड़े हैं और कितने सिद्ध महात्माओं को तो हम जानते तक नहीं… यहाँ जो चेतना को परिष्कृत करने ध्यान करने और साधना करने की बातें करता है उसके यहां भीड़ कम होती है और जो नौकरी देने, सन्तान सुख देने और अमीर बनाने के सपने दिखाता है उसके यहाँ लोग टूट पड़ते हैं.. वहीं सत्य साईं बाबा के यहाँ नेताओं एयर अफसरों की लाइन लगी रहती थी, क्योंकि वो हवा से घड़ी, सोने की चैन, सोने शिवलिंग प्रगट कर देते थे, राख और शहद बांट रहे थे.
ये धार्मिक गुरु जो होतें हैं.. ये काउंसलर होते हैं. ये धार्मिक एडवारटाइजमेंट करते हैं।..जहां आदमी का विवेक शून्य हो जाता है..और आप वही करने लगतें हैं जो आपके अवचेतन में भर दिया जाता है..
आज जरुरत है जागरूकता की.. विवेक पैदा करने की. जरा तार्किक बनने की और उससे भी ज्यादा ज्ञान की तलाश में भटकते रहने की.. वरना हम यूँ ही भटकते रहेंगे…
“आतम ज्ञान बिना नर भटके कोई मथुरा कोई काशी”
ऋते ज्ञानात न मुक्तिः
( अर्थात ज्ञान के बिना कोई मुक्ति नहीं है)"whatsapp से प्राप्त....



भारत की बेटी और प्रधानमंत्री
न्यायलय ने
उस ख़त में लिपटी चीख को
शिद्दत से महसूस किया
सीबीआई जांच का आदेश दिया।
भाई भी खोया इस समर में
संवेदनशील  पत्रकार  की  आहुति  हुई
पिता भी चल बसे
एक पीड़ित साथी  साथ आयी
केस में और जान आयी
देते-देते गवाही
झेलते-झेलते धमकियाँ
सामाजिक  दुत्कार
घायल मन की चीत्कार
पंद्रह वर्ष बीत गए।
25 अगस्त 2017
सुकून का दिन आया
जब  माननीय जज़  साहब ने
अपराधी बाबा  को 
जेल भिजवाया
एक अपराधी को
कोर्ट तक लाने में देश हिल गया
 मौत के सौदागरों ने
36 घरों के चराग़ बुझा दिए
ये  कैसे इन्होंने  आपस में 
ख़ूनी  सौदे  किए ....?



माँ सामने खड़ी है मचल जाइए हुजूर ...
मुद्दों की बात पर न कभी साथ आ सके
अब देश पे बनी है तो मिल जाइए हुजूर
हड्डी गले की बन के अटक जाएगी कभी
छोटी सी मछलियां हैं निगल जाइए हुजूर
बूढ़ी हुई तो क्या है उठा लेगी गोद में
माँ सामने खड़ी है मचल जाइए हुजूर

पति परमेश्वर
 उसी रात देव मीनू के पति रात देर से घर पहुंचे ,किसी पार्टी से आये थे वह ,एक दो पैग भी चढ़ा रखे थे ,मीनू ने दरवाज़ा खोलते ही बस इतना पूछ लिया ,''आज देर से कैसे आये ,?''बस देव का गुस्सा सातवें आसमान पर पहुंच गया ,आव देखा न ताव कस कर दो थप्पड़ मीना के गाल पर जड़ दिए । सुबह जब सोनू ने अपनी मालकिन का सूजा हुआ चेहरा देख अवाक रह गई ।

जिन्दगी और पत्थर
पत्थर  की  औरत  की  वो  आराधना  करते  है।
किन्तु घर की  औरत  पर वो  प्रताड़ना  करते है।।
        आज भी तो मुझे समझ ये राज मे नही  आता है।
        जिदंगी से है नफ़रत तो फिर पत्थर क्यों भाता है।।

भूख का पलड़ा-लघुकथा
''भूख के मरम हम जानत रहीं मालकिन| केकरो सामने हाथ पसारे के मरम हम जानत रहीं| जी मार के रहे के मरम हम जानत रहीं। आप भी केतना दिन भुखले रहीं| पेट भरल में सब इज्जत-बेइज्जती सोचे के चाहीं| भुख्खल पेट के तो खाली खाना चाहीं|''
इस बार खाने का पैकेट दासी के हाथ मे था और उसे लेने के लिए कौशल्या देवी के हाथ धीरे धीरे आगे बढ़ रहे थे।

स्त्री स्वर्ग का फाटक
सारी निर्दयता का अंत
स्त्री की जांघ पर जा बैठा
अब स्त्री की उतनी ही जरुरत थी
जितनी खाट की ,सवारी की, छत की।
स्त्री अब कोई चीज बड़ी है मस्त मस्त थी।
...धन्यवाद












13 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात भाई कुलदीप जी
    एक अच्छी प्रस्तुति
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  2. ऊषा स्वस्ति !
    वाह.... भाई कुलदीप जी ! विचारोत्तेजक भूमिका के साथ गंभीर चिंतन के बिषय बड़ी ही ख़ूबसूरती से संजोये हैं आपने आज की प्रस्तुति में। सभी चयनित रचनाकारों को बधाई एवं शुभकामनाऐं। मेरी रचना को शामिल करने हेतु बहुत -बहुत शुक्रिया। आभार सादर।

    जवाब देंहटाएं
  3. आदरणीय विभा दीदी को जन्म दिवस की ढेरों मंगलकामनाऐं !

    जवाब देंहटाएं
  4. सुन्दर प्रस्तुति कुलदीप जी । विभा जी को जन्मदिन पर शुभकामनाएं।

    जवाब देंहटाएं
  5. आदरणीय "कुलदीप'' जी शुभ प्रभात आज का अंक बड़ा ही क्रांतिकारी अंक है और आपके विचार पूर्णतः सत्य है ये क्रांति की मशाल थामे रहिए ,राष्ट्र को आप जैसे सपूतों की आवश्यकता है। रचनाओं का चयन उम्दा ! शुभकामनाओं सहित ,आभार ''एकलव्य"

    जवाब देंहटाएं
  6. आदरणीय कुलदीप जी,
    सुप्रभात,
    आपने बहुत ओजपूर्ण पंक्तियाँ लिखी ऐसे प्रकरणों पर वैचारिक मंथन आवश्यक है,सभी अपने स्वार्थ पूर्ति में व्यस्त हो जाते है।पहल से ही हल निकलता है।
    बहुत सुंदर लिंकों का संयोजन आज के अंक की।
    सभी चयनित रचनाकारों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ।

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति ,,,

    जवाब देंहटाएं
  8. गम्भीर ,हलचल प्रस्तुति ,सत्य,विचरणीय

    जवाब देंहटाएं

  9. सुन्दर और सारगर्भित प्रस्तुति कुलदीप जी..
    बहुत बढिया लिकों का संयोजन आज के अंक की।
    सभी चयनित रचनाकारों को बधाई..

    जवाब देंहटाएं
  10. सुन्दर उम्दा लिंक संकलन.....ए

    जवाब देंहटाएं
  11. धीर गंभीर हलचल आज की ...
    आभार मुझे भी शामिल करने के लिए ...

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...